• shareIcon

चश्‍मा पहनने वालों की सौंदर्य समस्याएं

चश्मा पहनने वाले लोगों को बहुत सी सौंदर्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उन्हें डार्क सर्कल हो जाते हैं, फेसपैक लगाने में दिक्कत होती है। शेविंग नहीं कर पाती क्योंकि नहाते हुए चश्मा नहीं लगाया जा सकता।

फैशन और सौंदर्य By Shabnam Khan / Dec 09, 2014

चश्मा और सौंदर्य समस्याएं

जब हम छोटे होते हैं, तो अक्सर चश्मा पहने लोगों को देखकर उसे पहनने की चाहत करने लगते हैं। बचपन में आकर्षक लगने वाला चश्‍मा अगर कहीं जवानी में हमारी आंखों पर टंग जाए, तो उतनी ही बड़ी मुसीबत लगने लगता है। खासतौर पर, महिलाओं को इसकी वजह से काफी मुसीबतें झेलनी पड़ती हैं। जब महिलाओं को सजना-संवरना होता है तो उन्हें चश्मे से बड़ी दिक्कत होती है। हालांकि, कॉन्टेक्ट लेंस ने इस मजबूरी को कुछ हद तक कम किया है, लेकिन कुछ महिलाएं कॉन्टेक्ट लेंस लगाना पसंद नहीं करतीं। उन्हें चश्मा सबसे आरामदेह विकल्प लगता है। आइये जानते हैं चश्मा पहनने वाले लोगों को कौन सी सौंदर्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
Image Source - Getty Images

फेसपैक लगाना

फर्ज कीजिए, रविवार है। आप घर पर हैं और इस छुट्टी वाले दिन आप अपनी ब्यूटी केयर और घर के साप्ताहिक कामकाज एक साथ करना चाहती हैं। वैसे तो ये आम बात है, और अमूमन महिलाएं ऐसा करती हैं। लेकिन अगर आप चश्मा पहनती हैं, और आप चाहें कि कोई फेसपैक लगाकर आप उसके सूखने तक काम निपटाती रहे, तो ये जरा मुश्किल है। चेहरे पर पैक लगाने के बाद अगर आप चश्मा लगा लेती हैं तो आपके चश्मे में वो पैक चिपक सकता है। इससे लेंस से दिखना मुश्किल होता है। अब नींबू, बेसन या फिर शहद चश्मे के लेंस पर लग जाए तो कैसे भला कोई साफ देख पाएगा? इसके अलावा, फ्रेम पर भी पैक चिपक जाता है। आपके लिए सबसे बेहतर यही है कि फेसपैक लगाकर चश्मा बिना पहनें कुछ देर उसके सूखने का इंतजार कर लें।
Image Source - Getty Images

शेविंग

आमतौर पर महिलाएं नहाने के दौरान शेविंग किया करती हैं। लेकिन नहाते हुए चश्मा कौन पहनता है भला? बस... यही समस्या है। चश्मा पहनने वाली महिलाएं अगर चश्मा उतारकर शेविंग करती हैं तो कोई न कोई हिस्सा ऐसा छूट ही जाता है जिस पर बाल होते हैं। इसके अलावा, कट पड़ने का डर भी होता है। शेविंग जैसे काम के लिए देखना बहुत जरूरी चीज है। अगर आप बिना देखे शेविंग करती हैं तो जाहिर तौर पर आपका अनुभव अच्छा नहीं होगा।
Image Source - Getty Images

आंखों का मेकअप

कुछ लोगों का विजन इतना कमजोर होता है कि वे बिना चश्मा लगाए कोई काम कर ही नहीं सकते। खासतौर पर ऐसे काम, जिनके लिए देखना बहुत जरूरी हो। ऐसे में आई मेकअप करना अपने आप में बड़ी चुनौती होता है। सबसे पहली मुसीबत मेकअप लगाने की होती है। पलकों पर मस्कारा लगाना हो या फिर आई लाईनर, ये दोनों काम बारीक होते हैं। इन्हें चश्मा लगाकर नहीं किया जा सकता। इस वजह से चश्मा लगाने वाले लोगों को चश्मा उतारकर आईने के एकदम नजदीक आकर कोशिश करनी पड़ती है। दूसरी दिक्कत यह होती है कि चश्मे के अंदर की आंखों का मेकअप सबको दिखे इसके लिए आपको मेकअप कुछ ज्यादा करना पड़ जाता है। आई-लाइनर और काजल मोटा लगाना पड़ता है। आई-शैडो तीन कोट लगाए बिना काम नहीं चलता।
Image Source - Getty Images

सनग्लासेज

धूप में निकलने से पहले लोग अकसर सनग्लासेज लगाते हैं। इससे उनकी आंखों और आंखों के आसपास की त्वचा को सुरक्षा मिलती है। लेकिन जो लोग चश्मा लगाते हैं वो सनग्लासेज कैसे लगा सकते हैं? इसलिए चश्मा लगाने वाले लोगों को धूप से सुरक्षा नहीं मिल पाती। उनकी कमजोर आंखों को धूप का नुकसान भी झेलना पड़ता है।
Image Source - Getty Images

डार्क सर्कल

डार्क सर्कल्स यानी आंखों के आसपास काले गड्ढे किसी की भी सुंदरता के लिए अच्छे नहीं माने जाते। चश्मा लगाने वाली महिलाओं की समस्या ये होती है कि चाहे वो कितनी भी देखभाल क्यों न कर लें, उनके डार्क सर्कल जरूर हो जाते हैं। इसका कारण ये होता है कि चश्मा लगाने से आंखों के पास त्वचा का कुछ हिस्सा दब जाता है (नाक के किनारे)। इस वजह से खून का दौरा ठीक नहीं रहता और डार्क सर्कल्स हो जाते हैं।
Image Source - Getty Images

हैट और हेयरबैंड लगाने की मुसीबत

खूबसूरती और फैशन के बीच गहरा संबंध है। चश्मा पहनने वाले लोग बहुत सी फैशन एक्सेसजरीज पहनने में झिझकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि बहुत सी एक्सेसरीज पहनना उनके लिए आसान नहीं होता। जैसे कि अगर हेयरबैंड लगाना हो, या फिर हैट पहननी हो तो चश्मा लगाते हुऐ ऐसा करना मुश्किल होता है। ये सब चीजें काने के पीछे वाले हिस्से पर टिकती हैं। इस छोटी सी जगह पर दो या तीन एक्सेसरीज टिकाना आसान बात नहीं है।
Image Source - Getty Images

कैसे बनाएं चश्मे के साथ जिंदगी आसान

चश्मा लगाकर ब्यूटी और फैशन का संतुलन बनाए रखना मुश्किल जरूर होता है। आप चश्मे वाली अपनी जिंदगी के साथ नए प्रयोग भी कर सकते हैं। मसलन, आपको अपनी आंखों को धूप से बचाना है तो सनग्लासेज की जगह फोटोक्रॉमिक लेंस का चश्मा लगा सकते हैं। डार्क सर्कल वाली समस्या से निपटने का तरीका ये है कि आप अपने आंखों के आसपास की जगह की क्रीम से मसाज करें। ब्लड सर्कुलेशन ठीक होने से डार्क सर्कल की समस्या ठीक हो सकती है। कोशिश करें कि रोज रात को सोने से पहले किसी अच्छी नाइट क्रीम या एलोवेरा जेल से मसाज करें। जहां तक बात रही आंखों के मेकअप की तो डार्क मेकअप करें।
Image Source - Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK