Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

हॉर्मोंस को कुदरती तौर पर कैसे करें नियंत्रित

पुरुषों और महिलाओं दोनों में पाये जाने वाले कई तरह के हॉर्मोंस में से कुछ का असर सीधे रोजमर्रा के जीवन पर पड़ता है। इसलिए इन्‍हें नियंत्रण में रखना चाहिए।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja SinhaNov 15, 2014

हार्मोंन को नियंत्रित करने के उपाय

एस्ट्रोजन, प्रोजेस्ट्रोन, टेस्टोस्टेरोन, थायराइड, कोर्टिसोल, इंसुलिन आदि का नाम आपने सुना होगा। ये हार्मोंस शरीर में मौजूद कोशिकाओं और ग्रन्थियों से निकलने वाले केमिकल होते हैं, जो शरीर के दूसरे हिस्से में मौजूद कोशिकाओं या ग्रन्थियों पर असर डालते हैं। इन हार्मोंस का सीधा असर हमारी चयापचय क्रिया, प्रतिरक्षा प्रणाली, प्रजनन तंत्र, शरीर के विकास और मूड पर पड़ता है। किसी भी तरह के हॉर्मोन का तय से ज्यादा या कम मात्रा में निकलने को हॉर्मोन असंतुलन कहा जाता है। पुरुषों और महिलाओं दोनों में पाये जाने वाले कई तरह के हॉर्मोंस में से कुछ का असर सीधे रोजमर्रा के जीवन पर पड़ता है। इसलिए इन्‍हें नियंत्रण में रखना चाहिए। यहां दिए प्राकृतिक तरीकों से आप इन्‍हें नियंत्रित में रख सकते हैं।      
image courtesy : getty images

सफेद खाद्य पदार्थ से बचें

डॉक्‍टर क्रिस्टियन हार्मोन बैलेंस फूड प्‍लान के अनुसार, हार्मोंन के संतुलन को बनाये रखने के लिए अपने भोजन में परिष्‍कृत कार्बोहाइड्रेट वाले आहार जैसे, शुगर, सफेद चावल, ब्रेड, एल्‍कोहल और सफेद आटे से बने खाद्य पदार्थ जैसे माफिन, पास्‍ता, प्रेट्जेल और अन्‍य स्‍नैक्‍स को लेने से बचें।   
image courtesy : getty images

ओमेगा -3 फैटी एसिड का सेवन

अधिक पॉलीअनसेचुरेटेड ओमेगा-3 फैटी एसिड का सेवन, हार्मोंन को संतुलन करने के सबसे आसान तरीकों में से एक है। इसके लिए  आप मछली के तेल या शाकाहारी तेल जैसे चिया बीज, अलसी और अखरोट का प्रयोग कर सकते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।  
image courtesy : getty images

कमर्शियल तेलों से बचें

कई कमर्शियल तेलों में ओमेगा-6 फैटी एसिड होता है, जो हृदय रोग और हार्मोंनल असंतुलन का कारण बनते हैं। ऐसे तेलों के सेवन से बचना चाहिए। वनस्‍पति तेल, मूंगफली तेल, कनोला तेल, सोयाबीन तेल आदि में नकली मक्खन और अन्‍य केमिकल फैट होते हैं। इनकी जगह फैट/तेल जैसे नारियल तेल और जैतून तेल को चुनें।  
image courtesy : getty images

कै‍फीन से बचें

बहुत ज्‍यादा कैफीन पीने से नींद में खलल आता है। इससे कोर्टिसोल का स्‍तर बढ़ता और थायरॉयड का धीमा होता है। साथ ही इसका आपके पूरे शरीर पर बहुत बुरा असर पड़ता है। इसलिए आप कैफीन के स्‍थान पर दिन में 1-2 बार ग्रीन या तुलसी की चाय लें। इससे हार्मोंन संतुलन होने के साथ-साथ वजन भी कम होगा और कैंसर भी आपसे दूर रहेगा।  
image courtesy : getty images

नारियल तेल और एवोकाडो का सेवन

यह संतृप्‍त वसा के अन्‍य स्‍वस्‍थ सूत्रों में से एक है। और टेस्‍टोस्‍टेरोन या महिला हार्मोंन को बढ़ावा देने का सबसे अच्‍छा तरीका है। कोलेस्‍टॉल स्‍वस्‍थ कोशिका झिल्‍ली के गठन के लिए आवश्‍यक होता है और सभी स्‍टेरॉयड हार्मोंन (प्रोजेस्टेरोन, एस्ट्रोजन, एफएसएच आदि) के लिए अग्रदूत है। हम संतृप्‍त वसा की पर्याप्‍त मात्रा के बिना उचित हार्मोनल संतुलन की कल्‍पना भी नहीं कर सकते।  
image courtesy : getty images

लेप्टिन को नियंत्रित रखें

लेप्टिन भूख और चयापचय को नियंत्रित करने वाला एक हार्मोन है। लेकिन हम बहुत अधिक चीनी या प्रसंस्‍कृत खाद्य पदार्थों के सेवन  और नींद की कमी के परिणामस्‍वरूप भोजन के प्रति लालसा और धीमी चयापचय का अनुभव के कारण लेप्टिन के स्‍तर में कमी पैदा कर देते हैं। इसलिए लेप्टिन के स्‍तर को नियंत्रित करने के लिए अनाज से भरपूर आहार, चीनी की कम मात्रा और भरपूर नींद लें।
image courtesy : getty images

विटामिन 'डी' का सेवन

विटामिन 'डी' हमारे शरीर में एक हार्मोंन की तरह कार्य करता है और इसकी कमी से एलर्जी, अस्‍थमा, वजन बढ़ना, थकान, खाद्य एलर्जी और कैंसर की समस्‍या भी हो सकती हैं। विटामिन 'डी' प्राप्‍त करने का सबसे अच्‍छा जरिया सूरज है, लेकिन अक्‍सर सूरज की रोशनी पर्याप्‍त नहीं होती। विटामिन डी का स्तर स्वास्थ्य सेवा प्रदाता द्वारा परीक्षण किया जा सकता है, और पूरक विटामिन डी विभिन्न रूपों में पाया जा सकता है।
image courtesy : getty images

शलजम की जड़ों का सेवन

शलजम की जड़े, हार्मोन का उत्पादन और कामेच्छा बढ़ाने में मदद करती है। इसके सेवन से पुरुषों में शुक्राणु उत्पादन में वृद्धि, कामेच्छा, और बेहतर नींद जबकि कई महिलाओं पीएमएस के लक्षणों में कमी, प्रजनन, और बेहतर और स्‍वस्‍थ त्वचा नोटिस की गई। मका मिनरल और आवश्‍यक फैटी एसिड से भरपूर होने के कारण हार्मोंन के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इसका स्‍वाद बहुत अच्‍छा होता है, और यह कैप्‍सूल के रूप में भी उपलब्‍ध है।
image courtesy : bigcommerce.com

फाइबर की अधिक मात्रा

फाइबर पुराने एस्ट्रोजन से खुद को बांधने, सिस्‍टम को साफ करने और बेहतर तरीके से संतुलन बनाने में मदद करता है। एस्‍ट्रोजन के प्रभुत्‍व से पीड़ि‍त पुरुषों और महिलाओं के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इसलिए भरपूर मात्रा में फाइबर के लिए अपने आहार में कच्‍चे फल और सब्जियों को शामिल करें।
image courtesy : getty images

तनाव का प्रबंधन

येल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के अनुसार, सब कुछ सही करने के बावजूद भी अगर आप तनाव ग्रस्‍त है तो कोर्टिसोल का उच्‍च स्‍तर आपके सारे हार्मोंन को असंतुलन कर देगा। कोर्टिसोल का उच्‍च स्‍तर आमतौर पर वजन के साथ संघर्ष कर रहें लोगों को भी प्रभावित करता है। यहां तक कि पतले लोग भी कोर्टिसोल को लेकर चिंता महसूस करते हैं क्‍योंकि कोर्टिसोल का उच्‍च स्‍तर, पतली महिलाओं की पेट की चर्बी को बढ़ा सकता है।   
image courtesy : getty images

चेस्‍टबेरी का सेवन

प्रोलैक्टिन का उच्‍च स्‍तर अनियमित मासिक धर्म की समस्‍या का कारण बनता है। चेस्‍टबेरी पिट्यूटरी ग्रंथि से प्रोलैक्टिन की रिहाई को दबाने का काम करती है। इसलिए पीएमएस या रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने के लिए हर्बल गुणों से भरपूर चेस्‍टबेरी का सेवन करें।   
image courtesy : girlishh.com

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK