Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

खुद से बनायें चिंता से बचने के तरीके

व्यर्थ की चिंता आगे चलकर एक बीमारी का रूप ले लेती है, जो लोग चिंता से दूर रहते हैं वे कठिन से कठिन परिस्थिति में भी संभावना ढूंढ ही लेते हैं, बस खुद से चिंता से बचने के तरीके बनाने पड़ते हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Rahul SharmaSep 20, 2014

खुद से करें चिंता को दूर

पूर्णरूप से तनाव मुक्त जीवन एक कल्पना ही है, फिर भी प्रभावशाली व्यक्तित्व के लिए इसका होना काफी हद तक जरूरी भी है। लेकिन जब तनाव एक सीमा से पार हो जाता है, तो चिंता बहुत ज्यादा हो जाती है और इसका दुष्प्रभाव शरीर पर भी पड़ता है। चिंता होना स्वभाविक है, लेकिन व्यर्थ की चिंता आगे चलकर एक बीमारी का रूप ले लेती है। हालांकि ये सब हमारे सोचने के तरीके और मन की उपज होती है, और इससे खुद ही बाहर आया जा सकता है। और जीवन को सरल और आसान बनाया जा सकता है। तो चलिये जानें खुद से चिंता से बचने के तरीके कैसे बनाएं।    
Image courtesy: © Getty Images

आकलन करना सीखें

आपकी उपस्थिति वातावरण को जैसे प्रभावित करती है, आप भी आंकलन कर उस प्रकार से चीजों को व्यवस्थित कर लें, क्योंकि हम अपने भीतर को ही बाहर विस्तारित और काफी हद तक प्रदर्शित भी करते हैं। हमारे भीतर की हलचल या हमारे भीतर का स्थिर रहना बाहर को बेहद प्रभावित करता है।
Image courtesy: © Getty Images

शारीरिक शांति

खुद के शरीर का सम्मान करें। उस पर तत्कालिक बुरी आदतें को न थोपें। उसकी सेहत का पूरा खयाल रखें। पवित्रता और नियम बनाए रखने से शरीर शांत रहता है। बेहतर खाएं और बेहतर सोचें। तन स्वस्थ रहेगा तो मन को भी सकारात्मकता मिलेगी।
Image courtesy: © Getty Images

मन की शांति

मन को शांत रखने के लिए प्राणायाम और ध्यान का नियमित अभ्यास करने से बेहद लाभ होता है। इससे मन के भीतर चल रही अशांत करने वाली उठा-पटक दूर होती है। मन की अशांति के कारण शरीर की सेहत भी खराब होती है।
Image courtesy: © Getty Images

थोड़े अनुशाषित बनें

काम को टालने की आदत से बचें, आगे के कामों की एक अग्रिम सूची बना लें, और फिर सूची के अनुसार कार्य करें। हां, अपने पास उतना ही काम लें, जितना कि आप आराम से और पूरी गुणवत्ता के साथ कर पाएं। समय का प्रबंधन सही से करें, क्योंकि समय अमूल्य है, इसका उपयोग ध्यानपूर्वक करें।
Image courtesy: © Getty Images

खुल कर जीना सीखें

शोध से पता चलता है कि पालतू पशु के साथ समय बिताने या मछलियों को टैंक में देखने से मन को शांति होता है। इसके अलावा कुछ मनपसंद गतिविधि जैसे-बागवानी, घूमना, मनपसंद खेल, टीवी देखना, संगीत, समाचार, पत्र-पत्रिका वाचन, लेखन आदि शौक पूरे करें। कुछ समय बाहर बिताएं, छोटी-छोटी अच्छी बातों पर गौर करें, आपको महसूस होगा कि जिंदगी में खुश होने और जीने लायक कितना कुछ है।
Image courtesy: © Getty Images

नियमित व्यायाम

नियमित व्यायाम करें, व्यायाम अवसाद और चिंता को दूर करने का अच्छा तरीका है। इससे न केवल एक अच्छी सेहत मिलती है बल्कि शरीर में सकारात्मक उर्जा का संचार होता है। व्यायाम करने से शरीर में सेरोटोनिन और टेस्टोस्टेरोन हारमोंस का स्राव होता है जिससे मन स्थिर बनता है। जरूरी नहीं की आप कमर तोड़ व्यायाम ही करें, थोड़ी बहुत एक्सरसाइज भी काफी होती है।  
Image courtesy: © Getty Images

संभावनाओं की तलाश

जो लोग चिंता से दूर रहते हैं वे कठिन से कठिन परिस्थिति में भी संभावना ढूंढ ही लेते हैं। जबकि चिंता से घिर जाने वाले सिर्फ नकारात्मक स्थिति में ही घिरे रहते हैं। जिस कारण आशंकित होकर उस स्थिति में श्रेष्ठ प्रयास की योग्यता भी वे खो देते हैं। तो बेहतर होगा कि नई संभावनाओं की तलाश करते हुए चिंतित स्वभाव को एक तरफ रख सकारात्मक जियें।
Image courtesy: © Getty Images

अच्छे और सकारात्मक दोस्त बनायें

अच्छे और सकारात्मक दोस्त न सिर्फ आपको आवश्यक सहानुभूति देते हैं, बल्कि तिंता के समय आपको सही निजी सलाह भी दे पाते हैं। इसके अलावा, जरूरत के समय एक अच्छा श्रोता साथ होना नकारात्मकता और संदेह को दूर करने में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
Image courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK