Subscribe to Onlymyhealth Newsletter
  • I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.

8 लक्षण बताते हैं कि आपको डर हैं कि लोग क्‍या सोचेंगे

जिंदगी आपकी है और इसे अपने तरीके से जीने और समझने का का आपका पूरा अधिकार है। इसलिए इस बात पर बिलकुल ध्‍यान न दें कि लोग आपके बारे में क्‍या सोचते हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनपर लोग क्‍या सोचेंगे का बहुत असर पड़ता है।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Pooja SinhaApr 04, 2015

क्‍यों लोगों की सोच से डरते हैं हम

मनुष्‍य सामजिक प्राणी है और उसे परिवेश के साथ तालमेल बिठाने के लिए एक दूसरे पर न केवल भरोसा करना पड़ता है साथ ही दूसरे लोग जो उसके बारे में कहते हैं उसका भी ध्‍यान रखना पड़ता है। इसके लिए लोग दिखावा भी करते हैं और खुद को ऐसा दिखाते हैं जैसे उसके अंदर बुराई नहीं है। लेकिन सच यह है कि जिंदगी आपकी है और इसे अपने तरीके से जीने और समझने का पूरा अधिकार आपका है। इसलिए इस बात पर बिलकुल ध्‍यान न दें कि लोग आपके बारे में क्‍या सोचते हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनपर दूसरों की सोच का असर अधिक पड़ता है, यदि आप भी उनमें से एक हैं तो आपके अंदर इस तरह के लक्षण हो सकते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

सच बोलने में असफल

कितनी बार स्‍वयं को कुछ भी कहने से सिर्फ इसलिए रोक लेते हैं कि कहीं आपकी नौकरी खतरे में न पड़ जाये, या आपका पार्टनर आपसे रूठ न जाये या आपका दोस्‍त आपसे विमुख न हो जाये। कितनी बार आप अपने सच को (अपनी ईमानदारी, आत्म-सम्मान, और प्रामाणिकता के साथ) निगल लेते हैं। लेकिन अगर हर बार आप अपनी बात को कहने में असमर्थ होते हैं तो तनाव प्रतिक्रिया सक्रिय होकर शरीर की प्राकृतिक आत्म चिकित्सा तंत्र कमजोर होने लगता है और आपका स्‍वास्‍थ्‍य जोखिम में पड़ सकता है। इसके अलावा, आप अपनी आत्मा का भी उल्लंघन करते है। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो आपको भी लोगों क्‍या कहेंगे क्‍या डर सताता है।
Image Courtesy : Getty Images

समाज की चाटुकारिता करना

आप ऐसे कई लोगों को जानते होगें जो भीड़ में आने के बाद हर समय खुद को साबित करने के लिए अपनी धुन, उपस्थिति, पसंद और राजनीतिक दल को बदल लेते हैं। इस तरह से लोग क्‍या सोचेंगे इस बात का ध्‍यान रखने वाले लोग भी अक्‍सर भीड़ में आकर खुद को साबित करने के लिए खुद को बदलने लगते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

आप झूठ भी बोलते हैं

झूठ बोलने की एक और वजह है, डर। लोग या तो सच बोलने के नतीजे से डरते हैं, या फिर इस बात से कि सच बोलने पर दूसरे उनके बारे में क्या सोचेंगे। हर इंसान में यह चाहत होती है कि दूसरे उसे पसंद करें या उसे अपना दोस्त मानें। इसलिए अगर आपको लगता है कि आपके सच को लोग पसंद नहीं करेंगे तो आप झूठ बोलने लगते हैं।  
Image Courtesy : Getty Images

बात-बात पर माफी मांगना

बिना किसी गलती के भी आप दूसरों से माफी मांगने लगते हैं। अगर आपको लगता है कि आपकी छोटी से बात से दूसरे लोग आपको पहचानने, हंसने या मान्‍यताएं बनाने लगते हैं तो आप अपनी इच्‍छा के विरूद्ध खुद को उन लोगों के साथ सहमत होने का नाटक करने लगते है।
Image Courtesy : Getty Images

सामाजिक स्थितियों से बचना

आपको अपने अंतर्मुखी होने पर गर्व हैं, इसलिए आप पार्टियों में जाने के इच्‍छुक नहीं होते। लेकिन अंतर्मुखी लोग समाज के डर और समुदाय की लालसा के कारण सामाजिक वातावरण में जाते हैं। लेकिन हमारे बीच में से सबसे बहिर्मुखी सामजिक स्थितियों से बचते है और दूसरे उनके बारे में क्‍या सोचेंगे इसकी चिंता करने में व्‍यस्‍त रहते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

अपनी विशिष्टता को छिपाना

अगर आप इस डर में जीते हैं कि लोग आपके बारे में क्‍या सोचते हैं तो आप भीड़ का अनुसरण करने में दबाव महसूस करते है। यहां तक कि आप अपने अंदर की विशष्टिता को भी छिपाने लगते है। ऐसा करने से तनाव प्रतिक्रियाओं के सक्रिय होने से आपमे बीमारी होने की आंशका अधिक होती है। इसलिए आपकी अपने बारे में राय कहीं ज्यादा मायने रखती है बजाय दूसरों की राय (आपके बारे में) के, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपकी नजर में दूसरे कितने समझदार, ज्ञानी या नेकनीयत हैं।  
Image Courtesy : Getty Images

दूसरे व्यक्ति के बारे में अधिक सोचना

अगर आप लगातार दूसरे के मन को पढ़ने की कोशिश में इतने व्‍यस्‍त रहते हैं तो आप वास्‍तव में इस पल में मौजूद नही हैं। आप आप निश्‍चित रूप से प्रकृति की देन इस सुंदर, अद्वितीय आत्‍मा की ओर ध्‍यान नहीं दे रहे हैं। जिंदगी का एक सच यह भी है कि आप लाख चाहें पर आप एक ही समय में हर किसी को खुश नहीं रख सकते हैं, कोई न कोई तो आपसे असंतुष्ट तो रहेगा ही। ऐसे में अगर आप हर किसी को खुश रखने और मनाने में लगे रहेंगे तो कभी भी अपनी जिंदगी शांति और सुकून के साथ नहीं जी पाएंगे। और आपकी आत्‍मा हमेशा परेशान ही रहेगी।
Image Courtesy : Getty Images

खुद को परफेक्‍ट बनाने की कोशिश करना

सामान्‍यतया हम अपने दिमाग का 4-5 पतिशत ही प्रयोग कर पाते हैं, इसका मतलब यही है कि हम अपने दिमाग का पूरा इस्‍तेमाल नहीं कर पाते। जब हम अपने दिमाग का पूरा इस्‍तेमाल कर ही नहीं पाते तो पूर्ण कैसे हो सकते हैं, इस बात को सोचना बहुत जरूरी है। इसलिए अगर आप यह कोशिश कर रहे हैं कि आप परफेक्‍ट हो जायेंगे तो आप गलत हैं।
Image Courtesy : Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK