• shareIcon

आपके बच्‍चे के लंचबॉक्‍स में छिपी होती हैं ये 7 चीजें

सभी अपने बच्‍चे को हेल्‍दी और पौष्टिक आहार देने की कोशिश करते हैं, लेकिन उनके बच्‍चे की टिफिन में कुछ ऐसी चीजें छिपी होती हैं जो अस्‍वस्‍थ हैं और बीमार कर सकती हैं, इसके बारे में भी जानिए।

परवरिश के तरीके By Pooja Sinha / May 11, 2015

हेल्‍दी हो बच्‍चों का टिफिन

हर मां चाहती है कि उसका बच्‍चा स्‍वस्‍थ रहे। इसलिए उसकी कोशिश होती हैं कि वह अपने बच्‍चे के लंच बॉक्‍स में ऐसे आहार रखे जो उसकी पसंदीदा होने के साथ-साथ उनको स्‍वस्‍थ भी रखें। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि आपके बच्‍चे के हेल्‍दी लंच बॉक्‍स में आप अनजाने में ऐसी चीजें रख देती हैं जिनकी असलियत को जानकर आपको भी झटका लग सकता है। तो क्‍या आपके बच्‍चे के लंचबॉक्‍स में छिपी हैं ये चीजें।
Image Source : Getty

बीवर एनल ग्‍लैंड जूस

यह आपको आमतौर पर वेनिला और रास्‍पबेरी स्‍वाद के आहार और पेय पदार्थों और पुडिंग में मिलता है। लेबल पर इसे कस्टोरुम कहा जाता है और इसे नैचुरल फ्लेवर के रूप में जाना जाता है। हालांकि एफडीए ने इसकी पहचान आमतौर पर उपभोग के लिए सुरक्षित की है। लेकिन इसके लिए आप सादे किस्म की वैराइटी या ताजा रास्‍पबेरी ले सकते हैं।
Image Source : Getty

ह्यूमन हेयर

यह ब्रेड में मिलता है और लेबल पर इसे एल-सिस्‍टीन के नाम से जाना जाता है। अब प्रश्‍न यह उठता है कि यह ब्रेड में क्‍या कर रहा है? यह एक एमिनो एसिड है जो ब्रेड को पकने के समय को कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह केमिकल मानव बाल, बतख के पंख और सुअर के बाल को घुला कर बनाया जाता है। एल-सिस्टीन का उत्‍पादन आमतौर पर चीन में होता है और ब्रेड को सॉफ्ट करने के रूप में दुनिया के कई हिस्‍सों में पहुंचा दिया जाता है। यह आमतौर पर हानिरहित होता है लेकिन क्‍या आप चाहते हैं कि आपका बच्‍चा बालों वाला सैडविच लें। इसलिए अपने पसंदीदा पाव रोटी के लेबल की जांच करें या अपने स्थानीय बेकरी पर ताजा बेक्ड ब्रेड खरीदें।
Image Source : Getty

रेत

यह रेडिमेट सूप में पाया जाता है और लेबल पर इसका नाम सिलिकॉन डाइऑक्साइड होता है। यह रेत से बनाया जाता है और बाइंडिंग कणों को एक साथ रखने के लिए एंटी-क्लम्प एजेंट के रूप में आहार में मिलाया जाता है। एफडीए ने प्र‍त्‍येक उत्‍पाद में इसकी सीमित मात्रा इस्‍तेमाल करने की अनुमति दी है, इसलिए आप अपने बच्‍चे के सूप थर्मस में इसके खतरनाक स्‍तर को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं हैं। लेकिन आप इसके लेबल की जांच करके स्‍टार्च से सूप बनाने पर इसके योज्‍य से बच सकते हैं। या आप अपने बच्‍चों को ताजी सब्जियों का सूप बनाकर दे सकते हैं।
Image Source : Getty

भेड़ का पसीना

यह गम में पाया जाता है लेकिन इसे लानौलिन, गम बेस, स्निग्ध एल्कोहल, कोलेस्ट्रीन, लानौलिन एल्कोहल, स्टेरोल्स के नाम से लेबल किया जाता है। भेड़ के ऊन से प्राप्‍त तेल को च्यूइंग गम के लिए बेस के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपके बच्‍चे को च्‍यूइंग गम खाना पसंद है तो उसे च्‍यूइंग गम के स्‍थान पर प्राकृतिक कैंडी खाने के लिए कहें।
Image Source : Getty

बीटल्‍स

यह योगर्ट, जूस आदि में पाया जाता है। इसे कारमाइन कोशीनील के नाम से लेबल किया जाता है। यह चमकदार लाल आहार बीटल के पेट से कुचल कर निकाला जाता है और किसी भी आहार या पेय पदार्थों को जीवंत लाल रंग प्रदान करता है। हालांकि एफडी का दावा है कि यह आहार ज्‍यादातर लोगों के लिए सुरक्षित होता है, लेकिन कई लोगों में इससे एलर्जी की प्रतिक्रिया की रिर्पोट भी देखने को मिली है। इसलिए अपने बच्‍चों के लंच बॉक्‍स में इसे शामिल करने से पहले इसके लेबल की अच्‍छे से जांच कर लें।
Image Source : Getty

एनिमल स्किन

अगर आप चाहते हैं कि आपको बच्‍चा अपने लंच बॉक्‍स में एनिमल स्किन का सेवन करने से बचें तो जिलेटिन के लिए अपने अनाज की जांच करें। जिलेटिन चीजों को गाढ़ा करने के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है। जिलेटिन रंगहीन, स्वादहीन, सुखने पर ठोस होने वाला पदार्थ है जिसका निर्माण जीव-जन्तुओं से प्राप्त आमतौर पर गाय और सूअर की, जानवर की खाल से प्राप्त उत्पादों के कोलेजन से किया जाता है।
Image Source : Getty

पेट्रोलियम

आमतौर पर सोडा और जूस में पाया जाने वाला, आटिफिशल फूड डाई रंग के रूप में सूचीबद्ध हैं। यह फूड डाई पेट्रोलियम से बनाई जाती है और आमतौर पर इसे एफडीए द्वारा मंजूरी दी है, लेकिन बच्‍चों में अति सक्रियता में सहयोग के कारण यह हमेशा से विवाद का विषय रहा हैं।
Image Source : Getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK