• shareIcon

सर्दियों से जुड़े सेहत के 7 मिथक

हर मौसम की तरह सर्दियों से जुड़े भी कई मिथक होते हैं। जैसे कि सर्दियों में बाहर निकलने से ठंड लग जाती है। जुकाम हो जाता है जबकि जुकाम जिस वायरस से होता है वो घर में भी हो सकता है।

तन मन By Shabnam Khan / Dec 09, 2014

सर्दियां और मिथक

सेहत के साथ हमेशा से बहुत सारे मिथक जुड़े हुए हैं। उदाहरण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को एक दिन में आठ गिलास पानी पीना चाहिए, ये एक आम मिथक है। सच्चाई यह है कि शरीर में पर्याप्त मात्रा में तरलता बनाए रखने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को कितनी मात्रा में तरल पदार्थ की जरूरत है, यह व्यक्ति के लिंग, गतिविधियों के स्तर और शारीरिक आकार पर निर्भर करता है। इसी तरह से सर्दियों के मौसम में सेहत से जुड़े कई मिथकों के बारे में हम सुन लेते हैं। आइये जानते हैं सेहत और सर्दियों से जुड़े कुछ ऐसे ही मिथकों के बारे में।

Image Source - Getty Images

सर्दियों में बाहर निकले से ठंड लगना

सर्दियों से जुड़ा सबसे आम मिथक ये है कि सर्दियों में बाहर निकलने से ठंड लग जाती है। राइनोवाइरस जो कि सर्दी-जुकाम के लिए जिम्मेदार है, किसी को भी, कहीं भी हो सकता है। यह एक-दूसरे के संपर्क में आने से फैलता है। सर्दियों में हम ज्यादातर घर में रहते हैं। अगर घर में किसी को जुकाम हुआ है तो हमें भी संक्रमण के कारण जुकाम हो सकता है। इसलिए सर्दियों में ठंड लगने के डर से घर में बंद रहने से अच्छा तरीका यह है कि आप थोड़ा बाहर घूम आएं।

Image Source - Getty Images

सर्दियों में नहीं होता डीहाईड्रेशन

सर्दियों में लोग अक्सर पानी नहीं पीते। उन्हें लगता है कि शरीर को सर्दियों में अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती जबकि ये एक मिथक है। हमारी त्वचा और सांस में नमी की कमी का प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ता है। होंठ फटना, शुष्क आंखें और त्वचा में शुष्कता कम तरलता के ही लक्षण हैं। इसीलिए घर के अंदर काम कर रहे हों या सर्दी में बाहर हों, पानी की कमी के दुष्प्रभाव से बचने के लिए अधिक से अधिक पानी पियें।

Image Source - Getty Images

सर्दियों की धूप फायदेमंद

अक्सर लोग सर्दियों की पूरी दोपहर धूप में बिताना पसंद करते हैं। धूप से शरीर को विटामिन डी तो मिलता है लेकिन धूप के कुछ नुकसान भी होते हैं। ये मिथक ही है कि सर्दियों की धूप कोई नुकसान नहीं पहुंचाती। सूर्य की अल्ट्रावॉयलेट किरणें सर्दियों में भी आपकी त्वचा को उतना ही नुकसान पहुंचा सकती है जितना कि गर्मियों में। इसलिए धूप में बैठने से पहले सनस्क्रीन लगाना सर्दियों में भी जरूरी है।

Image Source - Getty Images

सर्दियों में अधिक डैंड्रफ

सर्दियों में डैंड्रफ अधिक होता है और सर्दियां खत्म होने पर ये अपने आप खत्म हो जाता है। दरअसल, ये बात एक मिथक से ज्यादा कुछ नहीं। असल में डैंड्रफ होने की संभावना सर्दी और गर्मी में बराबर ही रहती है। अगर आप डैंड्रफ पर नियंत्रण स्थापित नहीं करते तो मौसम कोई भी हो ये समस्या बढ़ती जाती है। इसलिए, डैंड्रफ दूर करने के उपाय अपनाए, सर्दी जाने का इंतजार न करें।

Image Source - Getty Images

लिपस्टिक लगाने से होंठ नहीं फटते

महिलाओं में ये मिथक सबसे ज्यादा होता है कि सर्दियों में अगर होंठ फट रहे हों तो लिपस्टिक लगाने से फायदा होता है। भूलकर भी ऐसा न करें, इससे आपके होंठों को सिर्फ नुकसान ही होगा। ये एक मिथक है। होंठ अगर फट रहे हों तो लिप बाम लगाएं। इसके अलावा नहाने के बाद या फिर रात को सोने से पहले नाभि में एक चुटकी घी लगा लें।

Image Source - Getty Images

एल्कोहल के सेवन से गर्मी आती है

लोग सर्दियों में एल्कोहल का सेवन ये सोचकर अधिक करने लग जाते हैं कि इससे उन्हें गर्माहट मिलेगी। एल्कोहल के सेवन से शरीर में  गर्माहट और आराम महसूस होता तो है लेकिन वो इस वजह से क्योंकि इसकी वजह से आपका खून आपके आंतरिक अंगों से निकलकर बाहर त्वचा की ओर आता है। इसका मतलब है कि आपके शरीर का मूल तापमान कम होता है। एल्कोहल आपके शरीर की कांपने और अतिरिक्त हीट उत्पन्न करने की क्षमता को कम करता है।

Image Source - Getty Images

सर्दियों में बाल ज्यादा झड़ते हैं

ठंडा मौसम असल में आपके शरीर से बालों को जोडकर रखने में मदद करता है। ज्यूरिक के यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के एक अध्ययन में 823 महिलाओं को 6 साल तक परखा गया। इस अध्ययन में ये पाया गया कि अधिकतर महिलाओं के बाल गर्मियों में अधिक सर्दियों में कम झड़े। हालांकि ड्राई स्कैल्प की वजह से बाल झड़ सकते हैं। ऐसे में अपनी स्कैल्प में तेल से नियमित रूप से मसाज करें।

Image Source - Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK