Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

कहीं आपके शरीर पर नील के निशान इन 7 कारणों से तो नहीं पड़ रहे...

क्‍या आप भी शरीर पर पड़े नील के निशान से परेशान है? क्‍या यह निशान बिना किसी चोट के हर वक्‍त आपके शरीर पर दिखाई देते हैं? और आपको समझ में नहीं आ रहा कि आखिर यह निशान आपके शरीर पर क्‍यों दिखाई देते हैं, तो इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से आप इसके कारणों को

तन मन By Pooja SinhaMar 27, 2017

निशान पड़ने के क्‍या कारण है

त्‍वचा पर चोट लगने से रक्‍त धमनियों को नुकसान पहुंचता है, जिससे शरीर पर नील के निशान पड़ जाते हैं। या आप कह सकते हैं कि चोट से खून रिसने और आसपास की कोशिकाओं में फैल जाने के कारण शरीर की नील के निशान के रूप में प्रतिक्रिया होती है। इसके अलावा नील के निशान बढ़ती उम्र, पोषण की कमी, हेमोफिलिया व कैंसर जैसे कई गंभीर बीमारियों के प्रभाव के कारण भी हो सकते हैं।  
Image Source : Getty

भोजन में पोषक तत्‍वों की कमी

रक्‍त के थक्‍कों और जख्‍मों को भरने में कुछ विटामिन और मिनरल अहम भूमिका होती हैं। इसलिए आहार में इन पोषक तत्‍वों जैसे विटामिन के, सी और मिनरल की कमी से शरीर पर नील के निशान दिखाई देने लगते हैं। विटामिन के खून को जमने में मदद करता है। साथ ही विटामिन सी त्वचा और रक्त धमनियों में अंदरूनी चोट लगने से बचाव करता है। इसके अलावा मिनरल जैसे जिंक और आयरन चोट को जल्‍द ठीक करने वाले आवश्यक मिनरल हैं।
Image Source : Getty

कैंसर और कीमोथेरेपी के कारण

कैंसर में होने वाले कीमोथेरेपी के कारण भी शरीर पर नील के निशान दिखाई देने लगते है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि कीमोथेरेपी के कारण रोगी का ब्‍लड प्‍लेटलेट्स बहुत नीचे आ जाता है। और प्‍लेटलेट्स के नीचे आने से शरीर में बार-बार नील के निशान दिखाई देने लगते हैं।
Image Source : Getty

दवाइयां और सप्लीमेंट के कारण

कुछ दवाइयों और सप्‍लीमेंट के इस्‍तेमाल के कारण भी शरीर पर नील के निशान पड़ने लगते हैं। वार्फेरिन और एस्पिरिन जैसे खून को पतला करने वाली कुछ दवाइयां के कारण खून जमने से रोक जाता है। इसके अलावा प्राकृतिक सप्‍लीमेंट जैसे जिन्‍को बिलोबा, मछली का तेल और लहसुन का अधिक इस्तेमाल भी खून को पतला कर देता है। जिससे कारण शरीर पर नील के निशान पड़ने लगते है।
Image Source : Getty

आनुवंशिक रोग हीमोफीलिया के कारण

हीमोफीलिया आनुवंशिक रोग है जिसमें शरीर के बाहर बहता हुआ रक्त जमता नहीं है। इसके कारण चोट या दुर्घटना में यह जानलेवा साबित होती है क्योंकि रक्त का बहना जल्द ही बंद नहीं होता और बहुत अधिक रक्तस्राव की आशंका रहती है। यह बीमारी रक्त में थ्राम्बोप्लास्टिन नामक पदार्थ की कमी से होती है। थ्राम्बोप्लास्टिक में खून को शीघ्र थक्का कर देने की क्षमता होती है। खून में इसके न होने से खून का बहना बंद नहीं होता है। अत्यधिक या बिना वजह से रक्तस्राव या नील पड़ना हीमोफीलिया का एक लक्षण है।
Image Source : Getty

बढ़ती उम्र भी है कारण

बुढ़े लोगों के हाथों के पीछे नील पड़ना बहुत ही सामान्य बात है। बुढ़े लोगों के नील के निशान इसलिए पड़ते हैं क्योंकि रक्त धमनियां इतने साल सूरज की रोशनी का सामना करते हुए कमजोर हो जाती हैं। ये नील के निशान लाल रंग से शुरू होकर, हलके बैंगनी और गहरे रंग के होते हुए फिर हल्के होकर गायब हो जाते हैं।
Image Source : Getty

थ्रोम्बोफिलिया की समस्‍या के कारण

थ्रोम्‍बोफिलिया रक्त जमावट की विकृति जो थ्रोम्बोसिस (रक्त वाहिकाओं में रक्त के थक्के) के खतरे को बढ़ा देती है। यानी थ्रोम्बोफिलिया एक ब्लीडिंग डिसऑर्डर है जिसमें प्लेटलेट्स बहुत कम हो जाते हैं। और प्‍लेटलेट्स कम होने के कारण शरीर की ब्लड क्लॉट की क्षमता बहुत कम हो जाती है, जिससे कारण शरीर पर नील के निशान पड़ने लगते हैं।
Image Source : ucalgary.ca

वॉन विलीब्रांड डिजीज

वॉन विलीब्रांड डिजीज एक ऐसी अवस्‍था है, जो अत्यधिक या विस्तारित रक्‍तस्राव होने लगता है। वॉन विलीब्रांड नामक प्रोटीन के स्‍तर में रक्त की कमी के कारण यह बीमारी होती है। ऐसे में चोट लगने के बाद बहुत अधिक खून बहने लगता है। इस समस्या से पीड़ित व्‍यक्ति को छोटी सी चोट के बाद भी अक्सर शरीर में बड़े-बड़े नील के निशान दिखाई देने लगते हैं।
Image Source : 4act.com

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK