Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

डिमेंशिया के शुरुआती लक्षण

डिमेंशिया को पहचानने के लिए इसके शुरुआती लक्षणों की जानकारी होना बहुत जरूरी है। इन लक्षणों को पहचानने के बाद आप डिमेंशिया से बच सकते हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Anubha TripathiAug 25, 2014

डिमेंशिया को पहचानें

क्या आपकी याददाश्त कमजोर हो रही है? आप अक्सर भूल जाते हैं कि किस शहर में हैं, कौन-सा महीना या साल चल रहा है। बेवजह गुस्सा आता है? तारीख भी किसी से पूछनी पड़ती है? अगर हां, तो आप डिमेंशिया के शिकार हो सकते हैं। जानिए डिमेंशिया के लक्षणों के बारे में।

भूल जाना

नाम भूलना, चीजों को गुमा देना, अपने नियोजनों को भूलना, शब्दों को याद ना रख पाना, चीजों को सीखने में और उन्हें याद रखने में कठिनाई होती है। डिमेंशिया में दीर्घकालिक और अल्पकालिक स्मृति पर काफी असर पड़ता है, इसलिए आप अपने प्रियजनों, रिश्तेदारों या दोस्तों को पहचानने में भी असमर्थ हो सकते हैं।

शारीरिक ताल-मेल की समस्याएं

शरीर पर नियंत्रण ना होने के कारण आप गिर सकते हैं तथा खाना पकाने में, ड्राइविंग करने में या घर के अन्य कामों को पूरा करने में भी आपको कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। अगर उन्माद बहुत तीव्र हो जाए तो आप अपने रोजमर्रा  के काम जैसे नहाना, कपड़े पहनना, तैयार होना, खाना खाना, शौचालय जाने जैसे काम भी बिना किसी सहायता के नहीं कर पाएंगे।

व्यक्तित्व में परिवर्तन

आप बेवजह बहुत आक्रमक, चिंतित या संदिग्ध हो सकते हैं। सामाजिक तौर पर आप एक आम व्यक्ति ही रहते हैं, पर अचानक आपके व्यक्तित्व में ये बदलाव आते हैं, और जब आप इसे बाहर निकलते हैं आप फिर से एक शांत व्यक्ति बन जाते हैं।

मूड में परिवर्तन

आपके बर्ताव में बदलाव नजर आता है, आपका मिजाज एकदम से बदल जाता है, बेवजह आपको गुस्सा आ जाता है। आप अनुचित व्यवहार प्रकट कर सकते हैं, आप उत्तेजित होकर लोगों के साथ बुरा व्यवहार भी कर सकते हैं।

मतिभ्रम होना

आप लोगों को, जानवरों को या अन्य ऐसी चीजों को देखेगें या सुनेंगे जो वहां थी ही नहीं। भ्रम, अयथार्थता का कारण बन सकता है, उदाहरण के लिए अपने मृत पिता को देखना और यह मानना कि वह जीवित है जबकि वह मर चुकें हैं।

निर्णय लेने में परेशानी

आप में तर्क करने की क्षमता नहीं रहती, आप विकल्पों के बीच निर्णय नहीं ले पाते। उदाहरण के लिए, अगर गर्मी का मौसम है, तो आरामदायक सूती कपड़ा पहनने का निर्णय लेने के बजाह आप सर्दियों वाला मोटा जैकेट पहन लेंगे।

अपनी बात ना कह पाना

डिमेंशिया का शिकार होने पर आप शायद एक भाषा भी ठीक से ना बोल पाएं, अपनी बातों को शब्दों में ना व्यक्त कर पाएं या आपको बातों को या लिखित अक्षरों को समझने में कठिनाई हो सकती है।

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK