हर महिला को पता होने चाहिए कोल्‍ड सोर से जुड़े ये 7 तथ्‍य

कोल्‍ड सोर ऐसी समस्‍या है जिसे अक्‍सर लोग नजरअंदाज कर देते हैं और इसे सिर्फ मुंह के किनारे होने वाला एक साधारण सा पिंपल समझते हैं। लेकिन कोल्‍ड सोर से जुडें ऐसे ही कुछ तथ्‍यों के बारे में हर महिला को पता होने चाहिए।

महिला स्‍वास्थ्‍य By Sheetal Bisht / Apr 24, 2015
कोल्‍ड सोर से जुड़ी जानकारी

कोल्‍ड सोर से जुड़ी जानकारी

कोल्‍ड सोर ऐसी समस्‍या है जिसे अक्‍सर लोग नजरअंदाज कर देते हैं और इसे सिर्फ मुंह के किनारे होने वाला एक साधारण सा पिंपल समझते हैं। इसे फीवर ब्लिस्टर्स या हर्पीज सिम्प्लेक्स भी कहा जाता है। ये पीड़ादायक, द्रव्य से भरे फफोलों के समूह के रूप में नजर आते हैं। कोल्‍ड सोर अधिकतर होठों, नाक के नीचे या ठोड़ी के आसपास पाए जाते हैं। कोल्‍ड सोर से जुडें ऐसे ही कुछ तथ्‍यों के बारे में हर महिला को पता होने चाहिए।

ये होते हैं हर्पीज

ये होते हैं हर्पीज

न्‍यूयॉर्क के डर्मेटोलॉजिस्ट सुसान बार्ड, एमडी के अनुसार, कोल्‍ड सोर्स और जननांग दाद दोनों दाद सिंप्‍लेक्‍स वायरस के कारण होने वाली समस्‍या है। वायरस के दो उपभेद, एचएसवी -1 और एचएसवी -2 होते हैं। आमतौर पर एचएसवी-1 मुंह के छालों के कारण होता है लेकिन एचएसवी-2 सेक्‍स के कारण होता है।

पीड़ादायक द्रव से भरे फफोले

पीड़ादायक द्रव से भरे फफोले

कोल्‍ड सोर को फीवर ब्लिस्टर्स या हरपीज सिम्प्लेक्स भी कहा जाता है। ये पीड़ादायक, द्रव से भरे फफोलों के समूह के रूप में नजर आते हैं। कोल्‍ड सोर अधिकतर होठों के क्षेत्र, नाक के नीचे या ठोड़ी के गिर्द पाए जाते हैं। इन मौखिक घावों का कारण हर्पीज वायरस है और ये बहुत संक्रामक होते हैं। अगर आप एक बार हर्पीज वायरस से संक्रमित हो जाते हैं तो ये शरीर में हमेशा के लिए रह जाता है। कुछ लोगों में ये वायरस निष्क्रिय रहता है और अन्य में यह आवर्तक हमलों का कारण हो सकता है।

आंखों में भी फैल सकता है कोल्‍ड सोर

आंखों में भी फैल सकता है कोल्‍ड सोर

यह वायरस आपके साथी के गुप्‍तांग और आपकी आंखों में भी फैल सकता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसका वायरस त्‍वचा से त्‍वचा के संपर्क में आने से फैलता है। वास्‍तव में सेक्‍स के दौरान ओरल सेक्‍स करने से इसकी वृद्धि होती है। इसके अलावा अगर आप कोल्‍ड सोर को छूने के बाद अपने आंखों को स्‍पर्श करते हैं तो दाने आपकी आई- बॉल के पास फैलने लगते हैं।  

लगभग हर किसी में होता है एचएसवी-1

लगभग हर किसी में होता है एचएसवी-1

मैरीलैंड मेडिकल सेंटर के यूनिवर्सिटी के अनुसार, दस में से लगभग नौ लोगों के पास उनका किसिंग पार्टनर होता है। इसलिए दस में से नौ लोगों को इसके होने की आंशका रहती है। बोर्ड कहते है कि अधिकांश इससे बचपम में ही संक्रमित हो जाते है, आमतौर पर अन्य संक्रमित परिवार के सदस्यों के साथ बर्तन साझा करने या डे केयर में दूसरों के साथ निकट संपर्क में आने के कारण। यह संक्रमण बच्‍चों में बहुत ही आम होता है क्‍योंकि उन्‍हें चीजों को मुंह में डालने की आदत होती है।

दोबारा भी हो सकता है

दोबारा भी हो सकता है

डर्माटोलॉजिक लेजर सर्जरी के वशिंगटन इंस्‍टीट्यूट के एमडी रेबेका काजिन के अनुसार, एक बार हर्पिस वायरस होने के बाद इसे दूर करना बहुत मुश्किल होता है। यह आपकी त्‍वचा के अंदर मवाद के रूप में फैलता है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करने के अलावा कुछ अन्‍य समस्‍याओं का कारण भी बनता है। इसलिए बीमारी और तनाव के साथ कोल्‍ड सोर की समस्‍या बढ़ने लगती हैं। अगर आपको कोल्‍ड सोर की समस्‍या एक साल में छह बार से अधिक होती है तो इसके प्रकोप को रोकने के लिए डॉक्‍टर से बात करनी चाहिए।

पिंपल की तरह बुरे लगते हैं कोल्‍ड सोर

पिंपल की तरह बुरे लगते हैं कोल्‍ड सोर

हालांकि बहुत कम पिंपल्‍स ही होंठ के किनारे निकालते हैं। लेकिन अगर आपके छोटे छाले या फुंसी हो जाती है तो यह कोल्‍ड सोर हो सकता है। इसको पहचानने का एक और तरीका यह है कि यह आसानी से फूट जाते हैं और दूर होने से पहले कई दिनों तक इसकी परत बाहर की तरफ लटकी रहती है। अगर आप इसके बावजूद भी वायरस को लेकर अश्‍वस्‍त नहीं है तो त्‍वचा विशेषज्ञ से इसकी जांच करवा लें।
Image Source : Getty

पूरा चेहरे हो सकता है संक्रमित

पूरा चेहरे हो सकता है संक्रमित

यह होठों के तहत एक दाद संक्रमण है। अगर आपके होंठ के पास कोल्‍ड सोर की समस्‍या है तो यह संक्रमण आपके पूरे चेहरे में फैल सकता है। और अगर आपको कोल्‍ड सोर की समस्‍या का इतिहास है तो होंठो की वैक्‍स करवाने से पहले अपनी त्‍वचा विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK