Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

शराब का ज्‍यादा सेवन के 12 दुष्‍प्रभाव

शराब के अधिक सेवन से हाई ब्‍लड प्रेशर, दिल, लीवर, मोटापा और गठिया जैसी अनेक स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं पैदा हो सकती है। जिसने मुक्‍ती पाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja SinhaMay 19, 2014

ज्‍यादा शराब पीने के नुकसान

इसमें कोई रहस्‍य नहीं है कि शराब के सेवन से कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं जिसमें लीवर की बीमारी सिरोसिस और साथ ही सड़क यातायात दुर्घटनाओं में घायल होने की वजह पैदा कर सकता है। लेकिन क्‍या आपको लगता है कि शराब को पीने से केवल लीवर की बीमारी और कार दुर्घटना जैसे स्‍वास्‍थ्‍य जोखिम के अलावा कोई खतरा नहीं हैं तो फिर से सोचें, शोधकर्ताओं के अनुसार शराब का अधिक सेवन से 60 से अधिक बीमारियों के साथ जुड़ा होता है। यहां पर शराब से जुड़े 12 तरह के नुकसानों के बारे में बताया गया है। image courtesy : getty images

कैंसर

यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के एडिक्शन पॉलिसी विभाग के चेयरमैन, पीएचडी जुर्गेन रेम के अनुसार, नित्य रूप से शराब पीने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, खतरा तब और अधिक बढ़ जाता है जब शरीर में शराब एसीटैल्डिहाइड, शक्तिशाली कैसरजन में परिवर्तित हो जाता है। शराब के अधिक उपयोग से मुंह, गले, ग्रासनली, लीवर, स्तन, पेट और मलाशय के कैंसर होने का खतरा बहुत अधिक रहता हैं। कैंसर के खतरा उन लोगों को बहुत अधिक होता है जो बहुत अधिक शराब पीने के साथ तम्बाकू का सेवन भी करते हैं। image courtesy : getty images

डिमेंशिया यानी पागलपन

उम्र बढ़ने के साथ लोगों में औसत रूप से लगभग 1.9 प्रतिशत की दर से मस्तिष्क सिकुड़ता है। इसे सामान्य माना जाता है। लेकिन अधिक शराब पीने से मस्तिष्क के कुछ महत्वपूर्ण हिस्सों में इस संकुचन की गति बढ़ जाती है जिसके कारण स्मृति हानि और डिमेंशिया के अन्य लक्षण दिखाई देते हैं। image courtesy : getty images

रक्ताल्पता (एनीमिया)

बहुत अधिक मात्रा में शराब पीने से ऑक्‍सीजन ले जाने वाली लाल रक्त कोशिकाओं की संख्‍या असामान्‍य रूप से कम होने का कारण बनता है। इस अवस्‍था को एनीमिया कहते हैं, जिससे कारण थकान, सांस लेने में तकलीफ या सांस का उखड़ना जैसी समस्‍याएं देखने को मिलती हैं। image courtesy : getty images

हृदय रोग

अधिक शराब पीने के कारण प्लेटलेट्स की ब्‍लड क्लॉट्स के रूप में जमा होने की संभावना अधिक होती है जिसके कारण हार्ट अटैक या स्ट्रोक हो सकता है। 2005 में अमेरिका स्थित हॉवर्ड के शोधकर्ताओं ने पाया कि ज्‍यादा शराब पीने वाले उन लोगों में मौत का खतरा दोगुना हो जाता है, जिन्‍हें पहले हार्ट अटैक आ चुका है। image courtesy : getty images

सोरायसिस

लीवर सेल्‍स के लिए शराब जहर के सामान है। अधिक शराब पाने वाले अनेक लोगों को सिरोसिस की शिकायत रहती हैं जो कि कभी-कभी घातक हालत सिद्ध होती है। इस अवस्‍था में लीवर भारी होने के कारण कार्य करने में भी असमर्थ हो जाता है। लेकिन यह बताना कठिन होता है कि किस शराब पीने वाले को सिरोसिस होगा या नहीं।  image courtesy : getty images

डिप्रेशन

इस बात की जानकारी लंबे समय से है कि शराब का अधिक सेवन और डिप्रेशन अकसर साथ साथ रहते हैं, लेकिन इस पर बहस होती रही है कि पहले क्‍या आता है- शराब का सेवन या फिर डिप्रेशन। एक सिद्धांत के अनुसार, अवासदग्रस्‍त लोग अपने भावनात्मक दर्द को कम करने के लिए शराब का सेवन 'स्वयं की औषधि' के रूप में करते हैं। लेकिन 2010 में न्यूज़ीलैंड में हुए अध्ययन से यह पता चला है कि अधिक शराब पीने से डिप्रेशन होता है। image courtesy : getty images

गठिया

गठिया एक दर्दनाक स्थिति है जो जोड़ों और उसके आसपास चारों ओर यूरिक एसिड क्रिस्टल के गठन के कारण होता है। हालांकि, कुछ मामलों में यह वंशानुगत होते हैं, फिर भी शराब और अन्य आहार कारक इसमें महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। शराब गठिया की मौजूदा हालत काफी हद तक बढ़ा देता है।  image courtesy : getty images

दौरा (मिर्गी)

अधिक शराब का सेवन मिर्गी का कारण बन सकता है। यहां तक कि उन लोगों में भी दौरे का कारण बन सकता हैं जिन्हें मिर्गी की शिकायत नहीं है। इसके अलावा शराब का अधिक सेवन इस विकार को दूर करने के लिए ली जा रहीं दवाओं की कार्रवाई में भी हस्तक्षेप कर सकता है। image courtesy : getty images

तंत्रिका क्षति (नर्व डैमेज)

अधिक शराब पीने से तंत्रिका क्षति होती है, जिसे एल्कोहलिक न्यूरोपैथी कहते हैं। शराब तंत्रिका कोशिकाओं के लिए जहर के समान होने और अधिक शराब पीने के कारण होने वाली पोषक तत्वों की कमी तंत्रिका कार्यों को प्रभावित करती है, जिससे एल्कोहलिक न्यूरोपैथी उत्पन्न होती है। इसके कारण हाथ-पांव में दर्दनाक सुइयों जैसी चुभन महसूस होती है और साथ ही मांसपेशीयों की कमज़ोरी, असंयम, कब्ज, स्तंभन दोष और अन्य कई समस्याएं पैदा होती हैं। image courtesy : getty images

संक्रामक रोग

अधिक शराब पीने से इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो जाता है जिससे संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है जिसमें ट्यूबरक्लोसिस, न्यूमोनिया, एच.आई.वी./एड्स तथा अन्य यौन संचारित रोग शामिल हैं। अधिक शराब पीने वाले लोग ज्‍यादातर जोखिम भरे सेक्स में भी संलग्न पाए जाते हैं। जिससे यौन संचारित रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। image courtesy : getty images

पेनक्रियाटिटिस

पेट में जलन पैदा करने के अलावा, शराब पीना अग्न्याशय (पेनक्रिया) में भी जलन का कारण बनता है। पुरानी पेनक्रियाटिटिस पाचन प्रक्रिया में हस्तक्षेप करता है और पेट में दर्द, उल्टी और वजन घटाने का कारण बनता है। पुरानी पेनक्रियाटिटिस के कुछ मामलों पित्त पथरी के कारण होते है, लेकिन उनमें से लगभग 70 प्रतिशत शराब पीने के कारण होते हैं। image courtesy : getty images

हाई ब्‍लड प्रेशर

शराब संवेदी नर्वस सिस्‍टम को बाधित कर रक्त वाहिकाओं के संकुचन और फैलाव को नियंत्रित करता है। शराब विशेष रूप से अत्‍यधिक शराब रक्‍तचाप में वृद्धि का कारण बनता है। समय क साथ इसके प्रभाव बहुत क्रोनिक हो जाते हैं। हाई बीपी कई अन्‍य प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं जैसे किडनी की समस्‍या, हृदय रोग और स्‍ट्रोक का कारण बन जाता है। image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK