• shareIcon

जीरे के 10 चौंकाने वाले साइड इफेक्ट्स

जीरा भोजन में अरुचि, पेट फूलना, अपच आदि जैसे पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने वाली एक विश्वसनीय औषधि है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि जीरे के कई प्रकार के साइड इफेक्‍ट भी होते हैं, तो चिकित्‍सा के लिए इसका उपयोग करने से पहले अपने चिकित्‍सक से परामर्श

घरेलू नुस्‍ख By Pooja Sinha / Mar 25, 2015

जीरे के साइड इफेक्‍ट

जीरा एक ऐसा मसाला है जिसका छौंक लगाने से दाल और सब्जियों का स्वाद बहुत बढ़ जाता है। चाट का चटपटा स्वाद भी जीरे के बिना अधूरा सा लगता है। जीरा के बिना तो भारतीय व्‍यंजनों की कल्‍पना करना भी असंभव सा लगता है। सभी प्रकार के भारतीय व्यंजनों में विशिष्ट स्वाद के कारण जीरा का उपयोग किया जाता है। जीरा पाचक और सुगंधित मसाला है। जीरा भोजन में अरुचि, पेट फूलना, अपच आदि जैसे पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने वाली एक विश्वसनीय औषधि है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि जीरे के कई प्रकार के साइड इफेक्‍ट भी होते हैं, तो चिकित्‍सा के लिए इसका उपयोग करने से पहले अपने चिकित्‍सक से परामर्श अवश्‍य ले लें। आइए जीरे से जुड़ें ऐसे ही कुछ साइड इफेक्‍ट की जानकारी लेते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

हार्ट बर्न

जीरा अपने गैस से राहत देने वाले गुणों के लिए जाना जाता है, लेकिन विडंबना यह है कि यह सबसे आम पाचन संबंधी समस्या, हार्टबर्न का एक कारण हो सकता है! बुक "पॉकेट गाइड टू हर्बल मेडिसिन" के अनुसार जीरा आपके गैस्ट्रोइंटेस्टिनल ट्रैक्ट में अधिक गैस बनने में योगदान देता है।
Image Courtesy : Getty Images

डकार की समस्‍या

जीरे के वातहर प्रभाव के कारण यह अत्‍यधिक डकार का कारण बन सकता है। कभी-कभी डकार में अधिक आंत्र पथ में गैस दके माध्‍यम से बाहर निकलती है। और तो और कभी-कभी डकार से अजीब से गंध और विशेष ध्‍वनि भी आने लगती हैं। हालांकि वास्‍तविक अर्थों में यह कोई समस्‍या नहीं है लेकिन डकार निश्‍चित रूप से शर्मिंदगी का कारण बन सकती है।
Image Courtesy : Getty Images

लीवर को नुकसान

जीरे में मौजूद तेल अत्‍यधिक अस्थिर होने के कारण, अधिक लंबे समय तक जीरे के अधिक मात्रा में इस्‍तेमाल से यह लीवर और किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है। जीरा का तेल मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने या रोकने के लिए जानवरों के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है।
Image Courtesy : Getty Images

गर्भापात का खतरा

जीरे से गर्भवती महिलाओं पर गर्भान्‍तक प्रभाव पड़ सकता है। इसका मतलब ज्‍यादा मात्रा में जीरे के सेवन से गर्भपात या समय से पहले डिलीवरी होने की आंशका बढ़ जाती है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को जीरे के अधिक सेवन से बचना चाहिए।
Image Courtesy : Getty Images

मादक प्रभाव

जीरा में मादक गुण मौजूद होते हैं। इसलिए जीरे का सेवन सावधानी के साथ किया जाना चाहिए, क्‍योंकि यह नशे की लत बन सकता है। जीरे के अन्‍य दुष्‍प्रभावों में मानसिक समस्‍याएं, उनींदापन और मतली जैसी समस्‍याएं भी शामिल है।
Image Courtesy : Getty Images

भारी माहवारी चक्र

जीरे की प्रवृत्ति कम होने के कारण, यह मासिक धर्म के दौरान हैवी ब्‍लीडि़ग का कारण बन सकता है। अगर आपने जीरे का सेवन बहुत अधिक किया है तो हैवी ब्‍लीडिंग के लिए आप जीरे को दोष दे सकते हैं। इ‍सलिए पीरियड्स में हैवी ब्‍लीडिंग से बचने के लिए जीरे का सेवन सीमित मात्रा में ही करें।
Image Courtesy : Getty Images

ब्‍लड शुगर का निम्‍न स्‍तर

अधिक मात्रा में जीरे के सेवन से शरीर में ब्‍लड शुगर का स्‍तर कम होने लगता है। इसलिए निकट भविष्य में एक सर्जरी में जाने से पहले इस बात को याद रखना बहुत महत्‍वपूर्ण हो जाता है। क्‍योंकि सर्जरी के दौरान ब्‍लड शुगर के स्‍तर को बनाये रखना जरूरी होता है। इसलिए डॉक्‍टर सर्जरी के दौरान और बाद ब्‍लड शुगर के स्‍तर को नियंत्रित करने के लिए कम से कम दो सप्‍ताह पहले जीरा बंद करने की सलाह देता है।  
Image Courtesy : Getty Images

डायबिटीज रोगियों के लिए अच्छा नहीं

डायबिटीज रोगियों को अपने ब्‍लड शुगर के स्‍तर को नियंत्रण में रखने की जरूरत होती है। उन्‍हें स्‍वस्‍थ रहने के लिए ब्‍लड शुगर का स्‍तर सामान्‍य रखना होता है। ब्‍लड शुगर के स्‍तर में उतार-चढ़ाव डायबिटीज रोगियों के लिए अच्‍छा नहीं होता। जैसा की आप जानते हैं कि जीरे के सेवन से ब्‍लड शुगर के स्‍तर में बहुत जल्‍दी कमी आने लगती है और यह लो ब्‍लड शुगर स्‍तर का कारण बन सकता है। इसलिए डायबिटीज से पीड़ि‍त लोगों को जीरे के अधिक सेवन से बचना चाहिए।
Image Courtesy : Getty Images

स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए नुकसानदेह

जीरा ब्रेस्‍टफीडिंग करवाने वाली महिलाओं के लिए अच्‍छा नहीं होता। इसलिए स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं को जीरे के अत्‍यधिक मात्रा में सेवन से बचना चाहिए क्‍योंकि इससे दूध का उत्‍पादन कम होने लगता है।
Image Courtesy : Getty Images

एलर्जी की समस्‍या

जीरा आयरन का सबसे अच्छा स्रोत है। इसे नियमित रूप से खाने से खून की कमी दूर हो जाती है। और त्‍वचा पर निखार आता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि जीरे का इस्‍तेमाल त्‍वचा पर चकत्‍ते और एलर्जी पैदा कर सकता है। इसलिए त्‍वचा में एलर्जी से परेशान लोगों को जीरा का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।
Image Courtesy : Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK