• shareIcon

जरूरत के वक्‍त हमें कभी नहीं मिलती ये 10 चीजें

बड़ी ताज्जुब की बात है कि जिन चीजों को हम सबसे ज्यादा संभालकर रखते हैं, वही हमें वक्त पर नहीं मिलती। लेकिन सच्चाई यही है। वास्तव में जो चीजें हमारे जीवन में अहम भूमिका अदा करते हैं, उन्हें ही लेकर हम सबसे ज्यादा बेपरवाह होते हैं। यहां कुछ ऐसे ही चीजो

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Meera Roy / Jan 18, 2016

चाबियां व बटुआ

कार, अलमारी आदि की चाबियां अकसर हम किसी खास जगह पर रख देते हैं। यही नहीं चाबियां गुम न हो जाएं, इसके लिए विशेष जगह भी बना रखी है। लेकिन दिक्कत यह है कि जब भी इनकी जरूरत होती है, ये कभी नहीं मिलती। असल में चाबियां हम कहीं भी रख देते हैं मसलन पैंट की पाकेट से लेकर तकिये के नीचे तक। बटुआ भी ऐसी ही फेहरिस्त का हिस्सा है। इसे भी अकसर हम कहीं भी रख देते हैं। ...और जब भी बाहर जाना होता है या किसी को पैसे देने होते हैं तो बटुआ पैंट की जेब में ही नहीं मिलता।
Image Source- blogspot.com

घड़ी हो या चश्मा

हालांकि इन दिनों मोबाइल फोनों ने घड़ी की अहमियत हमारे जीवन में कम कर दी है। बावजूद इसके जो लोग शौकिया तौर पर घड़ी पहनते हैं, वे भी इसे ढूंढ़ने में अकसर अपना कीमती समय बर्बाद कर रहे होते हैं। कई तो घड़ी ढूंढ़ने के चलते दफ्तर में देर तक हो जाते हैं। चश्मे के बिना न तो कंप्यूटर स्क्रीन दिखती है और न ही सड़क पर चल रही गाडि़यां। इतनी महत्वपूर्ण होने के बावजूद चश्मे का कोई स्थायी ठौर ठिकाना नहीं होता। असल में चश्मा भी हम अकसर कहीं भी खोलकर रख देते हैं, जो सही वक्त में ढूंढ़े नहीं मिलता।
Image Source-/jeanniferpaeste.files.wordpress.com

पेन ड्राइव और हेडफोन्स

इन दिनों यदि सबसे ज्यादा कोई चीज खोने की सूची में शामिल है, तो वह पेन ड्राइव ही है। छोटी सी पेन ड्राइव कभी दफ्तर के बैग में तो कभी पैंट की और कभी शर्ट की जेबों में सैर करती है। यही कारण है कि काम के समय इसकी तलाश करनी पड़ती है। बस हो, मेट्रो हो या ट्रेन हो। हर जगह मोबाइल फोन में हेडफोन्स लगाया और गाने चालू। लेकिन मनोरंजन का यह बेहतरीन साधन अकसर सही समय पर ही नहीं मिलता।
Image Source-d5dx9zg8f2er.cloudfront.net/

पेन व फाइल

दफ्तरों में काम करने वाले सबसे ज्यादा पेन खोने की परेशानी से ही ग्रस्त होते हैं। जेब में रखने वाली ये छोटी, स्लीक सी चीज सबको ऐन मौके पर परेशानी में डाल देती है। हेल्थ फाइल हो कोई अन्य। जरूरत पड़ने पर सही जगह पर रखने के बावजूद सही समय पर वे नजर नहीं आती। नतीजतन समस्या तो सुलझती नहीं अपितु घर में तनाव अवश्य हो जाता है।
Image Source-getty

रिमोट व ब्रिस्लेट

टीवी देखते देखते पता ही नहीं चलता कि कब रिमोट ने अपनी जगह बदल ली। ढूंढ़ने पर पता चलता है कि वह कुशन के पीछे है या सोफे के नीचे है।पूरी तरह फैशनेबल फिट होने के बाद अंत में जब हाथ में ब्रिस्लेट पहनने के लिए ढूंढ़ा जाता है तो पता चलता है कि वह अपनी जगह से गायब है। दरअसल ये भी हम खोलकर कभी ड्रेसिंग टेबल में तो कभी मेज पर रखकर भूल जाते हैं।
Image Source-getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK