• shareIcon

ये दस चीजें हैं टॉयलेट सीट से भी ज्‍यादा कीटाणुयुक्‍त

हमारे आसपास कई ऐसी जगह होती हैं, जहां पर टॉयलेट सीट से भी अधिक बैक्‍टीरिया होते हैं, और इनके कारण साइनस, फ्लू, फूड प्‍वॉइजनिंग आदि हो सकता है।

विभिन्न By Nachiketa Sharma / Aug 28, 2014

कहां-कहां हैं कीटाणु

जब भी हम टॉयलेट सीट का प्रयोग करते हैं तब अपने हाथ को साफ करते हैं, क्‍योंकि हमे लगता है कि इसमें कीटाणु होते हैं जो हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए नुकसानदेह हैं। लेकिन शायद आपको नहीं पता कि आपकी रोजमर्रा प्रयोग की जाने वाली वस्‍तुयें उससे कहीं अधिक कीटाणुग्रस्‍त हैं, और उनमें ई. कोली बैक्‍टीरिया पाया जाता है। अगर आप इन वस्‍तुओं के बारे में अनजान हैं तो इन्‍हें जरूर जानें।

image source - getty images

आपका सेलफोन

मोबाइल का प्रयोग करने के बाद हम कभी भी यह नहीं सोचते कि यह भी कीटाणुग्रस्‍त हो सकता है। लंदन में हुए एक शोध में यह बात सामने आयी है कि मोबाइल फोन में कीटाणु पाये जाते हैं जो स्‍वास्‍थ्‍य के लिए नुकसानदेह हैं। इसमें पाये जाने वाले कीटाणुओं के कारण इंफ्लूएंजा की समस्‍या हो सकती है। इसका कारण यह है कि आप ऑफिस में, बॉथरूम में, बस की सीट पर आदि जगहों पर इसे रखते हैं लेकिन इसे कभी साफ नहीं करते।

image source - getty images

आपका ग्रिल

अगर आप अपने ग्रिल की सफाई पर ध्‍यान नहीं देते हैं तो अब देना शुरू कर दीजिए। क्‍योंकि ग्रिल पर हाथ रखने के बाद आप अपने हाथ को साफ किये बिना ही खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं जो कि बीमारियों का कारण बन सकता है। ब्रिटिश शोध की मानें तो ग्रिल का मात्र एक इंच स्‍क्‍वेयर 17 लाख रोगाणुओं से भरा होता है।

image source - getty images

साफ-सुथरी लांड्री

लांड्री में कपड़ों की सफाई होती है और उसके बाद इस बात से आश्‍वस्‍त हो जाते हैं कि आपके कपड़े कीटाणुरहित हैं और इनका प्रयोग करने से संक्रमण नहीं हो सकता है। लेकिन वास्‍तविकता यह है कि केवल अंडरवीयर में के जरिये आपको लगभग 500 ई. कोली बैक्‍टीरिया मिलते हैं तो पूरे कपड़ों में तो इनकी मात्रज्ञ लाखों में होगी। इसलिए जब भी कपड़ों को धुलें पानी को गरम कर लें, जिससे कीटाणु समाप्‍त हो जायें।

image source - getty images

आपका टूथब्रश

दांतों को बीमारियों से बचाने और दांतों की सफाई करने वाला टूथब्रश खुद ही कीटाणुओं से ग्रस्‍त होता है। अगर आप टूथब्रश बाथरूम में रखते हैं तो इसमें कीटाणुओं की संख्‍या और अधिक हो सकती है। अगर आप टूथब्रश को सुरक्षित रखना चाहते हैं तो ब्रश की कैप का प्रयोग कीजिए और ब्रश करने से पहले ब्रश केा अच्‍छे से धो लें।

image source - getty images

किचन का स्‍पांज

किचन का स्‍पांज भी कीटाणुओं का घर है, लगातार कीटाणुओं और नमी के संपर्क में रहने के कारण इसमें बहुतायत में कीटाणु पनपते हैं। सिमंस कॉलेज द्वारा कराये गये एक शोध में भी यह बात सामने आयी है। यूनिवर्सिटी ऑफ एरीजोना के अध्‍ययन की मानें तो, किचन स्‍पांज टॉयलेट सीट की तुलना में 2 लाख गुना अधिक गंदा है और इसके एक इंच में ही लाखों कीटाणु होते हैं।

image source - getty images

लिफ्ट की बटनें

वैसे भी लिफ्ट के बजाय सीढि़यों का प्रयोग सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है, लेकिन अगर आप लिफ्ट का प्रयोग कर रहे हैं तो सावधान हो जाइये, क्‍योंकि यहां भी टॉयलेट सीट से अधिक कीटाणु होते हैं, यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो द्वारा कराये गये एक शोध में यह बात सामने आयी। अगर लिफ्ट का प्रयोग करके आपने बिना हाथ साफ किये खाना खाया तो इसके कारण फूड प्‍वाइजनिंग हो सकती है।

image source - getty images

कीबोर्ड

कम्‍प्‍यूटर पर घंटों काम करने के दौरान आपकी उंगलियां कीबोर्ड पर ही रहती हैं। कंप्‍यूटर पर काम करते वक्‍त अचानक से आपका हाथ खाने की वस्‍तुओं पर जाता है जो कि खतरनाक है। लंदन में हुए शोध के अनुसार, कीबोर्ड में टॉयलेट सीट की तुलना में 5 गुना अधिक कीटाणु होते हैं। सउदी अरब द्वारा शोध में यह बात सामने आयी है कि इसके प्रयोग के बाद अगर कुछ खाया जाये तो इससे साइनस संक्रमण हो सकता है।

image source - getty images

एटीएम

पैसे निकालने के लिए एक दिन में आप एक बार एटीएम का प्रयोग करते हैं, लेकिन क्‍या आपको पता है कि एटीएम के एक बटन पर 1200 से अधिक कीटाणु मौजूद होते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ एरीजोना द्वारा किये गये शोध की मानें तो एटीएम पर ई. कोली और फ्लू के लिए जिम्‍मेदार वायरस होते हैं। इसके अलावा पैसों में भी कीटाणु होते हैं।

image source - getty images

गैस पंप

कार के टैंक में गैस भरने के लिए प्रयोग की जाने वाली गैस पंप 70 प्रतिशत तक संक्रमण फैलाने वाले जीवाणुओं से भरी होती है। इसलिए जब भी गैस पंप का प्रयोग करें अपने साथ सैनिटाइजर जरूर रखें।

image source - getty images

बाथरूम की अन्‍य वस्‍तुयें

2011 में यूनिवर्सिटी ऑफ एराजोना द्वारा कराये गये शोध की मानें तो, वाशरूम में हाथ साफ करने के बाद आपका हाथ साफ होने के बजाय पहले से भी ज्‍यादा गंदा हो जाता है। अगर आपने पब्लिक बॉथरूम में रखे साबुन का प्रयोग किया तो यह तो और भी संक्रमण वाला हो सकता है। इसके अलावा गरम हवा देने वाले ड्रॉयर भी 40 प्रतिशत तक कीटाणु निकालते हैं। इसलिए हाथ साफ करने के लिए लिक्विड साबुन का प्रयोग करें और नैपकिन से हाथ पोछें।

image source - getty images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK