Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

दस बातें जो दुनिया को सिखाती हैं महिलाएं

महिलाएं भगवान की बनायी हुई वो रचना है जिसमें त्याग, ममता, बड़ों का आदर, आत्म सम्मान, सहन शक्ति जैसे कई गुण समाएं हुए हैं। किसी एक इंसान के अंदर इतने सारे गुण होना उसे आम लोगों से अलग खड़ा करता है।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Anubha TripathiMar 07, 2014

महिलाओं में मौजूद गुण

महिलाएं भगवान की बनायी हुई वो रचना है जिसमें त्याग, ममता, बड़ों का आदर, आत्म सम्मान, सहन शक्ति जैसे कई गुण समाएं हुए हैं। किसी एक इंसान के अंदर इतने सारे गुण होना उसे आम लोगों से अलग खड़ा करता है। एक महिला अपने जीवन में कई भूमिका अदा करती है। मां, पत्नी, बेटी और बहन के रुप में वो अपनी हर जिम्मेदारी को बखूबी निभाना जानती हैं। महिलाओं में कई ऐसे गुण हैं जिनसे हम काफी कुछ सीख सकते हैं। आइए जानें क्या हैं वे गुण image courtsey getty images

एक साथ कई काम

भारतीय मूल की वैज्ञानिक रागिनी वर्मा और यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवीनिया में उनके सहकर्मियों द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक महिलाएं एक साथ ढेर सारे काम निपटाने में माहिर होती हैं, वहीं पुरुष एक बार में एक काम को बहुत अच्छे से पूरा करने में माहिर होते हैं। महिलाओं की याददाश्त अच्छी होती है, समूह में वो बेहतर तरीके से काम कर पाती हैं और साथ ही विभिन्न चीजों के प्रति उनकी समझ बेहतर होती है। अपने इन्हीं गुणों के कारण वे एक साथ कई काम बेहतर तरीके से कर पाती हैं। image courtsey getty images

बड़ों का सम्मान

एक महिला ना सिर्फ अपने माता-पिता का आदर करती है बल्कि ससुराल जाने के बाद अपने सास-ससुर या अन्य किसी बड़ें को भी उतनी ही इज्जत देती है। जिस प्रकार वो अपने घर में अपने माता-पिता का खयाल रखा करती थी उसी प्रकार वो अपने पति के घर में भी हर बड़े की जरूरत और पसंद नापसंद को समझती है। महिलाएं ऐसा इसलिए कर पाती हैं क्योंकि वो जीवन में बड़ों के महत्व को समझती हैं। image courtsey getty images

भावनात्मक रुप से मजबूत

हो सकता है कि पुरुष शारिरिक रुप से मजबूत होते हों लेकिन जहां भावनात्मकता से निपटना होता है पुरुष कहीं गायब ही हो जाते हैं। इसलिए पुरुष भावनात्मक बातों का सामना करने से डरते हैं क्योंकि उन्हें पता है कि वे इस मामले में कितने अनाड़ी है। वहीं महिलाएं ऐसी बातों का सामना मजबूती से करती हैं। image courtsey getty images

दया

ज्यादातर पुरुषों का मानना है कि परफेक्ट रिलेशनशिप का मतलब है गर्लफ्रेंड को डेट पर ले जाना, महंगे गिफ्ट देना, उनके साथ सेक्स करना आदि। लेकिन महिलाएं ऐसा नहीं सोचती हैं उनके लिए प्यार वह है जब दो लोग एक दूसरे को दिल से चाहते हैं और उनकी छोटी-छोटी खुशियों का खयाल रखते हैं। बाकी चीजें उनके लिए सिर्फ भौतिकवादी सुख ही है। image courtsey getty images

सहनशक्ति

महिलाओं सहनशक्ति का दूसरा रुप हैं। स्थिति चाहे जैसी भी हो महिलाएं अपनी सहनशक्ति के बदौलत समस्या का समाधान खोज निकालती हैं। अक्सर लोग उनकी सहनशक्ति को चुप्पी समझकर उन्हें कमजोर मानने की गलती कर बैठते हैं। इसी सहनशक्ति के कारण महिलाएं अपने जीवन में हर रोल बखूबी निभाती हैं। image courtsey getty images

निष्ठा

ज्यादातर लोग लगता है कि उनका रिश्ता लंबे समय तक इसलिए कायम है क्योंकि उनके बीच शारीरिक रिश्ते अच्छे हैं। लेकिन क्या आपका ध्यान अपने पार्टनर की तरफ नहीं जाता है? महिलाएं एक अच्छी गर्लफ्रेंड या पत्नी होने के साथ एक अच्छी दोस्त भी होती है। हो सकता है कि आपका पुरुष दोस्त भी आपका काफी खयाल रखते हो लेकिन जिन लोगों की  महिलाओं के साथ दोस्ती होगी उन्हें अच्छे से पता होगा कि महिलाएं कितनी निष्ठावान होती हैं। image courtsey getty images

एक्सप्रेसिव

ज्यादातर पुरुष अपनी भावनाओं और विचारों को व्यक्त करने के मामले में बहुत बुरे होते हैं। वे क्या कहना चाह रहे हैं उनके लिए समझना बहुत मुश्किल होता है। वहीं महिलाएं पुरुषों के मुताबले ज्यादा एक्सप्रेसिव होती हैं क्योंकि वे जानती हैं कि उन्हें अपनी बात कैसे कहनी है।  image courtsey getty images

मेहनती

घर से लेकर ऑफिस तक की जिम्मेदारी महिलाओं के कंधों पर होती है और वे इसे बखूबी निभाती भी हैं। वे कभी भी अपनी जिम्मेदारी से भगाती नहीं है। सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक वो ना जाने कितने ही कामों को पूरा करती हैं।  image courtsey getty images

त्याग

महिलाओं को यूं ही त्याग की मूर्ति के नाम से नहीं जाना जाता है। उनके अंदर सच में यह गुण होता है। आमतौर पर पुरुष अपनी चीजों से बहुत अधिक लगाव रखते हैं। लेकिन महिलाएं रिश्तों को ज्यादा महत्व देते हुए इसके लिए कुछ भी त्याग सकती हैं।   image courtsey getty images

आत्म-सम्मान

आत्मसम्मान और अभिमानी होने के बीच ज्यादा फर्क नहीं है। महिलाएं अपने आत्मसम्मान के लिए कुछ भी कर सकती हैं। लेकिन दुख की बात है कि महिलाओं का आत्मसम्मान पुरुषों को हमेशा अभिमान ही नजर आता है। उनकी आंखें इस फर्क को पहचानने में असमर्थ होती हैं। इसके अलावा महिलाएं इन दोनों के बीच फर्क करना अच्छे से जानती हैं। image courtsey getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK