• shareIcon

कैंसर से लड़ने और दिल को स्वस्थ रखने में फायदमेंद है नाशपाती, जाने इसके अन्य स्वास्थ्य लाभ

स्वस्थ आहार By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 17, 2019
कैंसर से लड़ने और दिल को स्वस्थ रखने में फायदमेंद है नाशपाती, जाने इसके अन्य स्वास्थ्य लाभ

घंटी के आकार का फल नाशपाती मीठा होता है। यह खाने में नरम और स्वादिष्ट होता है। नाशपाती न केवल स्वादिष्ट होता है बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं, जिसे विज्ञान ने भी अपना समर्थन दिया है।

 

घंटी के आकार का फल नाशपाती मीठा होता है और इसका मजा प्राचीन काल से लिया जाता आ रहा है। यह खाने में नरम और स्वादिष्ट होता है। नाशपाती न केवल स्वादिष्ट होता है बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं, जिसे विज्ञान ने भी अपना समर्थन दिया है। अगर आप नाशपाती के फायदों से अनजान हैं तो हम नाशपाती से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं, जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं।

पोषण से भरपूर नाशपाती (Highly Nutritious)

नाशपाती विभिन्न रूपों में आती है। बार्टलेट, बोस्क जैसे प्रकार काफी मशहूर हैं लेकिन विश्वभर में 100 से ज्यादा प्रकार की नाशपाती पाई जाती हैं। एक सामान्य आकार की नाशपाती (178 ग्राम) में इतने पोषक तत्व होते हैं।

  • कैलोरीः 101 
  • प्रोटीनः 1 ग्राम
  • कार्बेसः 27 ग्राम
  • फाइबरः 6 ग्राम
  • विटामिन सीः दैनिक मूल्य का 12 फीसदी
  • विटामिन केः दैनिक मूल्य का 6 फीसदी
  • पोटेशियमः दैनिक मूल्य का 4 फीसदी
  • कॉपरः दैनिक मूल्य का 6 फीसदी

आंत के स्वास्थ्य को बनाता है बेहतर (Promote Gut Health)

नाशपाती सोल्यूबल और इनसोल्यूबल फाइबर का एक अच्छा स्त्रोत है, जो हमारे पाचन स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। ये फाइबर हमारे आंतों को नरम रखने में मदद करते हैं ।  एक सामान्य आकार की नाशपाती (178 ग्राम) में 6 ग्राम फाइबर होता है, जो हमारे रोजाना की फाइबर जरूरत का 22 फीसदी हिस्सा पूरा करता है। इसके अतिरिक्त सोल्यूबल फाइबर आपकी आंत में स्वस्थ बैक्टीरिया को खाद्य आपूर्ति करते हैं। क्योंकि इन्हें प्रीबायोटिक माना जाता है, जो कि स्वस्थ आयु व इम्युनिटी बढ़ाने से जुड़ा हुआ है।

इसे भी पढ़ेंः आपके स्वास्थ्य के लिए ये मछलियां हैं फायदेमंद और हानिकारक, जानें किस मछली से कितना फायदा

नाशपाती में होते हैं सूजन-जलन रोधी गुण  (Have Anti-Inflammatory Properties)

हालांकि जलन या फिर सूजन एक सामन्य प्रक्रिया है लेकिन लंबे समय तक ऐसा रहना आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। यह कुछ ह्रदय रोगों और टाइप-2 डायबिटीज सहित कुछ बीमारियों से जुड़ा हुआ है। नाशपाती फ्लेवोनोइड एंटीऑक्सिडेंट एक अच्छा स्त्रोत है, जो सूजन व जलन से लड़ने में मदद करता है और कई बीमारियों के खतरे को कम करता है। कई अध्ययनों में बताया गया है कि दिल की बीमारी और मधुमेह के जोखिम को कम करने के लिए उच्च फ्लेवोनोइड का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा नाशपाती में कई विटामिन, खनिज और कॉपर जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो सूजन व जलन का भी मुकाबला करते हैं।

नाशपाती में होते हैं कैंसर रोधी प्रभाव (Anticancer Effects)

नाशपाती में एंटीकैंसर गुण भी होते हैं। उदाहरण के लिए, नाशपाती में पाए जाने वाले एंथोसायनिन और दालचीनी एसिड कैंसर से लड़ने में फायदेमंद है। कुछ अध्ययनों से संकेत मिला है कि नाशपाती सहित कई फलों में कैंसर से रक्षा करने की क्षमता है। इसके अलावा यह फेफड़े, पेट और मूत्राशय जैसी बीमारियों में भी काम आता है। अधिक फल खाने से आपके कैंसर का खतरा कम हो सकता है लेकिन इस पर अधिक शोध की आवश्यकता है। हालांकि नाशपाती को कैंसर के उपचार के लिए प्रतिस्थापन के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः रात को सोने से पहले गर्म दूध पीने के 7 अद्भुत फायदे, अच्छी नींद से लेकर दिल रहेगा स्वस्थ

डायबिटीज के खतरे को कम करती नाशपाती (Linked to a Lower Risk of Diabetes)

लाल नाशपाती डायबिटीज के खतरे को कम करने में मदद करती है। 200,000 से अधिक लोगों पर किए गए एक बड़े अध्ययन में पाया गया कि सप्ताह में पांच या उससे ज्यादा एंथोसायनिन से भरपूर लाल नाशपाती खाने से टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम 23 फीसदी कम हो जाता है। इसके अलावा एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि नाशपाती के छिलके में पाए जाने वाला एंथोसायनिन मधुमेह और सूजन व जलन को भी करने में मदद करता है। इसके साथ ही नाशपाती ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है।

ह्रदय को स्वस्थ बनाती नाशपाती (May Boost Heart Health)

नाशपाती ह्रदय रोगों के खतरे को भी कम करने में मदद करती है। नाशपाती के प्रोसेनिडिन एंटीऑक्सिडेंट हृदय के ऊतकों में कठोरता, एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते हैं और एचडीएल (अच्छा) कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकते हैं। नाशपाती के छिलके में क्वैरसेटिन नाम का एक महत्वपूर्ण एंटीऑक्सिडेंट होता है, जो सूजन व जलन को कम करने और उच्च रक्तचाप व  कोलेस्ट्रॉल के स्तर जैसे हृदय रोग के जोखिम कारकों को कम करके हृदय स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाता है। 30,000 से अधिक महिलाओं पर 17 साल के एक बड़े अध्ययन से पता चला है कि फलों के हर रोज 80 ग्राम सेवन से हृदय रोग का जोखिम 6-7 फीसदी तक कम हो जाता है।

Read More Articles On Healthy Diet in Hindi

 

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK