• shareIcon

आधा कप हरी मटर सर्दियों में आपके दिल को फिट रखने में है कारगर, जानें हरी मटर की न्यूट्रिशनल वैल्यू

Updated at: Jan 08, 2020
स्वस्थ आहार
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 08, 2020
आधा कप हरी मटर सर्दियों में आपके दिल को फिट रखने में है कारगर, जानें हरी मटर की न्यूट्रिशनल वैल्यू

आधा कप हरी मटर आपके दिल के लिए बेहद फायदेमंद है। इस लेख में जाने मटर की न्यूट्रिशनल वैल्यू और शरीर को होने वाले फायदे।

आलू मटर, मटर पनीर जैसी सब्जियों का स्वाद बढ़ानी वाली हरी मटर सर्दियों में खाई जाने वाली एक प्रसिद्ध सब्जी है। मटर न केवल पौष्टिक होती है बल्कि इसमें फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा भी अच्छी होती है। इसके अलावा कई शोध में यह बताया गया है कि ये आपको ह्रदय रोगों और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से सुरक्षा भी प्रदान करने में मदद करती है। वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों का दावा है कि हरी मटर हानिकारक होती है और हमें इसे खाने से बचना चाहिए क्योंकि इसमें मौजूद एंटी-न्यूट्रिएंट पेट फूलने की समस्या पैदा कर सकते हैं। इस लेख में हम आपको हरी मटर की न्यूट्रिशनल वैल्यू और शरीर को होने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

green pea

हरी मटर की न्यूट्रिशनल वैल्यू 

हरी मटर में कई पोषक तत्व और एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं। साथ ही इसमें कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है। आधा कप मटर (170 ग्राम) में सिर्फ 62 कैलोरी होती है। इसके अलावा इन कैलोरी का 70 फीसदी हिस्सा कार्ब से आता है बाकी प्रोटीन और कुछ हिस्सा फैट से आता है। हरी मटर में आपकी जरूरत का हर विटामिन और मिनरल होता है, साथ ही इसमें फाइबर की भी अच्छी मात्रा होती है। आधे कप हरी मटर में ये पोषक तत्व होते हैंः

  • कैलोरीः 62
  • कार्बः 11 ग्राम
  • फाइबर: 4 ग्राम
  • प्रोटीनः 4 ग्राम
  • विटामिन एः दैनिक जरूरत का 34 फीसदी 
  • विटामिन केः दैनिक जरूरत का 24 फीसदी 
  • विटामिन सीः दैनिक जरूरत का 13 फीसदी
  • थियामाइनः दैनिक जरूरत का 15 फीसदी 
  • फोलेटः दैनिक जरूरत का 12 फीसदी 
  • मैंग्निजः दैनिक जरूरत का 11 फीसदी
  • आयरनः दैनिक जरूरत का 7 फीसदी 
  • फास्फोरसः दैनिक जरूरत का 6 फीसदी

Buy Online: Natureland Organics Green Peas 500 Gm - Organic Healthy Peas & MRP.115.00/- only.  

हरी मटर को जो चीज दूसरी सब्जियों से अलग बनाती है वो है इसकी हाई प्रोटीन मात्रा। उदाहरण के लिए आधा कप पकी गाजर (170 ग्राम) में केवल 1 ग्राम प्रोटीन होता है जबकि आधा कप मटर (170 ग्राम) में इसके मुकाबले चार गुणा प्रोटीन होता है।

इसे भी पढ़ेंः एंटी-ऑक्सीडेंट क्‍या होते हैं और शरीर के लिए क्‍यों जरूरी है ये, जानें इससे जुड़े जरूरी फैक्‍ट्स

हरी मटर के फायदे

आपके दिल के लिए फायदेमंद हरी मटर 

मटर में फाइबर की प्रचुर मात्रा पाई जाती है, जो आपके दिल को रोगों से दूर रखने में मदद करती है। एक शोध में खुलासा हुआ है कि सप्ताह में कम से कम दो दफा हरी मटर का सेवन दिल के दौरे का जोखिम  50 प्रतिशत तक कम कर देता है।

वजन कम करना होगा आसान

हरी मटर में विटामिन के, मैंग्निज, कॉपर, विटामिन सी, फास्फोरस और फोलेट जैसे जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो आपको सही वजन बनाएं रखने में मदद करते हैं। शोध में पहले भी बताया जा चुका है कि आधा कप मटर में केवल 62 कैलोरी होती हैं, जो आपका पेट भरने के साथ-साथ वजन भी बैलेंस करती है।

इसे भी पढ़ेंः 1 कप ग्रीन या फिर जैसमीन टी शरीर की चर्बी समेत कई रोगों को दूर करने में है फायदेमंद, जानें पीने का सही वक्त

green pea

पाचन तंत्र होता है दुरुस्त

विटामिन-सी हमारे पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में मदद करता है, जो कि हरी मटर में भी पाया जाता है। हरी मटर में पाया जाने वाला विटामिन सी आपकी दैनिक जरूरत का 13 फीसदी हिस्सा पूरा करता है। विटामिन सी से भरी मटर आपके पाचन तंत्र को दुरुस्त बनाने का काम करती है। हरी मटर न सिर्फ पाचन में बल्कि पेट के कैंसर से भी सुरक्षा प्रदान करती है।

कोलेस्ट्रॉल 

हरी मटर के सेवन से आपके शरीर में अच्छे व खराब कोलेस्ट्रॉल के बीच संतुलन बना रहता है, जिस कारण आपका दिल भी सुरक्षित रहता है। हरी मटर का सेवन आपके ह्रदय स्वास्थ्य को दुरुस्त रखने में मदद करता है।

हड्डियां होती हैं मजबूत

हड्डियों के लिए जितना जरूरी कैल्शियम है उतना ही जरूरी है प्रोटीन। प्रोटीन की कमी होने पर टूटी हड्डियों को जोड़ना मुश्किल हो जाता है। साथ ही प्रोटीन की कमी आपकी हड्डियों को कमजोर कर देती है। प्रोटीन से भरपूर हरी आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने का भी काम करती है।

स्किन से जुड़ी समस्याएं होती हैं छूमंतर

अगर आप स्किन संबंधी समस्याओं से परेशान हैं तो मटर का दरदरा पेस्ट बनाएं और उसे चेहरे पर लगाएं। ऐसा करने से स्किन संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। अगर आपका शरीर का कोई हिस्सा जल गया है तो मटर का पेस्ट बनाकर उसपर लगाएं। पेस्ट लगाने से प्रभावित हिस्से पर ठंडक पड़ जाती है और आपको राहत मिलती है।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK