• shareIcon

बालों की समस्या से हैं परेशान? यहां पाएं सारे निदान

फैशन और सौंदर्य By सम्‍पादकीय विभाग , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Dec 15, 2015
बालों की समस्या से हैं परेशान? यहां पाएं सारे निदान

मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार के तनाव का सम्बन्ध बालों के गिरने से देखे गए हैं। बालों से जुड़े सवाल-जवाब के बारें में पढ़े।

सभी लोगो को स्वस्थ बालों की चाह होती है। जिसके लिए लोग कई तरह के प्रयास भी करते है। पर बालों के बारे में सही जानकारी का अभाव होने के कारण बालों की अच्छी तरह से देखभाल नहीं हो पाती है। यहां बालों से जुड़े कुछ सवालों के जवाब दिये जा रहे हैं, जो आपको अपने बालों को सही तरह से रखने में मदद करेंगे। आइयें जानते है ये सवाल-जवाब।


एलोपेसिया क्या है?
शब्दे "एलोपेसिया" को सिर की त्वचा पर या शरीर के अन्य बालयुक्त क्षेत्र पर किसी प्रकार के गंजेपन या बालों के गिरने की स्थिति को व्यक्त करने के लिए उपयोग किया जाता है। शब्द 'एलोपेसिया' को किसी विशिष्ट स्थिति को व्यंक्त करने के लिए अन्य शब्द के साथ जोड़ दिया जाता है। उदाहरण के लिए पैच के रूप में बालों का गिरना एलोपेसिया एरिएटा है, आनुवंशिक गंजापन एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया है, आदि।


क्या पुरूषों और महिलाओं में बाल अलग-अलग तरह से गिरते हैं?

जिस प्रकार पुरूष एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया या मेल पैटर्न बाल्डनेस से पीड़ित होते हैं उसी तरह महिलाओं के बाल भी आनुवंशिक आधार पर गिरते हैं, जिसे फीमेल पैटर्न बाल्डनेस कहते हैं। महिलाओं में बालों का गिरना पुरूषों की तुलना में अधिक छितराया हुआ होता है जबकि पुरूषों को हेयरलाइन पीछे हटने और आगे की ओर से क्रमिक गंजेपन का सामना करना पड़ता है। महिलाओं में बालों में सम्पूर्ण विरलता पायी जाती है जो क्रमिक होती है।

इसे भी पढ़ें- इस 'चमत्कारी' तेल से उग आयेंगे नए बाल


क्या बाल गिरने और तनाव के बीच कोई आपसी संबंध है?

 मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार के तनाव (कोई गंभीर बीमारी, किसी सर्जरी के बाद रिकवरी) का सम्बन्ध बालों के गिरने से देखे गए हैं। तनाव को हार्मोनल बदलावों की वजह भी माना जाता है जिससे बाल गिर सकते हैं। गर्भावस्थाे, मेनोपॉज या थॉयराइड समस्यातओं के दौरान हार्मोनल बदलावों के कारण भी बाल गिर सकते हैं। कुछ चिंता संबंधी आदतें जैसे बालों के छल्लेद बनाना (लपेटना) या खींचना भी मनोवैज्ञानिक तनाव के प्रति अनायास प्रतिक्रियाएं हैं जो बालों के गिरने की वजह बन सकती हैं।


महिलाओं में बाल गिरने का सबसे सामान्य कारण क्या है?

 आनुवंशिक रूप से विरासत में प्राप्तन, हार्मोन संबंधी समस्या जिसे एलोपेसिया एंड्रोजेनेटिका या फीमेल पैटर्न बाल्डनेस कहा जाता है, यह महिलाओं में बालों के विरल होने के रूप में देखने में आती है। यही महिलाओं के बाल गिरने का सबसे सामान्यन कारण है। कहना कठिन होता है कि इससे कौन प्रभावित होगा क्यों कि इस प्रकार बालों का झड़ना माता या पिता में से किसी भी पक्ष से संबंधित हो सकता है और कई बार तो यह एक पीढ़ी छोड़कर प्रकट होता है।


मेनोपॉज के बाद अधिकांश महिलाओं को गंजेपन का सामना क्यों करना पड़ता है?

मेनोपॉज के बाद लगभग दो-तिहाई महिलाओं को बालों की विरलता और बाल्डा स्पाँट्स का सामना करना पड़ता है। महिलाओं में एस्ट्रोवजेन नामक हार्मोन बनता है जो उनको उनमें कम मात्रा में बनने वाले टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के असर से सुरक्षित रखता है। मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजेन के बनने में भारी कमी आती है जिससे टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को टेक ओवर करने का और 5-अल्फा रिडक्टेज नामक एंजाईम से संयोजित होने का मौका मिल जाता है, जिससे नया हार्मोन - डीएचटी तैयार होता है, जो गंजेपन के लिए जिम्मेदार होता है।


पुरूषों में सिर के दोनों और और पीछे की तरफ के बालों के रोमकूप लगातार क्योंत उगते रहते हैं?

मेल पैटर्न बाल्डनेस, सामान्यतया घोड़े की नाल के आकार में होता है जिसमें क्राउन पर बाल नहीं रहते और सिर के दोनों साइड में तथा पीछे की ओर बाल बचे रहते हैं। बालों के गिरने के लिए जिम्मेदार एंजाईम डीएचटी, सिर के पीछे और दोनों साइड के रोमकूपों को प्रभावित नहीं कर पाता।

इसे भी पढ़ें- केराटिन हेयर ट्रीटमेंट कराने जा रही है तो ये पढ़े


एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया किस प्रकार पाया जाता है?

एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया, पुरूषों और महिलाओं दोनों में ही बाल गिरने के लिए आमतौर से पाया जाने वाला सामान्यर कारण है, हालांकि यह पुरूषों में अधिक पाया जाता है। एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया की शुरूआत व्यक्ति की किशोरावस्था के दौरान ही हो सकती है और उम्र बढ़ने के साथ जोखिम बढ़ता जाता है। 50 से अधिक उम्र के 50% से अधिक पुरूषों में कुछ सीमा तक बाल गिरने की समस्या रहती है। महिलाओं में बालों का गिरना मेनोपॉज के बाद देखने में आता है।


लोगों को एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया किस प्रकार विरासत में मिलती है?

विभिन्न आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारणों के चलते, एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया का वंशानुगत डिज़ाइन अस्प्ष्टण है। यह समस्याय परिवारों में भी फिर प्रकट हो सकती है और इस समस्याड से पीड़ित कोई नजदीकी रिश्तेहदार भी जोखिम कारण है।


ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप 

Image Source : Getty

Read more articles on Beauty in Hindi.


 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।