• shareIcon

जननांग दाद क्‍या है, जानें इसके लक्षण और बचाव

अन्य़ बीमारियां By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 05, 2018
जननांग दाद क्‍या है, जानें इसके लक्षण और बचाव

यह बात बिल्कुल सच है कि उपचार के बाद भी इसके संक्रमण फैलने के आसार बहुत हद तक होते हैं। लेकिन, जननांग दाद को उपचार के जरिए रोका जा सकता है, ताकि इसके खतरे को कम किया जा सके। इसके उपचार में शामिल हैं!

जननांग के दाद एक यौन संचारित रोग होता है। यह दाद के एक 'हार्पिज़ सिंप्लेक्स' वायरस के फैलने से होता है। हर्पिज़ सिंपलेक्स वायरस त्वचा या श्लेष्मा झिल्ली में अति सूक्ष्म छेदों की मदद से उनके अंदर घुसकर जननांग दाद का कारण बनते हैं। हालाँकि, जननांग दाद का उचित उपचार चिकित्सा जगत के पास नहीं है, लेकिन इसके लक्षणों से राहत पाई जा सकती है। ऐसे में इसके लक्षण नजर आते ही जितनी जल्दी हो सके उपचार किया जाना चाहिए ताकि दाद के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। क्योंकि शुरूआती दौर में किया गया इलाज़ काफी प्रभावी होता है। 

यह बात बिल्कुल सच है कि उपचार के बाद भी इसके संक्रमण फैलने के आसार बहुत हद तक होते हैं। लेकिन, जननांग दाद को उपचार के जरिए रोका जा सकता है, ताकि इसके खतरे को कम किया जा सके। इसके उपचार में शामिल हैं!

 

जननांग में दाद के लक्षण 

त्वचा के बाहर फफोले या छाले के रूप में घाव का दिखना दाद का संक्रमण माना जाता है। दाद का पहला लक्षण दिखने में, वायरस के संपर्क में आने के 2 दिन या देर होने की स्थिति में 30 दिन तक का समय ले सकता है। पुरूषों में दाद के सामान्य लक्षणो में पुरूषों के जननांग जैसे लिंग, अंडकोष थैली और गुदा के आस पास छाले होना शामिल है। महिलाओ में दाद के लक्षण में उनके जननांग, गुदा और नितंबों पर छाले होना शामिल हैं।

जननांग दाद के कारण

जननांग दाद दो प्रकार के वायरसों के कारण होता है, जो हर्पिज सिंप्लेक्स वायरस 1 (HSV-1) और हर्पिज़ सिंप्लेक्स वायरस 2 (HSV-2) के नाम से जाने जाते हैं। ये दोनों एक ही वायरस समूह के वायरस होते हैं। दाद का वायरस श्लेष्मा झिल्ली के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है, क्योंकि श्लेष्मा झिल्ली में ऊतकों की काफी पतली परत होती है, जो शरीर के अंदर खुलती है। ये वायरस व्यक्ति की नाक, मुंह और जननांगों में पाए जा सकते हैं। जब एक बार वायरस शरीर के अंदर चले जाते हैं, तो वे खुद ही अपने आपको कोशिकाओं में सम्मिलित कर लेते हैं। ये वायरस बड़ी आसानी से खुद की संख्या को कई गुणा बढ़ा लेते हैं और जिस वातावरण में उनको परेशानी हो वे खुद को उसके अनुकूल बना लेते हैं।

इसे भी पढ़ें: इन 5 कारणों से हो सकती है 'कान बजने' यानी टिनिटस की समस्या, जानें क्या है इलाज 

जननांग दाद से बचाव 

  • दवाओं के जरिए छाले और घावों को दर्दरहित और संक्रमण रहित किया जा सकता है।
  • घरेलू उपचार के तहत जननांग दाद से पीड़ित व्यक्ति गर्म पानी से स्नान और सूती अंडरवेयर का चुनाव करें।
  • जननांग दाद के प्रसार को रोकने के लिए कठोर कदम उठाएं ताकि इसके संक्रमण को रोका जा सके। इसके लिए असुरक्षित तरीके और किसी भी व्यक्ति से यौन संबंध बनाने से बचें।
  • हालाँकि, जननांग दाद का उपचार इसके कारण और लक्षण के आधार पर किया जाता है। साथ ही डॉक्टर जननांग दाद का उपचार करने से पहले रोगी का इतिहास और एक शारीरिक परीक्षा की जाँच करते हैं। ताकि बीमारी को गहराई से परखा जाए और अच्छे तरीके से उपचार किया जाए।
  • ऐसे में कहीं न कहीं जननांग दाद का उपचार रोगी की सूझबूझ पर भी निर्भर करता है। क्योंकि, समझदारी से बनाया गया यौन संबंध इस बीमारी से लोगों को कोसो दूर रखता है। इसलिए सुरक्षा ही इसका सबसे बड़ा उपचार है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।