गर्भावस्‍था में गाने से शिशु से संबंध होते हैं बेहतर

गर्भावस्‍था में गाने से शिशु से संबंध होते हैं बेहतर

जाने, गर्भावस्‍था में गाने से शिशु से संबंध बेहतर कैसे होंगे।

garbhawastha me gaane se sishuगर्भावस्‍था के दौरान अगर माताएं गाना गाती हैं तो इससे हैप्पी हॉर्मोन का स्त्राव होगा और साथ ही आपके अजन्में बच्चे से आपका जुड़ाव भी होगा। इसके सा‍थ ही इससे बच्‍चे को मां की आवाज पहचानने में मदद भी मिलती है।

[इसे भी पढ़े- संगीत चिकित्सा]


ब्रि‍टिश अखबार डेली मेल की खबर बताती है कि ब्रिटेन में एक नया चलन है। वहां के अस्‍पतालों में महिलाएं बाकायदा गायन की कक्षाओं में भाग लेती हैं। इन कक्षाओं की संख्या बढ़ती जा रही है। यहां वह महिलाएं आती हैं, जो जल्द ही बच्चों को जन्म देने वाली होती हैं।

विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भावस्था में गाना गाने से एंड्रोफिन हॉर्मोन और सेरोटोनिन हॉर्मोन का स्तर बढ़ता है। इस हार्मोन का संबंध खुशी से होता है। उनका यह भी कहना है कि गाना सुन कर बच्चा मां की आवाज पहचानने लगता है। इससे दोनों के बीच रिश्ता गहरा होता है।

[इसे भी पढ़े- सेहतमंद शिशु के लिए गर्भावस्था में व्यायाम करें]

विशेषज्ञों के अनुसार, गायन की कक्षाओं में श्वांस लेने के अलग-अलग तरीके बताए जाते हैं, जिनसे प्रसव की पीड़ा कम करने में भी मदद मिलती है। यह पूरा कोर्स वोम्ब सॉन्ग कहलाता है और अपनी तरह के इस अनूठे कोर्स की मुफ्त पेशकश नेशनल हेल्थ सर्विस के मरीजों के लिए है, लेकिन पूरे ब्रिटेन में निजी कक्षाएं भी चल रही हैं।

 

Read More Article On- Health news in hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।