• shareIcon

गर्भावस्था के दौरान विटामिन ए के सेवन और भारी सामान उठाने से करें परहेज

Updated at: Oct 19, 2013
गर्भावस्‍था
Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Feb 18, 2012
गर्भावस्था के दौरान विटामिन ए के सेवन और भारी सामान उठाने से करें परहेज

गर्भधारण करने के साथ महिला को अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है साथ ही यह भी ध्यान रखना पड़ता है कि इस समय क्या करना चाहिए और किससे परहेज करना चाहिए।

गर्भधारण करने के साथ महिला को अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है साथ ही यह भी ध्यान रखना पड़ता है कि इस समय क्या करना चाहिए और किससे परहेज करना चाहिए। कई काम आपको आसान लगते हैं लेकिन वे आपके और बच्चे के लिए नुकसानदेह हो सकते हैं।

Precautions During Pregnancyगर्भवती महिला के गर्भ पलने वाला बच्चा अत्यधिक नाज़ुक और कोमल होता है, और किसी भी तरह का सदमा या चोट उसे घातक रूप से हानि पहुंचा सकता है। तो, जैसे ही औरत को पता चलता है कि वह गर्भवती है तो उसे अपने आप पर नियंत्रण रखना आवश्यक होता है और ऐसी कई गतिविधियाँ हैं जिन्हें उसे करने से बचना चाहिए। आइए हम इसमें आपकी मदद करते हैं।


गर्भावस्था में इनसे करें परहेज

  • ऐसे काम करने से बचें जिसमे भारी वज़नदार चीज़ें उठानी पड़ें, जैसे कि पानी से भरी हुई बाल्टी, सब्जियों या किराने के भारी थैले आदि। जो कार्य गर्भावस्था से पहले सरल लगते थे, गर्भावस्था में उन्हें करने के लिए थोड़ा ध्यान रखना आवश्यक होता है। भारी सूटकेस, गैस का सिलिंडर या अपने बड़े बच्चे को उठाने से भी आपकी पीठ में मरोड़ हो सकती है।
  • अगर आप ज़मीन पर सोती हैं तो भारी गद्दा या चादरें वगैरह उठाने के लिए किसी और से कहें। ज़मीन पर बिखरी हुई वस्तुएं उठाने के लिए झुकने से भी आपकी पीठ पर विपरीत रूप से असर हो सकता है।
  • अधिक देर तक खड़े होने से बचें। अगर आपको सब्जी या फल काटने हैं तो कुर्सी पर बैठकर किसी टेबल पर रखकर उन्हें टी वी देखते देखते काटें। इससे आपको थोड़ा विश्राम भी मिल जाएगा। और ऐसे खाना पकाने से बचें जिनमे अधिक देर तक खड़े रहने की ज़रुरत पड़े।     
  • अगर आपको रसोईघर में किसी उपरी शेल्फ से किसी चीज़ की आवश्यकता हो तो स्टूल या सीढ़ी का प्रयोग करने से बचें। याद रखें कि इस अवस्था में आप उतनी फुर्तीली नहीं होतीं जितनी आप सामान्य अवस्था में होती हैं, तो गिरने पड़ने का डर अधिक रहता है।
  • अगर आप छत के पंखों पर, खिडकियों पर, या आइनों पर जमी हुई मैल के बारे में चिंतित हैं, तो आप उन्हें अकेले साफ़ करने का प्रयास न करें, बल्कि अपनी नौकरानी की या किसी और की सहायता लें। अगर फ्यूज़ हुए बल्ब या बिजली के तार, सॉकेट, प्लग वगैरह में गड़बड़ी हो तो उसे ठीक करने के लिए अपने पति से या किसी इलेक्ट्रिशियन से करने को कहें।  
  • घुड़सवारी, समुद्र से जुडी किसी भी गतिविधि से बचें।
  • मनोरंजन पार्क में किसी भी झूले पर बैठने से बचें।
  • कुछ योग आसनों को करने से बचें।
  • गर्भवती महिलाओं को वाष्प से नहाने से भी बचना चाहिए, क्योंकि गर्भ में गर्मी जमा होने से बच्चे के लिए नुकसानदे हो सकता है।
  • बंगी-जम्पिंग और स्काई-डाइविंग भी गर्भवती महिला के लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं।
  • गर्भावस्था में बसों और रेलगाड़ियों से सफ़र और पर्यटन से भी बचना चाहिए।   


खान-पान में भी करें परहेज

  • विटामिन ए का प्रयोग बिलकुल न करें क्योंकि यह आपके भ्रूण को हानि पहुंचा सकता है।
  • बैंगन, सुरन, पपीता, प्याज, मिर्च, लहसुन, हिंग, सरसों, बाजर, गुड़ वगैरह का प्रयोग कम करें।
  • जिनको कब्जियत, गैस, पेट फूलने की शिकायत है, तो उन्हें मटर और आलू जैसे मुश्किल से पचने वाले खान पान से बचना चाहिए। उन्हें आसानी से पचने वाले और प्रोटीन प्रदान करने वाले हरे चनों का सेवन करना चाहिए।
  • गर्भावस्था में काला अंगूर, केले, पके हुए आम, खजूर, काजू, खुबानी वगैरह का सेवन लाभप्रद होता है।
  • मक्खन, दूध, शहद, सौंफ, और गुड़ से बनी मिठाइयों का सेवन अल्प मात्रा में करनी चाहिए।
  • चावल, मुरमुरे, पुलाव, भाकड़ी, खिचड़ी, चपाती, पराठा, गुजरती ठेपला चावल और गेहूं से बनाये जाते हैं, तो इनका सेवन भी काफी हद तक लाभप्रद होता है।    
  • गर्भवती महिलाओं को किसी भी हालत में व्रत या उपवास नहीं रखना चाहिए।
  • रात का बचा हुआ या रात भर फ्रिज में रखा हुआ खाना बिलकुल भी सेवन नहीं करना चाहिए।

 

एक  बात याद रखें किए आपके पेट में पल रहा बच्चा अपने स्वास्थ्य के लिए आप पर निर्भर करता है, तो आपके द्वारा कोई भी गतिविधि करने से या किसी भी आहार के सेवन के अनुसार उस पर नकारात्मक या सकारात्मक असर पड़ सकता है।

 

 

Read More Articles On Pregnancy Care In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK