• shareIcon

गर्भावस्था में ज्यादा बेड-रेस्ट नुकसानदायक

Updated at: Oct 03, 2013
गर्भावस्‍था
Written by: Anubha TripathiPublished at: May 28, 2012
गर्भावस्था में ज्यादा बेड-रेस्ट नुकसानदायक

गर्भावस्था के दौरान बेड रेस्ट एक भ्रम के सिवाय कुछ नहीं। इस दौरान आपको शारीरिक गतिविधि पर भी ध्यान देना चाहिए जैसे टहलना व घर के छोटे-मोटे काम आदि।

आमतौर पर महिलाएं अपने प्रेंगनेंट होने की खबर सुनने के बाद ज्यादा से ज्यादा आराम यानी बेड रेस्ट करने लगती है। उन्हें लगता है कि इस समय उन्हें आराम करना चाहिए इसीलिए महिलाएं कामकाज और यहां तक कि हल्के फुल्के शारीरिक व्यायाम भी करना छोड़ देती हैं जो कि गलत है। यह आप और आपके होने वाले बच्चे, दोनों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

 

Bed Restगर्भावस्था में महिलाओं को ज्यादा क्रियाशील होना चाहिए। ज्यादा आराम करने वाली महिलाओं में देखा जाता है कि उनकी डिलवरी समय से पहले ही हो जाती है। इसलिए डॉक्टर भी महिलाओं को ऐसे समय में हल्के फुल्के व्यायाम की सलाह देते हैं।

 

गर्भावस्था में आराम

बहुत सी महिलाओं में यह भम्र फैला हुआ है कि गर्भावस्था में उन्हें बेड रेस्ट करना चाहिए या नहीं। घर में बड़े बुजुर्ग भी यही मानते हैं कि गर्भवती महिला को काम से ज्यादा आराम करना चाहिए। इससे गर्भावस्था में होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है। लेकिन अब यह बात सिर्फ एक मिथ्य है। आजकल डॉक्टर महिलाओं को प्रेग्‍नेंसी में थोड़ा बहुत काम करने की सलाह देते हैं और साथ ही टहलने को भी कहते हैं क्योंकि इससे महिलाएं व बच्चा दोनों स्वस्थ्य रहते हैं।

 

बेड रेस्ट के खतरे

  • गर्भवती महिलाएं यदि बेड रेस्ट से बचें और हमेशा क्रियाशील रहें तो इससे समय से पहले बच्चे के पैदा होने की संभावना कम हो जाती है तथा इससे मां और बच्चे दोनों का स्वास्थ्य बेहतर रहता है।
  • गर्भावस्था में बेड रेस्ट करने वाली गर्भवती महिलाओं में स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं पैदा हो जाती है। यह होने वाले  बच्चे के लिए भी खतरनाक है।
  • बेड रेस्ट करने से मांसपेशियों की कार्यक्षमता में कमी आती है जिससे हड्डियों को भी हानि पहुंचती है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं तथा उनसे  जन्म लेने वाले बच्चे का वजन भी घट जाता है।
  • गर्भवती महिलाएं ज्यादा बेड रेस्ट करने से थकान और ऊबाउपन महसूस करती हैं। उनके सोने का क्रम भी बिगड़ जाता है। साथ ही वे डिप्रेशन की शिकार भी हो सकती हैं।
  • गर्भवती महिलाओं के बेड रेस्ट करने से अपच तथा पीठ की दर्द की शिकायत रहती है।
  • महिलाओं के ज्यादा आराम करने से प्रसव के दौरान सिजेरियन की संभावना बढ़ जाती है।
  • ज्यादा बेड रेस्ट करने से महिलाओं में वजन बढ़ने की समस्या हो जाती है जिससे कई अन्य बीमारियां होने का खतरा रहता है जैसे मधुमेह, हृदय रोग, रक्तचाप आदि।
  • गर्भावस्था में हल्का व्यायाम काफी जरूरी होता है। इससे शरीर में फूर्ति बनी रहती है और डिलवरी के समय आसानी रहती है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK