• shareIcon

फल-सब्जियों से करें लंग कैंसर को बाय

कैंसर By सम्‍पादकीय विभाग , सखी / Sep 04, 2012
फल-सब्जियों से करें लंग कैंसर को बाय

फल और सब्जियों की एक निश्चित मात्रा से लंग कैंसर का खतरा कम हो सकता है, खासकर स्मोकर्स में जो स्कैवमस सेल कॉसिर्नोमा (एक प्रकार का लंग कैंसर) से पीडित थे। आइए जाने, कैसे फल व सब्जियां खाने से फेफडे के कैंसर का खतरा कम होगा।

फल-सब्जियों के फायदों के बारे में तो हमें बहुत कुछ पता है लेकिन अब अपने भोजन में इनकी मात्रा बढ़ाने की एक और वजह सामने आयी है। एक नये शोध के अनुसार तरह-तरह के फल व सब्जियां खाने से फेफड़े के कैंसर के खतरे को कम‍ किया जा सकता है। शोध में यहां तक दावा किया गया है कि ये फल और सब्जियां धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों के लिए भी फायदेमंद होती हैं। 

 

fruits and vegetalbes for lung cancer

नीदरलैंड स्थित इंस्टीट्यूट फॉर पब्लिक हेल्थ एंड इन्वाइरनमेंट के शोधकर्ताओं ने कहा कि सबसे कारगर तरीका यही है कि स्मोकिंग छोड़ दी जाए। स्टडी के चीफ रिसर्चर एच मिसक्युटा ने कहा कि खाने में हर तरह के फल और सब्जियां लेने से-चाहे उनकी मात्रा कुछ भी हो- स्मोकर्स में लंग कैंसर के खतरे को एक हद तक कम किया जा सकता है। कैंसर एपिडेमायलॉजी, बायोमार्कर्स एंड प्रिवेंशन नाम के जर्नल में छपे कैंसर और न्यूट्रिशन पर आधारित स्टडी में 452,187 लोगों पर रिसर्च की गई, जिनमें से 1600 लंग कैंसर से जूझ रहे थे।

 

शोधकर्ताओं ने स्टडी की शुरुआत में सामान्य तौर पर खाए जाने वाले 14 कॉमन फ्रूट्स और 26 वेजिटेबल्स के बारे में सूचनाएं इकट्ठा की। स्टडी में ताजे, डिब्बाबंद और सूखे प्रॉडक्ट्स भी शामिल थे। स्टडी के पिछले रिजल्ट्स ने दिखाया कि वेजिटेबल्स और फ्रूट्स की एक निश्चित मात्रा से लंग कैंसर का खतरा कम हो सकता है, खासकर स्मोकर्स में जो स्कैवमस सेल कॉसिर्नोमा (एक प्रकार का लंग कैंसर) से पीडित थे।

 

lung cancer diet

लेकिन नई स्टडी में शोधकर्ताओं ने पाया कि खाने में तरह-तरह के फ्रूट्स और वेजिटेब्ल लेने से स्कैवमस सेल कॉसिर्नोमा का खतरा खासा कम हुआ। मिसक्युटा ने कहा कि फल और सब्जियों में विविध प्रकार के बायोएक्टिव कंपाउंड होते हैं। उन्होंने कहा कि यह मायने रखता है कि हमें न केवल निश्चित मात्रा में इनका सेवन करना चाहिए, बल्कि खाने में तरह-तरह के फल और सब्जियों को शामिल कर बायोएक्टिव उत्‍पादों का अच्‍छा खासा मेल भी होना चाहिए।

 

Image Courtesy- Getty Images

Read More Article on Cancer in hindi.

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK