बाजार में बिकने वाली सब्जियों के मुकाबले फ्रीज में ज्यादा ताजी रहती हैं सब्जियां? जानें कैसे रखें इन्हें फ्रेश

Updated at: May 15, 2020
बाजार में बिकने वाली सब्जियों के मुकाबले फ्रीज में ज्यादा ताजी रहती हैं सब्जियां? जानें कैसे रखें इन्हें फ्रेश

क्या आप भी बाजार से ढेर सारी सब्जियां लाकर फ्रीज में रख देते हैं कि ये ताजी रहेंगी? जानें कितना फायदेमंद है ये आपके लिए। 

 

Jitendra Gupta
विविधWritten by: Jitendra GuptaPublished at: May 15, 2020

अक्सर आपने देखा होगा कि आपकी मां सब्जी मंडी जाकर ढेर सारी सब्जियां लाकर फ्रीज में रख देती हैं और कहती हैं कि चलों हफ्ते भर की छुट्टी हो गई अब अगले हफ्ते सब्जी लेकर आउंगी। ऐसा बरसों से चला आ रहा है कि लोग हफ्ते भर की सब्जियां लाकर फ्रीज में स्टोर कर लेते हैं और सोचते हैं कि फ्रीज में रखी सब्जियां ताजी ही रहेंगी। क्या आप भी यही सोचते हैं कि फ्रीज में सब्जी को रखने से उसके ताजेपन को लॉक किया जा सकता है।   

fresh

अगर आपके भी ऐसा ही सोचना है तो आप कुछ हद तक सही है लेकिन फ्रीज में सब्जी को रखने से उसके मूलभूत पहलुओं में बदलाव किए बिना ताजगी को लॉक किया जा सकता है। इसके साथ ही खाना पकाने के बाद फ्रीज में रखने से सब्जी के आकार में भले ही बदलाव न आए लेकिन इसके स्वाद से लेकर पौष्टिक तत्वों में जरूर बदलाव आ जाता है।  

आखिर क्या है सच्चाई

सच्चाई यह है ऊपर आपको महसूस होने वाले दोनों विकल्पों में से कोई भी विकल्प सब्जी को ताजा रखने में असमर्थ है। न ही कोई एक ऐसी विधि है, जो सभी खाद्य पदार्थों के लिए सार्वभौमिक रूप से बेहतर है। कॉर्न और मटर जैसे कुछ खाद्य पदार्थ बड़े पैमाने पर आंतरिक परिवर्तन से गुजरते हैं। इनमें मौजूद शुगर कुछ घंटों के भीतर स्टार्च बन जाते हैं। न तो सब्जियों को फ्रीज में रखने और न ही बाजार में पहुंचने पर आपके खरीदने तक ये सब्जियां आपको किसानों के बाजार की जितनी ताजगी प्रदान करती हैं। इतना ही नहीं कार्न आपको बगीचे वाली कार्न की ताजगी कभी नहीं देगा। फ्रीज में इन चीजों को रखने से इनमें मौजूद शुगर को बदल देता है। ग्रॉसरी में रखे फूड फॉर्म को बनाए रखते हैं, लेकिन हानि की प्राकृतिक प्रक्रिया जारी रहती है। भले ही प्रोसेस्ड न हो लेकिन इसको स्टोर करने से इसका जायका जरूर बिगड़ जाता है।     

इसे भी पढ़ेंः बारिश में ऐसे करें फलों और सब्जियों को साफ, निकल जाएंगे कीटाणु और बैक्टीरिया

कैसे करें सब्जियों की ताजगी को स्टोर    

ताजगी से अधिक महत्वपूर्ण है इनका उपयोग । अगर आप कॉर्न  खाना चाहते हैं और सुबह उठकर किसी स्थानीय खेत तक नहीं पहुंच सकते हैं, तो आपको अपने मन की लालसा को शांत करना बेहतर रहेगा । दरअसल कॉर्न को खेत से शहरों में पहुंचने में काफी समय लगता है, जिसके कारण इसके पौष्टिक तत्व बिगड़ जाते हैं। कॉर्न को अल्ट्रा स्वीट होने के लिए हाइब्रिड किया जाता है ताकि कॉर्न का उत्पादन इसकी मिठास बनाए रखे भले ही इसमें ताजगी न हो। अगर आप इसे किसी साइड डिश के रूप में खाना चाहते हैं तो इसे फ्रीज में रख सकते हैं, जो इसे फ्रेश स्वाद दे सकता है। 

 vegetable

आलू और सब्जियों को फ्रीज में रखना कितना सही

आलू और कुछ सब्जियों की प्रकृति कॉर्न और मटर के विपरीत होती हैं और इन्हें स्टोर करने से इनमें मीठापन बढ़ जाता है। हालांकि यह परिवर्तन बटरनट स्क्वैश जैसे भोजन में वांछनीय है, लेकिन ये परिवर्तन उन आलू के लिए वांछनीय नहीं है जिन्हें पहले से ही लंबे वक्त से स्टोर कर रखा गया है। क्या आपको फरवरी में खरीदे गए आलू के मुकाबले अगस्त में खरीदे आलू जैसी ताजगी मिल सकती है। दरअसल आलू को एक खेतों से बाजार तक पहुंचने में पूरा सीजन निकल जाता है। हालांकि ये  इस बात पर निर्भर करता है कि आप उन्हें कैसे उपयोग करना चाहते हैं, और फिर आप उन्हें स्टोर कर बेहतर तरीके से काम कर सकते हैं।   

इसे भी पढ़ेंः Kitchen Tips: सब्जियों के पोषक तत्व बचाने के लिए खाना बनाते समय करें ये 5 काम

कैसे लें ताजें फलों का आनंद

हो सकता है कि फ्रेशनेस को लेकर बहस फलों में सबसे अधिक होती है। अगर आप ताजे फल जैसे आम या आड़ू खाना चाहते हैं तो आपको पेड़ से टूटे हुए फलों का ही सेवन करना चाहिए। बाजार में बेचने के लिए इन्हें समय से पहले तोड़ लिया जाता हैं और केमिकल द्वारा पकाया जाता है। ये न आपकी सेहत के लिए खतरनाक हैं बल्कि आपको बीमार बनाने के लिए भी काफी हैं।  अगर आपको ताजे फल खाने ही हैं तो गाड़ी  में बैठिए और किसी खेत में जाकर सीधे वहां से आम ले आइए। इसके साथ ही आप वहां से जितना चाहें सामान ला सकते हैं और उन्हें फ्रीज  में स्टोर कर ताजे फलों का आनंद ले सकते हैं।     

Read more articles on Miscellaneous In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK