किसी की गलती को माफ करने से भी मिलते हैं कई लाभ, जानें ये 5 बातें और खुशी से करें सभी को माफ

Updated at: Nov 28, 2019
किसी की गलती को माफ करने से भी मिलते हैं कई लाभ, जानें ये 5 बातें और खुशी से करें सभी को माफ

किसी को माफ करने से सिर्फ आपका मन ही हल्का नहीं होता, बल्कि इसके कई और स्वास्थ्य लाभ भी हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में।

Pallavi Kumari
तन मनWritten by: Pallavi KumariPublished at: Nov 28, 2019

आपने कई बार सुना होगा कि हमें अपने मन में बातों को घर करके नहीं रखना चाहिए बल्कि उन्हें लोगों के साख बांटते हुए भूल जाना चाहिए। इसी तरह लोगों को उनकी गलतियों को लिए माफ करना और अपनी गलती की माफी मांगना भी कई मानसिक बीमारियों से बचने का एक आसान उपाय हो सकता है। पर मनोवैज्ञानिकों की मानें, तो ऐसा करना और बातों को भूल जाना सबके लिए आसान नहीं होता। ऐसा इसलिए भी क्योंकि बहुत से लोग माफी को एक थोपने या बोझ के रूप में देखते हैं  एक आवश्यकता, जिसे वे करने के लिए दबाव महसूस करते हैं। जबकि क्षमा करना बहुतों के लिए आसान नहीं है, यह एक ऐसा कौशल है जिसे सीखा जा सकता है। वहीं माफ करने के कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। आइए हमा आपको बताते हैं इसके बारे में।

forgiveness benefits

लॉरन टाउस्सेंट, पीएचडी, आईओआरए में लूथर कॉलेज के मनोविज्ञान के प्रोफेसर कहते हैं, जिनका कहना है कि माफी कई मानसिक रोगों से बचने का एक आसान और कारगर उपाय है। उनके अनुसार माफी 'एक आंतरिक सफाई की तरह है, जो स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में माफी परियोजनाओं को निर्देशित करते हैं। उन्होंने "फॉरगिव फॉर गुड" पद्धति का विकास और परीक्षण किया और उसी शीर्षक के साथ एक पुस्तक लिखी। "यह आपके वर्तमान जीवन के लिए किसी और को दोष देना बंद करना सीखाता है।

इसे भी पढ़ें :  म्यूजिक सुनने से होते हैं इतने फायदे, जानिए हमारी जिंदगी में कब-कब साथ देता है म्यूजिक

माफ करना के 5 स्वास्थ्य लाभ-

बेहतर शारीरिक, मानसिक स्वास्थ्य-

चाहे क्षमा करना कितना भी मुश्किल क्यों न हो, पर हमें इससे पीछे हटना नहीं चाहिए। कोई मित्र आपके साथ खड़ा हो या कोई पुरानी बीमारी का निदान हो, यह कई स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा हुआ है। अध्ययन से पता चलता है कि उनमें से 148 युवा वयस्कों के एक अध्ययन में, टूसेंट और उनकी टीम ने अपने तनाव के जोखिम, क्षमा करने की क्षमता और स्वास्थ्य की स्थिति को मापा। ग्रेटर स्ट्रेस की मानें जिन लोगों में माफी का निचले स्तर मिला, उनमें स्ट्रेस की मात्रा ज्यादा पाई गई। प्रत्येक खराब मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य से पीड़ित लोगों के बारे में एक चीज समान थी कि ये लोग थोड़े संकुचित और मन में ज्यादा बातें रखने वाले लोग थे। इनकी तुलना में खुले दिल वाले लोगों में बेहतर मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य की बात की गई।

बेहतर सोच कौशल-

अप्रिय स्थितियों को क्षमा करना, जैसे कि नफरत वाली नौकरी, पुरानी बीमारी, या किसी प्रियजन की मृत्यु से मानसिक तरह से परेशान लोगों में तनाव की अधिकता देखी गई। ऐसे लोगों को ज्यादा बीमार रहने के संकेत मिला। ब्रिघम यंग यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं की मानें, तो वे लोग जिनमें लोगों को माफ करने की बेहतर क्षमता होती है, उनका दिल और दिमाग बेहतर काम करता है। ऐसे लोगों में सोचने का शक्ति ज्यादा होती है। ऐसे लोगों में दिमागी क्षमता ज्यादा होती है। ये अपने हर काम को अच्छे से कर पाते हैं और वे कंफ्यूजन में रहने वाले लोगों से बेहतर तौर फैसले लेने में सक्षम होते हैं। इस तरह इस आदत को अपने में डालने से आप कई तरह के मुश्किलों से बच सकते हैं।  

सामाजिक दर्द से राहत-

क्षमा करने से सामाजिक दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है। कम से कम अगर यह एसिटामिनोफेन के साथ संयुक्त है, तो आप बस इस आदत के कारण कई मानसिक बीमारियों से बच सकते हैं। सामाजिक दर्द को सामाजिक अस्वीकृति के साथ आने वाली भावना के रूप में परिभाषित किया गया है। ये अक्सर तब होता है कि जब किसी को इस बात का असहसास होता है कि लोगों के कारण उनकी जिंदगी खराब हो गई है। दुनिया उनके दर्द का जिम्मेदार है। ऐसे में अगर आप बड़े दिल से ये सोच लें कि लोगों को जो सोचना है, वे सोचने दें क्योंकि ये उनके मन पर है। आप उससे दुखी नहीं होंगे तो आप इस सामाजिक दुख से बच पाएंगे। शोधकर्ताओं ने 42 स्वस्थ युवा वयस्कों को प्रतिदिन 1,000 मिलीग्राम एसिटामिनोफेन लेने के लिए, 400 मिलीग्राम पोटेशियम की एक प्लेसबो गोली या कोई गोली नहीं दी। फिर उन्होंने 20 दिनों के लिए प्रतिदिन उनके माफी स्तर और सामाजिक दर्द का आकलन किया। एसिटामिनोफेन ने सामाजिक दर्द के स्तर को कम कर दिया, लेकिन केवल उन लोगों में जिन्हें चीजों को माफ करना और भूलना आता था। 

Inside_forgiving is good for health

अवसाद से बचाव-

क्षमा और अवसाद एक दुसरे से जुड़ा हुआ है। अनुसंधान से पता चलता है कि 311 कोरियाई शिक्षकों का मूल्यांकन करने वाले एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि आत्म-करुणा ने क्षमा और अवसाद की कमी के बीच की कड़ी को नियंत्रित कर सकता है। वे लोग जिनमें आत्म-करुणा की कम थी, वो बहुत उदास रहते थे। इस अगर आप खुश रहना चाहते हैं तो लोगों को माफ करना सीखें। ऐसा करना से आप लंबे समय तक अवसाद से बचे रह सकते हैं। साथ ही अवसाद को कम रखने के कई आप अपनी बातों को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साख बांटने की कोशिश करें।

 इसे भी पढ़ें :  किताब पढ़ने के हैं कई स्वास्थ्य लाभ, अल्जाइमर समेत कई मानसिक बीमारियों से रहेंगे आप दूर

काम पर बेहतर उत्पादकता-

कार्यस्थल में क्षमा करने से काम पर तनाव कम हो सकता है।  शोधकर्ताओं ने 262 श्रमिकों का मूल्यांकन किया, माफी को मापने, उत्पादकता में कमी, अनुपस्थिति, तनाव, और स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान को जोड़कर स्टडी की।  अपराध की माफी मांग कर आप अपनी उत्पादकता को और बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा इस तरह ये क्षमा करने की आदत आपको मानसिक तौर से आजाद कर सकता है। इसके लिए बस आपको एक ही कला आनी चाहिए, वो ये कि लोगों को सही समय पर माफ कर सकें। इस तरह माफ करना सीख कर आप बेहतर शारीरिक, मानसिक स्वास्थ्य के साथ आप अपनी जिंदगी को आसान बना सकता हैं।

Source: WebMd

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK