स्‍ट्रोक (लकवा) के बाद शरीर में होती हैं कई सारी परेशानियां, जानें व्यक्ति के भूख पर कैसा होता है इसका असर

Updated at: Aug 05, 2020
स्‍ट्रोक (लकवा) के बाद शरीर में होती हैं कई सारी परेशानियां, जानें व्यक्ति के भूख पर कैसा होता है इसका असर

स्ट्रोक यानी लकवा में शरीर के प्रभावी अंग की संवेदन-शक्ति समाप्त हो जाती है और वह सुचारू रूप से काम करना बंद कर देता है।

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Aug 05, 2020

स्ट्रोक की समस्या का कारण  दिमाग के किसी भी हिस्‍से में रक्‍त न पहुंचाना है या फिर दिमाग की किसी नस का चोटिल होना है । तब दिमाग की कोशिकाओं के आस-पास के क्षेत्रों में खून भर जाता है। इस कारण मरीज की अपनी बोलने और समझने की क्षमता खत्म हो जाती है। व शरीर का वह हिस्‍सा अकड़ जाता है। स्ट्रोक के बाद सेहत और शरीर का ध्यान रखना बहुत आवश्यक हो जाता है।  क्योंकि शरीर से ही हर काम करने की ऊर्जा व ताकत मिलती है। यदि  शरीर की ही देखभाल नहीं होगी तो शरीर का कोई भी अंग काम ठीक ढंग से नहीं कर पाएंगा।  स्ट्रोक  खान पान पर गहरा असर छोड़ सकता है। यह खान पान को निम्नलिखित तरीके से प्रभावित कर सकता है। 

Inside_paralysis

1. निगलने में परेशानी (Trouble swallowing)

खाना खाते समय खांसी, उल्टियां, गला चोंक होना आदि समस्याएं हो सकतीं हैं। किसी निवाले को निगलते समय, हो सकता है कि नाक बहने लगे। पर यह समय के साथ स्वयं ठीक हो जाता है। लेकिन कुछ सावधानियां बरतने की आवश्यकता है।हल्का फुल्का भोजन ही खाएं जैसे उबले हुए आलू, सूप आदि। ड्रिंक्स को थोड़ा गाढ़ा बनायें। यदि पानी कम  पिएंगे तो हो सकता है  डिहाइड्रेशन हो जाए। पर  ज्यादा पतले ड्रिंक्स पीना भी सही नहीं है। इसलिए थोड़े गाढ़े ड्रिंक्स पीना उचित है। स्पीच थेरेपिस्ट को दिखायें। वह  जीभ, होंठ, गले और मुंह की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए व्यायाम के माध्यम से मार्गदर्शन कर सकता है, जो खाना निगलने में मदद करेगा। 

इसे भी पढ़ें : ब्रेन हेमरेज, किडनी और पैरालिसिस जैसे रोगों का कारण बनता है हाई ब्लड प्रेशर, जानें क्यों?

2. बरतन उठाने में परेशानी (Problems using utensils)

स्ट्रोक से हो सकता है आप की बाहों की मसल्स कमजोर हो जाए। जिससे आप को कुछ भी उठाने में दिक्कत महसूस हो। आप को चाकू, चमच, कांटा आदि प्रयोग करने में कठिनाई महसूस हो सकती है। उन उपकरणों का प्रयोग कर सकते हैं जो उठाने में बहुत हल्के व नरम हों।आप कुछ ऐसे टूल्स का प्रयोग करें जिनकी ग्रिप पकड़  आसान हो जैसे ईज़ी ग्रिप, कैंची आदि। 

3. भूख न लगना (Loss of appetite)

स्ट्रोक की वजह से हो सकता है आप को उतनी भूख न लगे जितनी कि पहले लगती थी। या आप के दिमाग का वह हिस्सा नष्ट हो गया है जिससे आप को खाने के स्वाद, व गंध का पता चलता हो। ज्यादा भूख लगने के लिए आप ज्यादा तेज फ्लेवर वाले खाने ,रंग बिरंगे भोजन पदार्थ जैसे गाजर, हरी सब्जियां ज्यादा खाएं। क्योंकि रंग हमारे दिमाग को आकर्षित और सब्जियां  स्ट्रोक के बाद एपेटाइट को नियंत्रित करतीं हैं। पर हाई फैट वाले भोजन को ज्यादा न खाएं। यदि आप को ज्यादा भूख नहीं लगती है तो आप तरल पदार्थ जैसे ड्रिंक्स आदि भी पी सकते हैं। 

4. कम एनर्जी (No energy)

स्ट्रोक से आप की अधिकतर ऊर्जा खत्म हो जाती है। आप हर समय थका हुआ फील करते हैं। एनर्जी के लिए आप को हेल्दी खाना खाना चाहिए। इसके लिए आप आप सबसे बड़ी मील अपने ब्रेकफास्ट को बनाएं। ज्यादा से ज्यादा पोषक तत्त्वों से भरपूर फल व सब्जियां खाएं। अपने आखिरी भोजन को एक सैंडविच या अनाज के रूप में लें।

इसे भी पढ़ें : जानिए कितना खतरनाक हो सकता है स्लीप पैरालिसिस, जानें लक्षण और बचाव

प्री-कट, प्री-वॉश किए गए फल और सब्जी खरीदें। दोस्तों और परिवार के सदस्यों को ऐसे व्यंजन बनाने के लिए कहें, जिन्हें आप  फ्रीज कर सकते हैं और गर्म कर खा सकते हैं। किसी के साथ भोजन साझा करें। चाहे वह किसी प्रियजन या देखभाल करने वाले के साथ हो। इस तरह, आपका साथी यह सुनिश्चित कर सकता है कि आप ठीक से खा रहे हैं और आपको किसी भी तरह की मदद की ज़रूरत है।

अपने मानसिक स्वास्थ्य को अनदेखा न करें। स्ट्रोक के बाद अवसाद होना आम है। यह आपको उदास और चिंतित कर सकता है।  जिस वजह से आपको सोने में परेशानी हो सकती है। आप थेरेपी के लिए चिकित्सक या परामर्शदाता से संपर्क करें।

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK