• shareIcon

    इन 5 तरह के दर्द का घर पर ना करें इलाज

    दर्द का प्रबंधन By Aditi Singh , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 12, 2015
    इन 5 तरह के दर्द का घर पर ना करें इलाज

    सभी तरह के दर्द के लिए आप घरेलू नुस्‍खों को आजमाते हैं और इनसे आराम भी मिलता है, लेकिन कुछ तरह के दर्द ऐसे भी होते हैं जिनका उपचार घर पर करना ठीक नहीं है, इनके लिए चिकित्सक से संपर्क करना ही बेहतर है।

    हल्के और कम शारीरिक दर्द का इलाज हम अक्सर खुद ही करने लग जाते है। पर ये सही नहीं है। ये आपकी सेहत को नुकसान पंहुचा सकता है। दर्द जब तक गंभीर ना हो जाए तब तक डॉक्टर के पास नहीं जाते। अगर आपमे भी इस तरह की आदते है तो इन्हें बदल डालिए। सभी तरह के दर्द का इलाज घर पर नहीं किया जा सकता है। कई बार दर्द सही कारण ना पता होने के चलते घरेलू उपायों का असर भी उल्टा पड़ सकता है।


    Pain In Hindi

    दर्द के साथ बुखार

    आगर आपको दर्द के साथ बुखार की समस्या हो तो आप तुंरत ही डाक्टर से मिले।  दर्द में बुखार और थकान का अनुभव, लाल सूजे हुए जोड़ रूमटॉइड आर्थराइटिस का संकेत हो सकता है। ये पुरानी सूजन का नतीजा हो सकता है जो जोड़ो के कार्य को प्रभावित भी कर सकता है।

    बायें हाथ मे कसाव

    अगर आपके बाएं हाथ में दर्द के साथ कसाव, सीने और पीठ के ऊपरी भाग मे दर्द का अनुभव हो तो ये एंजीना पैक्टोरिस का संकेत होता है। इसमे दिल मे कोने वाले रक्त के संचार में कमी आ जाती है। इसलिए इस तरह के दर्द में भी डाक्टर की सलाह तुंरत लें।

    Leg Cramps

    पिंडली में खिचाव

    पिंडली की मांसपेशियो मे खिचाव औऱ दर्द को भी सामान्य दर्द की तरह नहीं लेना चाहिए। अगर आपकी पिंडलियो की त्वचा का रंग बदल रहा हो या सुन्न हो जाता हो तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसका कारण उस अंग की धमनी में खून की सप्लाई बंद हो जाना हो सकता है।

    लंबे समय तक बैकपेन

    बैकपेन की समस्या को हम अक्सर ही छोटी समझ कर नजरदांज कर देते है। लेकिन अगर आपको लंबे समय से बैकपेन की समस्या हो तो इस बारे मे डॉक्टर से जरूर सलाह लें। कई बार ऐसे समय मे कमर का सुन्न हो जाना, लिंब्स का टूटना जैसे लक्षण नर्व कम्प्रेशन के होते है।


    Fever and pain in Hindi

    रात में अचानक से दर्द होना

    रात मे सोते समय अगर आपको अचानक से गंभीर और तेज दर्द हो जाता है। एनीमिया, ना पता चलने वाले फ्रैक्चर, इंफैक्शन आदि का समस्या बोन कैंसर के लक्षण होते है। इसे भी हल्के मे नहीं लेना चाहिए। अगर एक से दो बार मे आपको इस तरह के अनुभव हो तो डाक्टर से मिले।  


    अगर किसी भी तरह का दर्द तीव्रता औऱ लगातार होता हो तो लापरवाही ना बरतिये। तुंरत ही डाक्टर से सलाह ले।

     

    ImageCourtesy@gettyimages

    Read More Article on Pain Management in Hindi

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK