• shareIcon

शॉवर लेते या नहाते वक्त रूखी त्वचा के लिए 5 उपचार

फैशन और सौंदर्य By Rahul Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 14, 2014
शॉवर लेते या नहाते वक्त रूखी त्वचा के लिए 5 उपचार

मौसम में बदलाव के साथ त्वचा का रूखापन भी बढ जाता है। ऐसे में यदि शॉवर लेते समय कुछ खास उपायों को अपनाया जाए तो इस समस्या से बचा जा सकता है।

नियमित स्‍नान हमारी त्‍वचा और स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद जरूरी होता है। लेकिन, क्‍या आप जानते हैं कि नहाने के तरीके का हमारी त्‍वचा पर काफी असर पड़ता है। यानी अगर हम सही प्रकार से नहीं नहायेंगे तो महंगे उत्‍पाद लगाने के बाद भी हमारी त्‍वचा को जरूरी पोषण नहीं मिलेगा। इसलिए शॉवर लेते वक्त कुछ बातों का ध्यान रख, रूखी त्वचा को कोमल और सुंदर बनाये रखा जा सकता है। जानें कैसे।  

Dry Skin Remedies for Your Shower

 

यूं तो रूखी त्वचा के अनेक कारण हो सकते हैं, लेकिन उनमें प्रमुख कारण मौसम में होने वाला बदलाव होता है। सर्दियों में रूखी त्वचा होना आम बात है, और यह काफी परेशान भी करती है। सर्दियों में तापमान में होने वाले परिवर्तन की वजह से शरीर की कोशिकाएं सिकुड़ जाती हैं। साथ ही त्वचा में तैलीय तत्‍व भी कम होता जाता है। इस दौरान गर्मियों में पसीने के साथ त्वचा से निकलने वाला प्राकृतिक ऑयल सर्दियों में निकलना बंद हो जाता है। जिस वजह से भी त्वचा में खुजली और रूखापन आ जाता है। यदि नहाते समय कुछ उपचारों का अनुसरण किया जाए तो त्वचा के रूखेपन को दूर किया जा सकता है। जानें नहाते वक्त रूखी त्वचा के लिए ऐसे ही 5 उपचार।

 

गर्म पानी से ज्यादा न नहाएं

सर्दियों के मौसम में ठंड से बचने के लिए लोग अक्सर गर्म पानी से नहाते हैं। तापमान कम होने के कारण गर्म पानी होने पर भी उन्हें इसका अहसास नहीं होता। लेकिन, हमारी त्‍वचा इस बात को भांप जाती है। अधिक गर्म पानी हमारी त्‍वचा से नमी चुरा लेता है जिससे त्वचा रूखी हो सकती है और उसमें खुजली भी शुरू हो सकती है। इसलिए सर्दियों में भी शरीर के तापमान से अधिक यानी औसतन 37 डिग्री तक गर्म पानी ही इस्‍तेमाल करें। बुजुर्ग व्‍यक्तियों को इस मौसम में त्‍वचा के रूखेपन और खुजली की समस्‍या का सामना अधिक करना पड़ता है। इसका एक प्रमुख कारण उनकी त्वचा की कोशिकाओं का मृत होना भी होता है। इस वजह से ये लोग गर्म पानी से खूब नहाते हैं, जिससे उनकी त्वचा रूखी हो जाती है और खुजली भी शुरू हो जाती है। इसे ‘विन्टर ईच’ कहा जाता है।

 

नहाने के प्रोडक्‍ट

नहाने के अधिकांश उत्‍पादों में कैमिकल अधिक मात्रा में होते हैं। जो शरीर की रूखी त्वता को और अधिक रूखा बन सकते हैं। रूखी त्वचा के साथ इनके इस्तेमाल से त्‍वचा खराब हो सकती है। इसलिए हानिकारक केमिकल युक्‍त पदार्थों के स्‍थान पर माइल्‍ड सोप या मिल्‍क, क्रीम, हल्‍दी पाउडर या बेसन व दूध का उपयोग करना बेहतर होता है। इसके साथ ही साधारण साबुन के बजाय आप क्रीम बाथिंग बार या मॉइस्चराजिंग बॉडी वॉशाक इस्तेमाल किया जा सकता है। इनके उपयोग से त्‍वचा में नमी आती है, वह सुंदर होती है और निखार भी बढ़ता है।

 

अपने साबुन और फेसवॉश को बदलें

सर्दियों में आपको अपना फेसवॉश भी बदल लेना चाहिए। इस मौसम में नमी कम होती है, इसलिए आपको ऐसे फेसवॉश का उपयोग करना चाहिए, जिसमें मॉइस्चराइजिंग गुण हों। अगर आप अच्छे दर्जे के मॉइस्चराइजिंग फेसवॉश का इस्तेमाल करते हैं, तो आपकी त्वचा में सूखापन नहीं आता और रोम छिद्र भी साफ हो जाते हैं। वहीं सामान्य फेसवॉश चेहरे की त्वचा को साफ तो करता है, पर नमी को खत्म कर देता है।

 

नहाने के बाद मॉइस्चराजिंग बॉडी लोशन

भले ही आप कितने ही अच्छे बॉडी वॉश का इस्तेमाल क्यों न कर लें, शरीर की त्वचा से कुछ मात्रा में नमी कम हो ही जाती है। इसलिए त्वचा की नमी बरकरार रखने के लिए नहाने के बाद मॉइस्चराजिंग बॉडी लोशन का इस्तेमाल जरूर करें। अच्छे बॉडी लोशन से आपकी त्वचा में नमी बनी रहती है। इसके अलावा आप नहाने से पहले ऑयल मसाज भी ले सकते हैं।

 

बबल बाथ न लें

बाथ टब में खूब सारे बबल्स के साथ नहाने का मजा ही कुछ और होता है। लेकिन क्या आपको मालूम है कि आपके बाथ टब में मजूद ये ढेर सारे बबल्स, आपकी त्वचा की नमी को बरकरार रखने वाले की जरूरी तेलों को छीन लेते हैं और त्वचा को रूखा बनाते हैं। इसलिए बजाए बबल बाथ लेने के आप अपने स्नान में दलिया और दूध पाउडर का उपयोग करें। ऐसा करने से आपकी त्वचा का तेल बना रहेगा और रूखेपन की समस्या नहीं होगी। साथ ही नहाने के बाद त्वचा को खुद सूखने दें, इसे रगड़ें नहीं। रगड़ कर सुखने से त्वचा में रूखापन आ जाता है।

 



उपरोक्त उपचारों का नियनित पालन कर आप रूखी त्वचा की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। ऐसा करने से न सिर्फ आपकी त्वचा का रूखापन खतम होता है, वह कोमल और कांतिमय भी बनती है।

 

Read More Articles On Skin Care in Hindi.

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK