• shareIcon

स्टेम सेल की मदद से बनाया गया पहला क्रियाशील फेफड़ा

लेटेस्ट By एजेंसी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Dec 03, 2013
स्टेम सेल की मदद से बनाया गया पहला क्रियाशील फेफड़ा

फेफड़ों की बीमारियों को समझने व आसान बनाने के लिए स्टेम सेल की मदद से पहले क्रियाशील फेफड़े का निर्माण किया गया है। ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें।  

stem cellवैज्ञानिकों ने मानव स्टेम सेल को क्रियाशील फेफड़ों और वायु नली के सेलों में तब्दील करने में कामयाबी हासिल कर ली है। इससे उन्हें मरीजों की कोशिकाओं से ट्रांसप्लांट के लिए फेफड़े के ऊतक पैदा करने में मदद मिलेगी।

कोलंबिया यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर के इस अध्ययन ने फेफड़ों की बीमारियों, दवाओं की जांच, मानव फेफड़ों के विकास को समझा आसान बना दिया है। शोध प्रमुख हैन्स विलेम स्नोएक का कहना है कि यह बहुत जरूरी खा क्योंकि अब तक फेफड़ों का ट्रांस्प्लांट कर पाना बहुत मुश्किल था और इस समस्या का निदान भी आसानी से नहीं हो पाता था।

हैन्स का कहना है कि हालांकि इसका पाचन मेडिकल प्रयोग अब भी सालों दूर हैं। लेकिन अब मरीज के शरीर से ली गई कोशिकाओं से एक क्रियाशील फेफड़े की कोशिकाएं बनाने के बारे में सोचा जा सकता है और इस पर अमल किया जा सकता है।

इस खोज की मदद से फेफड़े की बहुत सी बीमारियों का अध्ययन कर उमका इलाज किया जा सकता है। इसमें आइडियोपैथिक पल्मनरी फाईब्रोसिस बीमारी भी शामिल है। यह अध्ययन नेचर बायोटेक्नोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

इसे पहले शोधकर्ताओं ने अब तक मानव स्टेम सेलों का दिल, आंत, लीवर,पाचन ग्रंथियां और तंत्रिक कोशिकाओं में बदल सकनें में कामयाबी हासिल की थी।

 

Read More Health News In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK