Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

ब्लड शुगर और स्ट्रोक जैसी 5 बीमारियों को आपसे दूर रखता है गूलर, जानें इस फल के औषधीय लाभ

स्वस्थ आहार
By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 23, 2019
ब्लड शुगर और स्ट्रोक जैसी 5 बीमारियों को आपसे दूर रखता है गूलर, जानें इस फल के औषधीय लाभ

गूलर की जड़ में रक्तस्राव रोकने और जलन को शांत करने के गुण होते हैं। गूलर के नियमित सेवन से शरीर में पित्त एवं कफ का संतुलन बना रहता है और व्यक्ति पित्त एवं कफ दोष से दूर रहता है।

बीमार होने पर अक्सर रोगियों को फल खाने की सलाह दी जाती है और स्कूल में भी बच्चों को रोजाना एक फल खाने को कहा जाता है। दरअसल फल हमारे शरीर में पोषक तत्वों की पूर्ति कर कमजोरी दूर करने में लाभदायक साबित होते हैं। कई फल हमारे लिए काफी सेहतमंद पाए जाते हैं लेकिन हमें उनके बारे में या तो मालूम नहीं होता या फिर हमें उनके बारे में अधिक जानकारी नहीं होती। इन्हीं में से एक फल है गूलर। गूलर में पित्तशामक, तृषाशामक, श्रमहर, कब्ज मिटाने वाला पौष्टिक गुण पाए जाते हैं और इसके साथ ही यह मीठा भी बहुत होता है।

गूलर की जड़ में रक्तस्राव रोकने और जलन को शांत करने के गुण होते हैं। गूलर के नियमित सेवन से शरीर में पित्त एवं कफ का संतुलन बना रहता है और व्यक्ति पित्त एवं कफ दोष से दूर रहता है। गूलर के कच्चे फल की सब्जी बनाई जा सकती है और पके फल को आसानी से खाया जा सकता है। इतना ही नहीं इसकी छाल का चूर्ण बनाकर गैस और कब्ज जैसी समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। अगर आप भी गूलर फल के फायदों से अनजान हैं तो हम आपको इस फल के ऐसे कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

गूलर में मौजूद पोषक तत्व

  • प्रोटीनः 1.3 ग्राम
  • फैटः 0.6 ग्राम, 
  • विटामिन बी2 30.77 फीसदी
  • आयरनः 16.25  फीसदी
  • कॉपरः 11.11 फीसदी 
  • पोटेशियमः 10.81 फीसदी 
  • मैग्‍नीशियमः 8.335 फीसदी
  • कैल्शियमः 7.20 फीसदी
  • फॉस्‍फोरसः  6.71  फीसदी

इसे भी पढ़ेंः Diabetes Diet: ब्लड शुगर रहता है हाई या लो तो सुबह नाश्ते में खाएं ये 4 अनाज, डायबिटीज से रहेंगे दूर

गूलर फल के स्वास्थ्य लाभ

पित्त रोगों को दूर करता गूलर का फल

अगर आप पित्त रोग से परेशान हैं तो गूलर फल के पत्तों के चूर्ण को शहद के साथ खाने से यह समस्या दूर होती है।

बवासीर में फायदेमंद गूलर

अगर आप या आपके घर का कोई भी सदस्य बवासीर जैसी घातक बीमारी से परेशान है तो इस स्थिति में गूलर का फल आपके लिए काफी स्वास्थ्यवर्धक साबित हो सकता है। आप गूलर के तने को दूध को पीकर बवासीर जैसी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अगर मरीज को खूनी बवासीर है तो उसे गूलर के ताजा पत्तों का रस पिलाना चाहिए। कई दिनों तक लगातार ऐसा करने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

स्ट्रोक से बचने में मिलती है मदद

हमारे मस्तिष्क को काम करने के लिए पोटेशियम की जरूरत होती है। पोटेशियम की अधिक मात्रा हमारे मस्तिष्क के संज्ञानात्‍मक कार्यों को बढ़ा कर ऑक्‍सीजन के प्रवाह में मदद करती है, जिस कारण स्‍ट्रोक को रोकने में मदद मिलती है। गूलर में पाई जाने वाली पोटेशियम की अधिक मात्रा हमारे शरीर में वासोडिलेटर की तरह काम करती है, जो रक्‍त वाहिकाओं को आराम देते हुए रक्‍त के प्रवाह को बढ़ाती है, जिसके कारण स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।

इसे भी पढ़ेंः High Blood Pressure: हाइपरटेंशन को रोकने और नियंत्रित करने में फायदेमंद हैं ये 5 ड्रिंक, बीमारियों से रहेंगे हमेशा दूर

कैंसर की रोकथाम में लाभकारी गूलर

गूलर में  पाए जाने वाले एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-कैंसर गुण हमारे शरीर के लिए बेहद लाभकारी है। अगर नियमित रूप से गूलर के पेड़ से निकले रस का सेवन किया जाए तो हमारे शरीर में बनने वाले कैंसर सेल्स को नष्‍ट किया जा सकता है।

ब्लड शुगर को करता है नियंत्रित

हमारे शरीर को ठीक से काम करने के लिए ऊर्जा की जरूरत होती है, जिसमें ब्लड शुगर एक अहम भूमिका निभाता है लेकिन हमारे रक्त में ब्लड शुगर की अधिक मात्रा घातक साबित हो सकती है। गूलर के फल में ब्लड शुगर कम करने वाले गुण पाए जाते हैं। ब्लड शुगर नियंत्रित करने के लिए आप गूलर के पेड़ की छाल का काढ़ा बनाकर पी सकते हैं।

Read More Articles On Healthy Diet in Hindi

 
Written by
जितेंद्र गुप्ता
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागJul 23, 2019

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK