ज्यादा ठंड लगने के पीछे हो सकते हैं ये 4 कारण, जानें कहीं किसी बीमारी का संकेत तो नहीं

Updated at: Dec 31, 2019
ज्यादा ठंड लगने के पीछे हो सकते हैं ये 4 कारण, जानें कहीं किसी बीमारी का संकेत तो नहीं

सर्दी हो या फिर गर्मी जरूरत से ज्यादा ठंड हमेशा खतरनाक होती है, जानें ज्यादा ठंड लगने के पीछे कारण। 

Jitendra Gupta
अन्य़ बीमारियांWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Dec 30, 2019

सर्दियों या गर्मियों में जरूरत से ज्यादा तेज एसी के कारण बहुत तेज ठंड लगना आम बात है। लेकिन जब आपके आस-पास लोग हो फिर आपको हर वक्त ठंड लगती रहे तो ये एक संकेत हो सकता है कि आपके शरीर के साथ चीजें सही नहीं हो रही हैं। जिस तरह पांचों उंगलियां एक बराबर नहीं होती ठीक उसी तरह हर व्यक्ति सर्दी के प्रति अलग-अलग प्रतिक्रिया देता है। कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें तापमान कम होने पर घूमने-फिरने में मजा आता है तो कुछ ऐसे होते हैं, जो तापमान में मामूली सी कमी होने पर स्वेटर और कोट से खुद को लाद लेते हैं। दरअसल ऐसा हर व्यक्ति के मेटाबॉलिक रेट के आधार पर होता है। हालांकि ऐसा हर बार एक तरह नहीं होता। कभी-कभार ये आपके बीमार होने का संकेत भी देता है। इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि अगर आपको दूसरों के मुकाबले ज्यादा ठंड लगती है तो इसके पीछे ये 4 कारण हो सकते हैं। 

winter

इन 4 कारणों से भी लगती है ज्यादा ठंड

एनीमिया

शरीर में स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी (जिसे एनीमिया कहते हैं) आपको हमेशा ठंड लगने के पीछे एक बड़ा कारण हो सकती हैं। लाल रक्त कोशिकाएं, शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए जिम्मेदार होती हैं और अगर किसी कारणवश आपका शरीर इनका पर्याप्त मात्रा में उत्पादन नहीं कर पाता है तो आपको दूसरों के मुकाबले ज्यादा ठंड लगेगी। आप एनीमिया का तब शिकार होते हैं, जब आपके शरीर को लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में आयरन नहीं मिलता है या फिर वे नष्ट हो जाते हैं। लाल रक्त कोशिकाएं तब नष्ट हो जाती हैं , जब आप पर्याप्त रूप से डाइट नहीं लेते, इंफ्लेमेटरी बॉवल डिजीज, खून की कमी या गर्भावस्था के कारण ऐसा हो सकता है। यह आपके अंगों में रक्त के संचार को कम करता है, जिससे आप बहुत ज्यादा ठंड महसूस करते हैं।

इसे भी पढ़ेंः दुनियाभर के 3 में से 1 किशोर को कैंसर और डायबिटीज का खतरा, जानें किन आदतों से बीमार हो रहे युवा

हाइपोथायराइड

हाइपोथायराइडिज्म एक ऐसी स्थिति है, जब आपका शरीर पर्याप्त मात्रा में थायराइड हार्मोन का उत्पादन नहीं कर पाता। ये हार्मोन आपके मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करते हैं। थायराइड हार्मोन की कमी के कारण आपके शरीर के लिए अंदरूनी तापमान को नियंत्रित रखना बहुत मुश्किल हो जाता है और आप बहुत ज्यादा ठंडा महसूस करने लगते हैं। हाइपोथायरायडिज्म के अन्य लक्षण भूलने की बीमारी, अवसाद, शुष्क त्वचा, थकान और वजन बढ़ना है।

winter

हमेशा नींद आना

नींद आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में एक अहम भूमिका अदा करती है। नींद की कमी आपके सर्कडियन रिदम (circadian rhythm) को बाधित कर सकती है, जिसके कारण आप ठंड महसूस करने लगते हैं। हमारा शरीर एक 24 घंटे के चक्र का पालन करता है और इसमें जरा सा भी बदलाव आपकी सामान्य प्रक्रिया को बिगाड़ देता है। इसलिए अगर आपको हर वक्त ठंड लगती है तो आप सही नींद लें।

winter

इसे भी पढ़ेंः सर्दियों में डिहाइड्रेशनः पानी पीने का नहीं करता मन तो खाएं ये 5 फूड, थकान-सिरदर्द जैसी समस्याएं होंगी दूर

आपने हाल ही में वजन घटाया हो

आपके शरीर को अपना अंदरूनी तापमान बनाए रखने के लिए फैट का प्रयोग करना पड़ता है, जिसके कारण हम गर्म महसूस करते हैं। अगर आपने हाल ही में वजन घटाया है तो हो सकता है आपका फैट कम हो गया हो और आप ठंड महसूस कर रहे हों।  हालांकि ऐसा हर किसी के साथ नहीं होता है। जब आप लो-कैलोरी वाली डाइट ले रहे हों तो आपका मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है और आपके शरीर को तापमान नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है। किसी भी प्रकार के ईटिंग डिसऑर्डर से जूझ रहे लोगों को भी इस प्रकार से ठंड लगती है।

(Medically Reviewed: Dr Rajesh, Medical officer incharge, Community health centre, baldirai sultanpur, UP)

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK