• shareIcon

Fatty liver disease diet: लिवर में जमा फैट और सूजन से छुटकारा दिलाते हैं ये 5 फूड, जरूर करें सेवन

स्वस्थ आहार By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 17, 2019
Fatty liver disease diet: लिवर में जमा फैट और सूजन से छुटकारा दिलाते हैं ये 5 फूड, जरूर करें सेवन

सामान्य तौर पर, फैटी लिवर की बीमारी वाले लोगों के लिए कम वसा वाला और कैलोरी से भरपूर आहार, जिसमें भरपूर मात्रा में फल और सब्जियां शामिल हैं, की सिफारिश की जाती है।

फैटी लिवर डिजीज (Fatty liver disease), लिवर में सूजन को दर्शाता है। इससे तमाम लोग प्रभावित होते हैं। इस स्थिति में लिवर में फैट जमा होने लगता है। कई बार ज्‍यादा शराब के सेवन से भी फैटी लिवर की समस्‍या हो जाती है। यह तब भी हो सकता है जब आप शराब न पीते हों। हालांकि, नॉन-एल्‍कोहॉलिक फैटी लिवर रोग (NAFLD) का शराब से कोई खास जुड़ाव नही है। इस तरह के फैटी लिवर रोग होने की बड़ी वजह उच्‍च परिस्‍कृत आहार (Highly processed diet), मोटापा और एक्‍सरसाइज न करना है। वजन कम करने और स्‍वस्‍थ जीवनशैली को अपनाकर आप इस समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं।

 

आप अपने आहार में कुछ बदलाव कर फैटी लिवर डिजीज का प्रबंधन और बचाव कर सकते हैं। सामान्य तौर पर, फैटी लिवर की बीमारी वाले लोगों के लिए कम वसा वाला और कैलोरी से भरपूर आहार, जिसमें भरपूर मात्रा में फल और सब्जियां शामिल हैं, की सिफारिश की जाती है। यदि आपको फैटी लिवर की बीमारी है तो अपने आहार में शामिल करने के लिए नीचे कुछ बेहतरीन खाद्य पदार्थ दिए गए हैं। 

फैटी लिवर डिजीज में फायदे फूड- Food For Fatty liver disease 

ब्रोकली 

क्रूसीफेरस कुल की इस सब्‍जी में स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा से जुड़े कई यौगिक होते हैं और कुछ कैंसर के कम जोखिम से जुड़े हैं- जैसे ब्रेस्‍ट, प्रोस्टेट, कोलन और लिवर कैंसर। अध्ययनों से पता चलता है कि ब्रोकली चूहों में लिवर में वसा के निर्माण को रोकने में मदद कर सकती है। हरी सब्जियां का सेवन करने से वजन घटाने को बढ़ावा मिलता है। 

अखरोट

अखरोट ओमेगा -3 फैटी एसिड में उच्च होते हैं, जो कि नॉन-एल्‍कोहोलिक फैटी एसिड रोग वाले लोगों में वसा और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। शोध में पाया गया है कि जिन लोगों को फैटी लिवर की बीमारी होती है वे अखरोट का सेवन कर सकते हैं, इससे उनके लिवर फंक्‍शन में सुधार होता है। 

लहसुन 

दुनिया भर में भोजन और प्राकृतिक उपचार के रूप में लहसुन का बड़े पैमाने पर उपयोग किया जा रहा है। एडवांस्ड बायोमेडिकल रिसर्च में एक अध्ययन में पाया गया कि लहसुन पाउडर की खुराक फैटी लिवर की बीमारी वाले लोगों में वसा और शरीर के वजन दोनों को कम करने में मदद कर सकती है।

ग्रीन टी 

यह दावा किया जाता है कि ग्रीन टी फैटी लिवर डिजीज सहित कई बीमारियों की रोकथाम और उपचार पर लाभकारी प्रभाव डालती है। शोध बताते हैं कि इस लोकप्रिय पेय को पीने से वसा के अवशोषण में बाधा उत्पन्न हो सकती है, हालांकि फैटी लिवर रोग की रोकथाम और उपचार में ग्रीन टी की प्रभावकारिता का पता लगाने के लिए अधिक काम करने की आवश्यकता होती है। कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट प्रभावी रूप से वजन घटाने में सहायता कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: शराब न पीने वालों का भी डैमेज हो सकता है लिवर, जानें 'नॉन एल्कोहोलिक फैटी लिवर' के 5 संकेत

कॉफी 

ऐसा लगता है कि आपके आहार में कॉफ़ी को जोड़ना नॉन-एल्‍कोहॉलिक फैटी लिवर रोग से आपके लिवर की रक्षा करने का एक शानदार तरीका हो सकता है। हेनाटोलॉजी के एनल्स में एक रिपोर्ट से पता चला है कि कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड होता है, जो लिवर की सूजन और फाइब्रोसिस को कम करने के लिए दिखाया गया एक शक्तिशाली यौगिक है। 

Read More Articles On Diet & Nutrition In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।