लंबी पलक के लिए आईलैश एक्‍सटेंशन का इस्‍तेमाल पड़ सकता है आंखों पर भारी, कंजंक्टिवाइटिस का बढ़ता है खतरा

Updated at: Jun 30, 2020
लंबी पलक के लिए आईलैश एक्‍सटेंशन का इस्‍तेमाल पड़ सकता है आंखों पर भारी, कंजंक्टिवाइटिस का बढ़ता है खतरा

क्‍या आप भी आईलैशे एक्सटेंशन या नकली पलकें लगाते हैं? तो सावधान आप अपनी आंखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

Sheetal Bisht
अन्य़ बीमारियांWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jun 30, 2020

आजकल बहुत से सौंदर्य सामग्रियां ऐसी आ गई हैं, जो आपकी सुंदरता में अधूरी चीजों को पूरा करने में मदद करती है। आज ब्‍यूटी और मेकअप के मामले में देखा जाए, तो लगभग सभी समस्याओं का समाधान है। चाहे वह गंजे लोगों के लिए विग्स हो या लुक ट्रांसफॉर्मेशन के लिए नेचुरल हेयर एक्सटेंशन हो या फिर पतली पलक वाले लोगों के लिए आईलैशेज एक्सटेंशन हो। कुद लोग लोग स्थायी रूप से आईलैश एक्सटेंशन का उपयोग करते हैं क्‍योंकि उनकी पलकें पतली या छोटी होती हैं। आईलैश एक्सटेंशन सस्ती और लगाने में आसान व आरामदायक हैं। आप जब चाहें इन्हें लगा सकते हैं और हटा सकते हैं। लेकिन अगर सुरक्षा की बात करें, तो अस्थायी लैशेज सुरक्षित हैं क्‍योंकि स्थायी लैशेज इसके सेट के साथ आती हैं। आर्टिफिशियल आईलेश से आपकी आंखों में जलन, एलर्जी और आँख आना यानि (कंजंक्टिवाइटिस) हो सकता है।

eye lashes

आर्टिफिशियल आईलैश एक्सटेंशन और कंजंक्टिवाइटिस

आर्टिफिशियल आईलैश एक्सटेंशन का उपयोग आपकी आंखों के लुक को बढ़ाने के उद्देश्य से किया जाता है। बड़ी पलकें बेहद बोल्ड और सुंदर लुक देती हैं, यही वजह है कि इन दिनों महिलाएं अपने बेहतर लुक के लिए नकलह पलकों और एक्सटेंशन का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन क्‍या आईलैश  एक्सटेंशन सुरक्षित हैं? बहुत से उपयोगकर्ताओं को आईलैश एक्सटेंशन के स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में पता नहीं है। लेकिन इसका गोंद एलर्जी प्रतिक्रियाओं का कारण बन सकता है जो त्वचा को परेशान कर सकता है और कंजंक्टिवाइटिस यानि आंख आने का कारण बन सकता है।

इसे भी पढ़ें: सुबह उठते ही चेहरे पर दिखे सूजन, तो हो सकते हैं ये 5 कारण

अस्थायी लैश एक्सटेंशन गोंद का उपयोग करके लैशेस पर चिपके रहते हैं। ये 4 से 6 सप्ताह तक अच्‍छे चल सकते हैं और फिर गिर सकते हैं। लेकिन, जो पीछे रह गया है, वह है आंखों की परत पर गोंद। जैसे-जैसे आपकी प्राकृतिक पलकें बढ़ती हैं, यह गोंद उनके साथ निकलता है। जब भी कोई व्यक्ति अपनी पलकों को रगड़ता है, तो यह गोंद आँखों के अंदर जा सकता है। कभी-कभी, मेकअप के अवशेष, बैक्टीरिया और डेड स्किन सेल्‍स भी इस क्षेत्र में जमा हो जाते हैं। यह आंखों की सेहत के लिए बहुत हानिकारक है।

conjunctivitis

आईलैश एक्सटेंशन के साथ कंजंक्टिवाइटिस को रोकने के लिए टिप्स

यदि आप आईलैश एक्सटेंशन का उपयोग करते हैं और कंजंक्टिवाइटिस  यानि आंख आने या एलर्जी से बचना चाहते हैं, तो यहां आपके लिए कुछ उपयोगी सुझाव दिए गए हैं। इन पर ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि आईलैश एक्सटेंशन और गोंद के उपयोग से आपकी आंखों को संक्रमण न हो।

  • हर दिन कम से कम दो बार अपनी पलकों को साफ करें। आप इसके लिए एक क्‍लीनिंग सॉल्‍यूशन ले सकते हैं, जो विशेष रूप से आईलैश एक्सटेंशन  की सफाई के लिए है।
  • आप अपनी पलकों को स्क्रब करें लेकिन किसी भी अवशेष को हटाने के लिए धीरे से स्‍क्रब करें। नियमित सफाई से आंखों में इंफेक्‍शन का जोखिम कम हो सकता है।
  • एक्‍सट्रा मेकअप और अवशेषों को खत्म करने के लिए मेकअप रिमूवर का उपयोग करें। यदि आप नियमित रूप से मेकअप पहनते हैं तो यह कदम बहुत जरूरी है।
eye problems
  • नकली पलकों का उपयोग करते समय, उन्हें एक सुरक्षित स्थान पर और एक साफ जगह पर रखना सुनिश्चित करें।
  • इसके अलावा, एक विश्वसनीय ब्रांड के साथ नकली लैशेज खरीदें ताकि खतरा कम हो।
  • लैशेज को हटाते समय पहले उन्हें साफ करें और फिर स्टोर करें।
  • नकली पलकों का फिर से उपयोग करने से पहले, उन्हें फिर से एक क्‍लीनिंग सॉल्‍यूशन की मदद से साफ करें, ताकि आप सुनिश्चित हों कि उन पर कोई अवशेष नहीं है जो आपकी आंखों के लिए परेशानी का कारण हो सकता है।
  • यदि आपको आंख में जलन या खुजली हो रही है, तो स्थिति बिगड़ने से पहले तुरंत किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ से सलाह लें। समय पर पता लगाने से किसी भी समस्‍या को रोका जा सकता है।

नकली पलकों और आईलैश एक्सटेंशन का उपयोग करते समय कई लोग इन बिंदुओं का ध्‍यान नहीं रखते हैं। इससे आंखों में संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। अपनी आंखों को सुरक्षित रखने के लिए, आपको इन सुझावों का पालन करना चाहिए। हालांकि सभी आईलैश एक्सटेंशन लगाने वालों में कंजंक्टिवाइटिस नहीं होता है, लेकिन जो लोग उचित एहतियात बरतते हैं, वे 100% सुरक्षित हैं। तो, अपने लैशेज का ध्यान रखें और कंजंक्टिवाइटिस से सुरक्षित रहें।

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK