इन 4 खराब पॉश्चर वाले लोगों में कहीं आप भी तो नहीं? डेस्क जॉब और बैली फैट वाले लोग जरूर करें चेक

Updated at: Nov 27, 2020
 इन 4 खराब पॉश्चर वाले लोगों में कहीं आप भी तो नहीं? डेस्क जॉब और बैली फैट वाले लोग जरूर करें चेक

 बॉडी पॉश्चर (body posture) का खराब होना अक्सर लोगों को पता नहीं चलता। इसलिए अपने उठने-बैठने और काम करने के तरीके को सही रखें।

Pallavi Kumari
विविधWritten by: Pallavi KumariPublished at: Nov 27, 2020

बचपन से हम सभी को सीधे चलने और उठने बैठने का तरीका सिखाया गया है। आपने कई बार अपने घरों में ज्यादा झुक कर चलने और बैठने को लेकर बातें भी सुनी होंगी। पर आपको जान कर हैरानी होगी कि आपको डांटने और सुनाने वाले ये लोग सही थे क्योंकि इन सब का हमारी बॉडी पॉश्चर (body posture) पर बहुत असर होता है। चलने फिरने और उठने बैठने के अलावा आज कल  बॉडी पॉश्चर खराब होने का सबसे ज्यादा डर डेस्क जॉब और बैली फैट वाले लोगों को है। ऐसा इसलिए कि लैपटॉप पर झुक कर बैठे-बैठे सिर आगे की तरफ हो सकता, तो मटापा ज्यादा बढ़ जाने के कारण आपके आगे का शरीर निकला हुआ सा दिख सकता है। ये दोनों ही कंडीशन खराब बॉडी पॉश्चर  के प्रकार हैं। इसी तरह  खराब पॉश्चर के प्रकार और भी हैं, तो आइए जानते हैं  खराब पॉश्चर के प्रकार  (types of posture) और उनके कारण।

insidepostureproblems

पॉश्चर के प्रकार  (types of posture)

1. सपाट पीठ वाला पॉश्चर (flatback posture)

फ्लैटबैक एक ऐसी स्थिति है जहां, आपकी निचली रीढ़ और शरीर के नीचे का हिस्सा एक सीध में आ जाता है। आपकी पीठ के निचले हिस्से सीधे दिखते हैं और आप जब चलते हैं, तो वो थोड़ा अजीब दिखता है। फ्लैट बैक के पीछे कई कारण हो सकते हैं। जैसे कि

  • -जन्म से रीढ़ की हड्डियों से जुड़ी परेशानियां
  • -चोट सर्जरी के कारण
  • -स्पॉन्डिलाइटिस के कारण
  • -लंबे समय तक खड़े रहने वाले कामों को करने के कारण
  • -बहुत पतले होने के कारण।
insidekhyposis

इसे भी पढ़ें : हाई हील्स, गलत बॉडी पॉश्चर जैसी ये 5 आदतें आपके घुटनों के लिए हैं खतरनाक

2. कुब्जा या कुबड़ा  (kyphosis posture)

क्यफोसिस  (Kyphosis) में आपके ऊपरी पीठ ज्यादा निकल जाती है और कंधे आगे की ओर गोल दिखते हैं। इसे कुबड़ा भी कहा जाता है। ये आप तौर पर हड्डियों से जुड़ी परेशानियों के कारण होती है पर इसके पीछे कई और कारण भी हो सकते हैं। जैसे कि 

  • -ऑस्टियोपोरोसिस कंधों को गोल कर सकता है क्योंकि आपकी रीढ़ की हड्डी उम्र के साथ कमजोर हो जाती हैं। यह अक्सर वृद्ध महिलाओं में देखा जाता है। 
  • - रीढ़ की हड्डी में विकृति 
  • -पोलियो 
insidebadposture

3. सिर का आगे की तरफ निकल जाना (forward head posture)

आपने अपने जीवन में ऐसे लोगों को ज्यादा देखा होगा, जिनका सिर आगे निकला हुआ दिखता है और पीठ वाला हिस्सा अजीब सा दबा हुआ दिखता है। फॉरवर्ड हेड आसन तब होता है जब आपका सिर आपके शरीर की मध्य रेखा से बाहर की ओर निकल जाता है। इसके सबसे बड़ा कारण

  • -गलत तरीके से बैठना 
  • -डेस जॉब वालों में ये परेशानी देखने को मिलती है।
  • -अगर आप बहुत ड्राइव करते हों या कूबड़ निकाल कर कोई काम करते हों, तब भी ये परेशानी हो जाती है।
insidepregnancy

इसे भी पढ़ें : उम्र बढ़ने के साथ बिगड़ने लगता है महिलाओं का शरीर, 30 की उम्र के बाद ऐसे ठीक रखें अपना पॉश्चर

4. पीछे की ओर निकला हुआ (swayback posture)

स्वाबबैक(swayback posture), जिसे लॉर्डोसिस या हाइपरलॉर्डोसिस भी कहा जाता है। इसमें आपके कूल्हे आगे निकले हुए नजर आते हैं। ऐसे में जब आप खड़े होते हैं, तो आप अपने पेट निकाले हुए और पीठ पीछे की ओर जाती हुई दिखती है। अगर आप बहुत अधिक बैठते हैं, तो भी आपको ये हो सकता है। इसके अलावा ये

  • -मोटापा या बैली फैट 
  • - चोट
  • -न्यूरोमस्कुलर स्थिति
  • -प्रेग्नेंसी के कारण भी दिखता है।
insidebodyposture

सही पॉश्चर क्या है?

सही पॉश्चर का मतलब ये है कि आपका कोई भी अंग अलग से बाहर निकला हुआ न दिखे। इसके लिए जरूरी ये है कि आप चलने-फिरने, उठने-बैठने और काम करने का तरीका सही करें। इसके लिए

  • -रोजमर्रा की आदतों में सही से खड़े हों, बैठें या लेटें। 
  • -अपने काम करने वाली जगह के कॉन्फ़िगरेशन को बदलें।
  • -अपनी कुर्सी सही करें और बैठने का तरीका बदलें।
  • -उस स्थिति को बदलें जिसमें आप अपने सेल फोन या लैपटॉप को देखते हैं।
  • -नया गद्दा खरीदें और बिना टेक के सीधे बैठना सीखें।
  • -मोटापा और बैली फैट कम करें।

इन तमाम चीजों के अलावा आप रोज सूर्य नमस्कार कर सकते हैं। सूर्य नमस्कार के बारह प्रकारों को रेगुलर करने से आप अपने खराब  पॉश्चर को ठीक कर सकते हैं। तो अगर आप भी डेस जॉब करते हैं या बैठे-बैठे मोटे हो रहे हैं, तो अपने पॉश्चर पर ध्यान दें और उसे सही रखें।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK