• shareIcon

    8 उपाय अपनाएं और नकारात्मक सोच को दूर भगाएं!

    मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Anubha Tripathi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 18, 2014
    8 उपाय अपनाएं और नकारात्मक सोच को दूर भगाएं!

    खुद पर विश्वास करना और हमेशा खुश रहना आपके अंदर नकारात्मक विचार को पैदा होने से रोकता है। इसके अलावा बहुत सी चीजें जिनकी मदद से आप सकारात्मक सोच को बढ़ावा दे सकते हैं।

    तनाव हमारी सोच को काफी हद तक प्रभावित करता है। नकारात्मक सोच तनाव व थकान की ही देन है। नकारात्मक सोच से डिप्रेशन जैसी कई मानसिक बीमारियां दबे पांव हमारे पास पहुंचने लगती हैं। कुछ छोटे-छोटे उपाय अपना कर आप नकारात्मक सोच को कम कर खुश रह सकते हैं।

    कई बार मन में आने वाले नकारात्मक विचार हमें कुछ इस तरह घेर लेते हैं जिससे की हमारी सोच ही नकारात्मक होती जाती है और जीवन में सिर्फ निराशा ही दिखती है। नकारात्मक विचार मन में जितने अधिक होंगे अवसाद की समस्या भी उतनी बढ़ती जाएगी। ऐसे में इन्हें खुद से दूर रखने का हर संभव प्रयास हमारे लिए जरूरी है। अगर आप भी अक्सर ऐसे नकारात्मक भावों से घिर जाते हैं तो अपनी भीतर छोटे-छोटे बदलाव करें और खुद को सकारात्मक दिशा में ले जाएं।

     
    written diary

     
    इसे भी पढ़ें : नकारात्‍मक सोच का भी है अपना महत्‍व

    निर्णय लेना सीखें

    नकारात्मक सोच की स्थिति में मजबूत से मजबूत व्यक्ति भी निर्णय नहीं ले पाता। ऐसे में छोटे-छोटे निर्णयों लें और उनपर अमल करें। ये न सोचें कि आपके निर्णय का परिणाम क्या होगा, सिर्फ यह ध्यान में रखें कि एक बार अगर अपने किसी फैसले पर अमल किया तो वह एक अनुभव होगा और जीवन में कुछ न कुछ जोड़कर जाएगा।

     

    थेरेपी की मदद लें

    नकारात्मक विचारों पर अगर काबू पाना मुश्किल हो रहा है तो मनोविज्ञान में इसका इलाज मौजूद है। कॉग्नीटिव बिहेवियरल थेरेपी, साइकोथेरेपी की मदद से नकारात्मक विचार से बचा जा सकता है। आप इनसे संबंधित किताबें पढ़ सकते हैं और उनमें दिए गए सुझावों को अपनी रोजमर्रा की जिन्दगी में शामिल कर सकते हैं। इससे बहुत हद तक आपकी सोच में बदलाव आएगा।

     

    डायरी लिखें

    माना जाता है अगर मन में चल रही भावनाओं को कागज के पन्ने पर उतारा जाए तो बहुत तसल्ली मिलती है तो अगर भी बहुत ज्यादा परेशान हैं तो जो कुछ भी मन में चल रहा है उसे डायरी में लिख डालें। डायरी या लेख लिखने की कोई उम्र नहीं होती बस थोड़ी इच्छा शक्ति की जरूरत होती है। ऐसा करने से आपका मन खुश रहेगा, क्योंकि जब आप कोई भी डायरी या लेख लिखने बैठते हैं तो आपका दिमाग उस विषय पर चिंतन करने और उसे और निखारकर लिखने में व्यस्त हो जाता है, जिससे आप अपनी सारी परेशानियों को भूल जाते हैं।

    आत्मविश्वास से भरपूर रहें

    आत्मविश्वास की कमी के कारण ज्यादातर लोग नकारात्मक सोच का शिकार होते हैं। हो सकता है कभी आपसे कुछ गलती हो गई हो लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप हमेशा गलत होंगे। अपने अंदर छिपे गुणों को पहचानें और इसे सबके सामने आने दें। अपने व्यक्तित्व को निखारने की कोशिश करें। बुरे से बुरे समय में भी अपने गुणों को याद रखें। कोई भी व्यक्ति पूर्ण नहीं होता लेकिन हर किसी में अच्छाई-बुराई तो होती ही है। इसलिए अपनी कमियों को पहचानें पर अपने गुणों की अनदेखी न करें।

     

    आज में जिएं

    ज्यादार लोग अपनी पुरानी गलतियों या भविष्य की चिंता के कारण नकारात्मक सोच का शिकार होते हैं। लेकिन अच्छा होगा कि आप आज में जिएं अपनी पुरानी भूलों और गलतियों का शिकवा करने और अनिश्चित भविष्य के बारे में चिंता करने का कोई फायदा नहीं है। जब यह आपके नियंत्रण में ही नहीं है तो अपनी भावनाओं को ख़राब करने से कोई फायदा नहीं।


    इसे भी पढ़ें : आत्मविश्वास का कैसे करें निर्माण  

    म्यूजिक हर मर्ज की दवा

    जब भी आपको लगे कि आप पर नकारात्क सोच हावी हो रही है तो संगीत से नाता जोड़े। अपना मनपंसद संगीत सुनें। जब आप अवसादग्रस्त होते है तो अच्छा संगीत आपके परेशान मूड को काफी जल्दी ठीक कर सकता है। संगीत में वो ऊर्जा होती है जो हर गम को भुला देती है। संगीत में मूड बदलने, मन को उपर उठाने और भावनाओं से उपर उठाने की ताकत होती है। फिर भी ज्यादा भावनात्मक संगीत सुनने से बचना चाहिए, यह आपके मूड पर नकारात्मक असर कर सकता है।

    listening music

     

    लॉफिग क्लब ज्वॉइन करें

    कहते हैं कि हंसना अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है। हंसने से हमारा मन तो खुश रहता ही है, साथ ही हर प्रकार की टेंशन भी खत्म हो जाता है। माना जाता है कि हेल्दी रहने के लिए लॉफिंग थेरेपी सबसे अच्छा उपचार है। इसके लिए आप लॉफिंग क्लब ज्वॉइन करें, ताकि आप दिल खोलकर हंस सकें और नकारात्मक सोच से बच सकें।

     

    नकारात्मक लोगों से दूर रहें

    हमारे आसपास कई ऐसे लोग होते हैं जो नकारात्मक सोच की खान होते हैं। कोई भी ऐसे लोगों के बीच में रहना पसंद नहीं करता जो कि लगातार नकारात्मक बातें ही करते हैं। ऐसे लोगों से दूर रहने से मन को शांति और विवेक प्रदान करने में आपको मदद मिलेगी।

     

    नकारात्मक सोच से बचने के लिए ऊपर दिए गए उपाय आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकते हैं। नकारात्मक सोच से बचने के लिए खुश रहने के साथ-साथ आत्मविश्वास बहुत जरूरी है।


    ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

    Image Source : Getty

    Read More Articles On Mental Health In Hindi

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK