Pimple In The Ear: कान में फुंसी या पिंपल से पाना है छुटकारा, तो आजमाएं ये 4 घरेलू उपाय

Updated at: Jul 15, 2020
Pimple In The Ear: कान में फुंसी या पिंपल से पाना है छुटकारा, तो आजमाएं ये 4 घरेलू उपाय

यदि आपके कान में फुंसी या पिंपल हो जाए, तो उसे पॉप करने के बजाय यहां दिए गए आसान उपायों को अपनाएं। 

Sheetal Bisht
घरेलू नुस्‍खWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jul 15, 2020

कुछ लोगों के केवल चेहरे पर ही पिंपल्स नहीं होते हैं, बल्कि कान में भी पिंपल या फुंसी हो जाती है। यह काफी कष्टप्रद हो सकता है क्‍योंकि कान में फुंसी या पिंपल बदतर हो सकते हैं। क्योंकि आप उन्हें, उनके आकार या प्रगति नहीं देख सकते हैं। कान पर फुंसी होने से हमारा मतलब है कि कान के अंदर या बाहरी भाग पर दाना होना। पिंपल्स त्वचा के किसी भी हिस्से पर हो सकते हैं, जहां सीबम का स्राव अधिक होता है। हालांकि, इस कारण से कान में फुंसी या मुंहासे होने की संभावना बहुत अधिक होती है। कान में फुंसी होने के कई कारण हो सकते हैं, आइए यहां विस्‍तार में जानें। 

कान में पिंपल्स के कारण

सीबम उत्पादन के अलावा, कई अन्य कारण हैं जो कान में फुंसी या पिंपल का कारण हो सकते हैं। कान में फुंसी न केवल ये दर्दनाक हैं, बल्कि जोखिमपूर्ण भी हैं। जैसे कि यह सुनने की समस्याओं का कारण हो सकता है। यहाँ कान के मुँहासे के कुछ सामान्य कारण दिए गए हैं:

Pimple In Ear

  • कान छेदने के बाद इंफेक्‍शन 
  • कान की सफाई न रखना, जो कान में फुंसी का करण बनता है
  • हार्मोनल परिवर्तन के कारण 
  • ओटिटिस एक्सटेरा या तैराकी के समय कान में पानी के साफ न होने के कारण 
  • केलॉइड बम्प 
  • सौम्य कैंसर कोशिकाएं

घर पर कान की फुंसी से छुटकारा पाने के उपाय 

कान में दर्द वाली फुंसी से छुटकारा पाने के लिए यहां कुछ आसान और प्रभावी घरेलू उपचार दिए गए हैं। हालांकि, आपको इन्‍हें सावधानी से प्रयास करने की आवश्यकता है, अन्यथा यह कान को नुकसान पहुंचा सकता है।

रबिंग अल्कोहल 

त्वचा की समस्याओं के लिए शराब एक एंटीसेप्टिक एजेंट के रूप में काम करती है। यह संक्रमण को फैलने से नियंत्रित करने में मदद करती है। आप एक कॉटन पैड लें और उसमें रबिंग अल्कोहल की कुछ बूंदें डालें। इसके बाद आप इसे सावधानी पूर्वक कान में लगाएं। ऐसा आप दिन में दो बार कर सकते हैं। ऐसा करने से बैक्टीरिया बिल्डअप खत्म हो जाता है और संक्रमण से बचाव होता है।

Pimple Remedies

विच हेज़ल

विच हेज़ल पिंपल का उपचार करने सहित त्वचा की कई समस्याओं के लिए एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक उपाय है। इसके एंटी माइक्रोबियल गुण संक्रमण को मारने में मदद करते हैं। विच हेज़ेल सॉल्‍यूशन में एक कॉटन पैड या रूई का टुकड़ा भिगोएँ। अब इसे निचोड़ लें और फिर इसे अपने पिंपल और पास की त्वचा पर कोमल हाथों से लगाएं। ऐसा दिन में दो बार करें।

लहसुन

क्या आप लहसुन के एंटीसेप्टिक और एंटी बैक्‍टीरियल गुणों के बारे में जानते हैं? यदि नहीं, तो आपको यह उपाय अवश्य आजमाना चाहिए। यह आसान और सुरक्षित है। आप 2-3 लहसुन की कली और कुछ तेल (सरसों का तेल या तिल का तेल) लें। अब एक कड़ाही में तेल गरम करें और उसमें लहसुन की कली डालें। तेल को थोड़ा पकाने के बाद ठंडा होने दें और फिर ठंडा होने दें। इसे दिन में 2-3 बार अपने पिंपल पर लगाएं। लहसुन के तेल का उपयोग कान के दर्द के इलाज के लिए भी किया जाता है।

इसे भी पढ़ें:  मसूड़ों से आने वाले खून को रोकने और दांतों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं ये 5 घरेलू उपाय

तुलसी

तुलसी पोषक तत्वों और कई उपचार गुणों का एक पावरहाउस है। तुलसी के अर्क का उपयोग कान में फुंसी के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। तुलसी या तुलसी के कुछ पत्तों को कुचलकर उसका रस निकालें। फिर आप एक रूई के टुकड़े का उपयोग करके फुंसी पर तुलसी का रस या इसके अर्क को लगाएं। आप आंतरिक रूप से इसे साफ करने के लिए कान के अंदर के रस को भी गिरा सकते हैं।

नोट: ध्‍यान दें कि चेहरे या कान पर पिंपल या फुंसी को छेड़ें नहीं या पॉप न करें। जब आप एक दाना पॉप करते हैं, तो वह मवाद का कारण बनता है। इससे उन क्षेत्रों में मुँहासे हो सकते हैं। कान में फुंसी असामान्य है और संक्रमण का कारण होने से पहले आपको इसका इलाज करना चाहिए। 

Read More Article On Home Remedies In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK