गर्मी में शरीर को ठंडा रखे और 6 रोगों से बचाएगा 'खस की जड़ का पानी', रुजुता दिवेकर ने बताया इसे 'जादुई जड़'

Updated at: Jun 16, 2020
गर्मी में शरीर को ठंडा रखे और 6 रोगों से बचाएगा 'खस की जड़ का पानी', रुजुता दिवेकर ने बताया इसे 'जादुई जड़'

सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट रुजुता दिवेकर से जानें गर्मी के मौसम में खस का पानी पीने के ढेर सारे लाभ। कई गंभीर बीमारियों से बचाता है 'खस की जड़ का पानी'

Anurag Anubhav
स्वस्थ आहारWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 16, 2020

गर्मी के मौसम में सबसे बड़ी चुनौती होती है शरीर को अंदर से ठंडा रखना और डिहाइड्रेशन से बचना। गर्मियों में पेट की गड़बड़ी आम समस्या मानी जाती है। इसका कारण है कि आप पंखा, कूलर, एसी आदि से अपने शरीर को बाहर से तो ठंडा कर लेते हैं, लेकिन आपके खानपान में जो मसाले, अंडे, मांस और मिर्च आदि हैं, वो आपके पेट में अंदर से गर्मी बढ़ा देते हैं। यही कारण है कि इस मौसम में ज्यादा पानी पीने की सलाह दी जाती है। लेकिन सिर्फ पानी पीने से बात नहीं बनेगी। गर्मियों के मौसम में शरीर को ठंडा रखने और पेट की गर्मी शांत करने के लिए 'खस' (Khus) एक बेहतरीन उपाय है।

खस (Khus)  एक तरह की आयुर्वेदिक औषधि (Ayurvedic Herb) है, जो कई तरह के रोगों और बीमारियों को ठीक करने में मददगार साबित होती है। एक ग्लास पानी में एक छोटा चम्मच खस भी आपके लिए किसी भी रिफ्रेशिंग ड्रिंक, एनर्जी ड्रिंक, कॉफी या सोडा से बेहतर है। सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट रुजुता (Nutritionist Rujuta Diwekar) दिवेकर ने खस को 'जादुई जड़ी' बताया है और इसके ढेर सारे स्वास्थ्य लाभ बताए हैं। आप भी जानें इतनी खास क्यों है ये खस।

khus sharbat

इन 6 समस्याओं में फायदेमंद है खस का पानी

रुजुता दिवेकर ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से पोस्ट शेयर की है, जिसमें उन्होंने खस के ढेर सारे फायदे बताए हैं। रुजुता के अनुसार खस की जड़ का पानी पीना इन समस्याओं में फायदेमंद हो सकता है।

  • हार्मोनल असंतुलन और पीसीओडी (PCOD) की समस्या
  • लो- स्पर्म मोबिलिटी (Low Sperm Mobility)
  • खूबसूरत चिकनी त्वचा और निखार के लिए (Smooth, flawless complexion)
  • यूटीआई (UTI) की समस्या
  • बुखार
  • शरीर के सामान्य और क्रॉनिक दर्द के लिए

कहां मिलेगी खस की जड़?

रुजुता लिखती हैं कि इसकी जड़ों से हल्की खुश्बू आती है, जैसे चंदन से आती है। ये एक तरह की घास ही है। पुराने समय में इसका इस्तेमाल मटका बनाने में किया जाता था, ताकि वो ठंडा रहे। इसकी घास से आज भी चटाई, पर्दे और डलिया आदि बनाए जाते हैं। खस की जड़ आमतौर पर आपको किराना स्टोर्स यानी ग्रॉसरी शॉप्स पर मिल जाएंगी। इसके अलावा ऑनलाइन स्टोर्स पर भी आप खस खरीद सकते हैं।

 
 
 
View this post on Instagram

Khus - the miracle root - Say Hello to the Khus roots, mother nature's natural coolants. They not just make your paani thanda but have exceptional health benefits especially in cases of hormonal disorders like PCOD and low sperm mobility. Some other important benefits - - Smooth, flawless complexion - prevent UTI and fevers - relief from chronic body aches and pains Where to find it - Grows all over India, it was earlier used in matkas to naturally cool down the water and give it a mild fragrance similar to Chandan. The grass is used to make mats, curtains, chatais, especially in areas of dry heat, known to make the room and surroundings cooler. Is often turned into a khas sherbet too. Farmers grow it around veggies and fruit trees for its anti- termite and insect repellent properties. How to use - clean roots, soak them in your drinking water. You can keep them in for 3 days. Post that remove them, dry them and reuse up to 3 times. Also known as - Wala, Walo, Vetiver, Ramacham

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar) onJun 14, 2020 at 10:33pm PDT

कैसे करना है खस का इस्तेमाल?

खस की जड़ों को सबसे पहले अच्छी तरह धोकर साफ कर लें। अब थोड़ी सी जड़ों को पीने वाले पानी में भिगोकर रख दें और 3 दिन तक इसे भीगा रहने दें। 3 दिन बाद आप जड़ों को इसमें से निकाल लें और पानी को थोड़ा-थोड़ा कर पीते रहें। खस की जड़ को आप एक बार ही नहीं, बल्कि सुखाकर 3 बार भिगोने में इस्तेमाल कर सकती हैं। यानी थोड़ी सी जड़ लगभग 10 दिन तक के लिए काम आ सकती है।

इसे भी पढ़ें: ये 5 संकेत बताते हैं कि आपके मस्तिष्क (Brain) को तुरंत है पानी की जरूरत, संकेत पहचानें और पिएं 1 ग्लास पानी

बना सकते हैं खस का शर्बत

गर्मी के मौसम में आप चाहें तो खस का शर्बत को बतौर ड्रिंक भी पी सकते हैं। इसके लिए आपको खस के एसेंस की जरूरत पड़ेगी, जो किसी भी ऑनलाइन स्टोर या ग्रॉसरी शॉप पर आसानी से मिल जाएगा। इस शर्बत को पीने से भी गर्मी में ठंडक का एहसास मिलता है। लेकिन ध्यान दें कि शर्बत में चीनी की मात्रा अधिक होती है, इसलिए इसे बहुत हेल्दी नहीं कहा जा सकता है। अगर आप इसके ज्यादा लाभ उठाना चाहते हैं, तो आपको खस की जड़ों का पानी ही पीना चाहिए, जो ऊपर बताया गया है।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK