• shareIcon

युवावस्था में शराब पीने से लड़कियों में हो सकती हैं ये गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं, रहें सावधान

Updated at: Aug 28, 2019
महिला स्‍वास्थ्‍य
Written by: शीतल बिष्‍टPublished at: Aug 28, 2019
युवावस्था में शराब पीने से लड़कियों में हो सकती हैं ये गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं, रहें सावधान

आज के समय में शराब पीने वालों की संख्या में पहले की तुलना में काफी कमी आई है। लेकिन वहीं आज अधिकतर लोग शराब का सेवन अपने स्टेटस को बनाने के लिए करते हैं। यह केवल वयस्‍क लोगों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि टीनऐजर व युवाओं में स्‍टैंडर्ड व स्&z

आज के समय में शराब पीने वालों की संख्या में पहले की तुलना में काफी कमी आई है। लेकिन वहीं आज अधिकतर लोग शराब का सेवन अपने स्टेटस को बनाने के लिए करते हैं। यह केवल वयस्‍क लोगों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि टीनऐजर व युवाओं में स्‍टैंडर्ड व स्‍टेटस को लेकर शराब का सेवन अधिक देखने को मिल रहा है। देखा जाए, तो शराब का सेवन करने की कानूनी उम्र 25 साल है, लेकिन आजकल की युवा पीड़ी लड़की व लड़के दानों ही कम उम्र में ही शराब पीना शुरु कर देते हैं। युवाओं में शराब पीने की इच्छा किशोरावस्था से ही शुरु हो जाती है। 

किसी पार्टी में अगर आप ड्रिंक करने के लिए मना करते हैं, तो या आपके दोस्‍त आपको शराब पीने के लिए उक्‍साते और मजबूर करते हैं या फिर अगर आप उनके बोलने पर भी नहीं पीते तो आपको सबसे अलग-थलग रहना पड़ता है। देखादेखी और स्‍टेटड को बनाए रखने के लिए अधिकतर लड़कियां और लड़के शराब की ओर बढ़ते चले जा रहे हैं। वर्ष 2017 का आंकड़ा यदि उठाया जाए, तो शराब पीने वालों में लड़कों की संख्‍या अधिक थी, जबकि यदि अब देखा जाए, तो लगभग 60-70 प्रतिशत लड़कियां शराब का सेवन करती हैं। 

इसे भी पढें: बच्चेदानी में गांठ से महिलाओं को हो सकती हैं कई परेशानियां, जानें इसके 4 शुरुआती संकेत

शराब और स्वास्थ्य पर जारी की गई वैश्विक रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार शराब पीने वाले लोगों में 26.5 फीसदी लोग 15 से 19 साल के बीच के हैं। 15 साल की उम्र के लोगों की बात करें, तो तो इसमें लड़के और लड़कियों में कुछ खास अंतर देखने को नहीं मिलता है। फिलहाल इस रिपोर्ट में लड़के और लड़कियों की संख्या के बारे में कोई स्पष्ट आंकड़े नहीं दिए गए हैं। लेकिन इस रिपोर्ट से मिली जानकारी के अनुसार आने वाले साल 2025 तक 15 साल या उससे कम उम्र के शराब पीने वाले बच्चों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी होगी।

दोस्तों के दबाव से होती है शुरुआत

आंकड़ों को देखकर यह साफ हो गया है कि युवा पी‍ड़ी शराब की ओर तेजी से आकर्षित हो रही है। लेकिन इसके पीछे ऐसे कौन से कारण हैं, जिनके कारण युवा तेजी से शराब की ओर बढ़ रहे हैं। इसका सबसे सामान्य कारण साथियों और दोस्तों का दबाव है। आज के समय में कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि ज्यादातर लोग दोस्ती के दबाव में यह सब करना शुरु करते हैं। वहीं कई लोग अपने सामाजिक स्टेटस को बनाने के लिए इस तरह के नशे का सेवन करना शुरु करते हैं। इसके अलावा आत्म-सम्मान, पारिवारिक मुद्दे, चिंता, डिप्रेशन और माता-पिता और भाई-बहनों द्वारा शराब का उपयोग करना भी एक बड़ा कारण है। 

महिलाओं के लिए शराब का सेवन करने के दुष्प्रभाव क्या हैं?

शराब की लत आज एक गंभीर समस्या है और नशा करने वाले लोगों में सबसे ज्यादा संख्या युवाओं की है। कई बार लोग अपने साथियों के साथ झगड़नें और मूड खराब होने पर भी शराब पीना शुरु कर देते हैं। जिसमें लड़के व लड़कियां दोनों शामिल हैं। लेकिन महिलाओं में शराब पीने के कई घातक दुष्‍परिणाम हो सकते हैं।  

  • यौन शोषण
  • प्रजनन स्वास्थ्य पर प्रभाव
  • शारीरिक व मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर
  • खराब एकेडेमिक प्रदर्शन

इसे भी पढें: पीरियड्स में महिलाओं के बढ़ते वजन की समस्या के पीछे हैं ये 5 कारण, आप भी हो सकती हैं इनसे परेशान

शराब के सेवन दुरुपयोग को कैसे रोकें?

शराब पीना और उसके बाद लड़ाई-झगड़ा करना युवाओं के शरीर के साथ-साथ किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। शराब के दुरुपयोग को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने चाहिए क्योंकि शराब पीने से  युवाओं का जीवन बर्बाद हो सकता है। इसके लिए सबसे जरुरी है कि माता-पिता को अपने बच्चों के साथ प्रभावी ढ़ग से खुली बातचीत करें, ताकि वे अपनी समस्याओं और असुरक्षाओं को उनके साथ शेयर कर सकें और उनसे कोई भी बात न छिपाएं।

इनपुट्स- डॉ. साजिद मीर, कंसल्टेंट, मेडिकल टीम, डॉकप्राइम.कॉम

Read More Article On Women's Health In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK