• shareIcon

डायबिटीज और किडनी रोगियों के लिए वरदान है 'बिच्‍छू बूटी' की चाय, जानें इस जड़ी-बूटी के 5 फायदे

आयुर्वेद By शीतल बिष्‍ट , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 26, 2019
डायबिटीज और किडनी रोगियों के लिए वरदान है 'बिच्‍छू बूटी' की चाय, जानें इस जड़ी-बूटी के 5 फायदे

बिच्‍छू बूटी यानी कि नेटल्‍स लीफ (Nettle leaf) के फायदों से शायद बहुत से लोग अंजान होंगे। यह एक तरह की कंटीली झाड़ी है, जिसको छूने से जलन व झनझनाहट होने लगती है। इसकी पत्तियों को छूने से बिच्‍छू जैसा डंक लगता है, यही वजह है कि इसे बिच्

बिच्‍छू बूटी यानी कि नेटल्‍स लीफ (Nettle leaf) के फायदों से शायद बहुत से लोग अंजान होंगे। यह एक तरह की कंटीली झाड़ी है, जिसको छूने से जलन व झनझनाहट होने लगती है। इसकी पत्तियों को छूने से बिच्‍छू जैसा डंक लगता है, यही वजह है कि इसे बिच्‍छु बूटी के नाम से जाना जाता है। वैसे इसे बिछुआ पत्‍ती भी कहते हैं और इसका वैज्ञानिक नाम उर्टिका डियोका (Urtica Dioica)है। बिच्‍छू बूटी कई औषधीय गुणों से भरपूर होने के कारण आपके लिए स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक भी है। आमतौर पर यह सड़कों के किनारे, जंगलों व नदी-नालों के आस-पास नमी वाली जगहों पर पायी जाती है। पोषक तत्‍वों से भरपूर बिच्‍छू बूटी आपके लिवर, किडनी और हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी बेहद फायदेतमंद है। आइए जानते हैं, इस औषधीय बूटी के अद्भुत फायदों के बारे में। 

मासिक धर्म व डायबिटीज के लिए 

टाइप 2 डायबिटीज में उर्टिका डियोका लीफ यानि बिच्‍छू बूटी आपके लिए बेहद फायदेमंद है। डायबिटीज का इलाज करने के लिए बिच्‍छू बूटी का काफी पुराने समय से इस्‍तेमाल किया जा रहा है क्‍योंकि इसमें एंटी-हाइपरग्लाइसेमिक एजेंट होते हैं। इसके अलावा, यह महिलाओं में अनियमित पीरियड्स व जरूरत से ज्‍यादा रक्‍तप्रवाह होने की समस्‍या और दर्द में राहत देने में मददगार है।  

त्‍वचा व बालों के लिए 

बिच्‍छू बूटी आपके बालों को स्‍वस्‍थ मजबूत बनाने के साथ आपकी त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं को भी दूर कर सकती है। त्‍वचा संबंधी ए‍क्जिमा रोग में इसका उपयोग फायदेमंद है। इसके अलावा यह आपके बालों के झड़ने की समस्‍या को भी कम कर सकता है।  

इसे भी पढें: वजन बढ़ाए, दुबलापन दूर करे और तनाव से दिलाए छुटकारा, जानें सफेद मूसली के 5 जबरदस्त फायदे

पेट दुरूस्‍त रखे 

बिच्‍छू बूटी से आप पेट के स्‍वास्‍थ्‍य को भी सही रखा जा सकता है, यह आपके पाचन प्रक्रिया को सही रूप से कार्य करने में मददगार है। इसके अलावा बिच्‍छू बूटी गलत खान-पान के कारण होने वाली एसिडिटी की समस्‍या को भी दूर करने में सहायक है।  जो कई बार गंभीर रूप ले लेती है। बिच्छू बूटी में मौजूद एंटी-अल्सर गुण अल्‍सर की समस्‍या में मदद करते हैं। इतना ही नहीं, पेट में दर्द संबंधी समस्या से राहत दिलाने में बिच्‍छू बूटी वरदान समान है। 

ब्‍लड प्रेशर व किडनी के लिए 

आजकल हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या आम है, ऐसे में डाक्‍टर की सलाह के साथ आप बिच्‍छू बूटी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, यह आपको आसानी से ऑनलाइन भी उपलब्‍ध हो जाएगी। बिच्‍छू बूटी में मौजूद एंटी-हाइपरटेंसिव गुण ब्लड प्रेशर को कम करने में काफी मदद करते हैं। जिससे हाई बल्‍ड प्रेशर की समस्‍या को कम किया जा सकता है लेकिन ध्‍यान रखें कि जिन्हें लो ब्लड प्रेशर की समस्या है, वह लोग इसका सेवन न ही करें। इसके अलावा, यह आपके किडनी स्‍वास्‍थ्‍य को भी दुरूस्‍त रखने में मददगार है। बिच्‍छू बूटी के सेवन से यह शरीर से संक्रमण और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देता है । यह मूत्र पथ के संक्रमण का इलाज करने में मदद करता है।

घाव भरने के लिए 

चोट लगने पर घाव भरने के लिए बिच्‍छू बूटी को आयुर्वेदिक औषधी के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। इसमें हाइड्रोअल्कोहलिक एक्सट्रैक्ट घावों को भरने में मदद करता है और इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी व एंटी-बैक्टीरियल गुण घाव को भरने के लिए लाभकारी साबित होते हैं। इतना ही न‍हीं बिच्‍छू बूटी घाव में जलन दर्द व खून रोकने में मदद कर सकता है।  

इसे भी पढें: मोटापा, डायबिटीज और दमा जैसे रोगों में बहुत लाभकारी हैं कौंच के बीज, जानें 5 अद्भुत फायदे

बिच्‍छू बूटी का उपयोग 

बिच्‍छू बूटी कंटीली होती है इसलिए आप इसकी पत्तियों को दस्‍ताने या कपडे की मदद से चुनें। आप इसे सलाद के रूप में भी खा सकते हैं। इसके लिए आप पत्तियों को अच्छी तरह से धोकर नमक वाले पानी में उबाल लें और फिर इसे सलाद के रूप में सेवन करें। इसके अलावा, डॉक्टर की सलाह से बिच्छू बूटी के कैप्सूल भी लिय जा सकते हैं। आप बिच्‍छू बूटी का खाने में उपयोग के साथ इसकी चाय का भी सेवन कर सकते हैं। आइए आपको इससे बनी चीय की विधि बताते हैं। 

बिच्‍छू बूटी की चाय (Nettle leaf Tea) 

  • सबसे पहले एक बर्तन में 2 कप पानी को उबाल लें।
  • अब उबलते पानी में 3 से 4 चम्‍मच बिच्‍छू बूटी की पत्‍ती से बना पाउडर या ताजी पत्तियां डालें। 
  • थोड़ी देर पत्तियों को पानी में रहने दें और फिर इसमें शहद भी डाल सकते हैं।  
  • अब आप इसे आराम से छानकर गरमा-गर्म इसका सेवन करें।

Read More Article On Aayurveda In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK