दूध पीजिए और आलस भगाइये

Updated at: Jun 22, 2012
दूध पीजिए और आलस भगाइये

एक रिसर्च के मुताबिक आलस भगाने के लिए रोज पीएं एक गिलास दूध। 

Anubha Tripathi
लेटेस्टWritten by: Anubha TripathiPublished at: Jun 22, 2012

doodh pijiye aur alash bhgaiye

यूं तो दूध हमेशा ही सेहत के लिए फायदेमंद रहा है। दूध को संपूर्ण आहार भी कहा जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं दूध में आलस भगाने के गुण भी होते हैं। जी हां, एक रिसर्च में सामने आया है कि दूध में विटामिन बी3 जैसी संरचना वाले एक यौगिक के चमत्कारिक गुण होते हैं जो आलस भगाता है। यह यौगिक आलसी जीवन शैली और वसा युक्त भोजन के बावजूद आपको छरहरा बनाता है।

 

 

एक प्रयोग में चूहे को नियासीन की संरचना वाले इस यौगिक निकोटिनामाइड राइबोसाइड (एनआर) की अधिक खुराक दी गई साथ ही उसे उच्च वसायुक्त भोजन भी दिया गया। लेकिन एनआर के असर से चूहा मोटा नहीं हुआ। साथ ही उसके मांसपेशियों की क्षमता भी बढ़ गई। और तो और एनआर ने उसे मधुमेह से भी बचाए रखा। साथ ही इसका इसका कोई अन्‍य नुकसान भी नहीं देखा गया।

 

 

वैज्ञानिकों की एक टीम ने इस रिसर्च को अंजाम दिया। चूहे को एनआर की खुराक देने में वील कॉर्नेल मेडिकल कॉलेज के वैज्ञानियों की मदद ली गई। इन्‍होंने इस यौगिक की खोज में महत्चपूर्ण भूमिका निभाई थी।

 

 

वील कॉर्नेल मेडिकल कॉलेज के फार्मेकोलॉजी के सहायक प्रोफेसर एंथोनी सॉव ने कहा, ''यह प्रयोग बहुत महत्वपूर्ण है। इससे पता चलता है कि जानवरों में एनआर के उपयोग के वही फायदे हैं, जो कम कैलोरी युक्त भोजन और व्यायाम से मिलते  हैं, भले ही वे अधिक कैलोरी युक्त भोजन लिया जाए और व्‍यायाम भी न किया जाए।''

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK