वजन नहीं घट रहा है तो भी ना छोड़ें कसरत

Updated at: Jan 18, 2016
वजन नहीं घट रहा है तो भी ना छोड़ें कसरत

क्‍या हो जब करसत करने के बाद भी वजन कम न हो। तो, क्‍या करसत करनी छोड़ दी जाए जानने के लिए पढ़े।

Gayatree Verma
एक्सरसाइज और फिटनेसWritten by: Gayatree Verma Published at: Jan 12, 2016

कसरत का पहला लक्ष्‍य वजन घटाना होता है। लेकिन, क्‍या हो जब करसत करने के बाद भी वजन कम न हो। तो, क्‍या करसत करनी छोड़ दी जाए। और फिर रोजमर्रा की उसी आरामतलबी पर लौट जाया जाए। जी नहीं, कसरत करने से भले ही आपका वजन कम न हो, लेकिन इसके और कई फायदे हैं। हाल ही में हुई एक स्‍टडी बताती है कि कसरत दिल को सेहतमंद रखती है, भले ही आपका वजन कम हो या नहीं। इसका दूसरा पहलू यह है कि वजन कम करना भी दिल की सेहत के लिए फायदेमंद है, बेशक आप कसरत न करते हों।

व्यायाम

हॉवर्ड मेडिकल स्‍कूल की ओर से की गयी स्‍टडी में यह बात निकलकर सामने आयी है। स्‍टडी में बताया गया है कि वजन बढ़ने की सूरत में भी आपको अपनी फिटनेस बनाए रखने की जरूरत है। अगर आप ऐसा कर पाते हैं, तो आपको उन लोगों की अपेक्षा दिल की बीमारी का खतरा कम है, जिनका वजन भी आप जिनता ही बढ़ रहा है, मगर वे अपनी फिटनेस पर मेहनत नहीं करते। स्‍कूल के डॉ. आइ-मिन ली स्‍टडी के परिणाम को रोचक और उत्‍साहित करने वाला बताते हैं।

 

 

कसरत के फायदे

डॉ. ली के मुताबिक, करसत करने से आपकी धड़कनों की रफ्तार सही रहती है, ना ज्‍यादा कम और ना ज्‍यादा तेज। सिम्‍पैथिक नर्वस सिस्‍टम पर भी कसरत का अच्‍छा असर पड़ता है। इसका फायदा यह होता है कि धड़कनों की गति कम रखने में मदद मिलती है और दिल बेहतर काम करता है। व्‍यायाम रक्‍तचाप भी नियंत्रित रहता है। कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर भी नियंत्रण में रहता है। शरीर में ग्‍लूकोज को पचाने की क्षमता भी बढ़ती है। इससे डायबिटीज का खतरा भी कम होता है। अगर कसरत करने के बाद भी आपका वजन कम नहीं हो रहा है तो भी कसरत के फायदे तो आपको मिलते ही हैं। हालांकि, वजन कम नहीं होने की सूरत में अधिकतर लोग कसरत करनी छोड़ देते हैं क्‍योंकि उन्‍हें इसके दिखाई देने वाले परिणाम नजर नहीं आते।

 

 

एक्टिव रहें

जो लोग आमतौर पर कसरत नहीं करते, उन्‍हें धीमी शुरुआत करनी चाहिए। उन्‍हें अपनी गति और कसरत का वक्‍त भी धीरे-धीरे बढ़ाना चाहिए। हफ्ते में ढाई घंटे कोई शारीरिक गतिविधि करने का लक्ष्‍य बनाएं। इसके लिए चाहें तो वॉकिंग भी की जा सकती है। हफ्ते में पांच दिन रोजाना आधा घंटा पैदल चलना सेहत के लिहाज से अच्‍छा रहेगा। इसके साथ ही अगर वक्‍त की कमी के चलते आप एक साथ तीस मिनट नहीं चल सकते हैं, तो 10-10 मिनट करके दिन में तीन बार सैर की जा सकती है। कुछ लोगों को 10 से तीस मिनट तक पहुंचने में कुछ वक्‍त लग सकता है, लेकिन कुछ जल्‍द ही इस स्थिति में पहुंच सकते हैं।

 

Read more articles on Pain Management in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK