• shareIcon

मोटे होने का डर आपको भी तो नहीं सताता? मनोवैज्ञानिक इसे 'ओबेसोफोबिया' कहते हैं, जानें क्या है ये

Updated at: Dec 05, 2019
अन्य़ बीमारियां
Written by: शीतल बिष्‍टPublished at: Dec 05, 2019
मोटे होने का डर आपको भी तो नहीं सताता? मनोवैज्ञानिक इसे 'ओबेसोफोबिया' कहते हैं, जानें क्या है ये

Obesophobia: बहुत से लोगों में वजन बढ़ने का डर होता है, जिसकी वजह से वह अपने खानपान में लापरवाही बरतते हैं, आइए हम आपको बताते हैं ऐसा क्‍यो होता है। 

ओबेसोफोबिया वजन बढ़ने का डर, जो का एक असामान्य डर है और खतरनाक हो सकता है। ओबेसोफोबिया शब्द की उत्पत्ति ग्रीक शब्द के ओबेस (वसा) से हुई है और फोबिया (जिसका अर्थ है डर)। इस फोबिया से पीड़ित लोग अन्य मनोवैज्ञानिक विकार विकसित कर सकते हैं, जैसे एनोरेक्सिया (खाने से इनकार करना), बुलिमिया (खाने के तुरंत बाद फेंकना) और अधिक वजन वाले या मोटे लोगों से नफरत करना शुरू कर सकते हैं। 

ओबेसोफोबिया से पीड़ित व्यक्ति को कुछ भी खाने में बहुत मुश्किल हो सकती है, जो उनके द्वारा पालन की जाने वाली सख्त आहार योजना का हिस्सा नहीं है। बाहर जाने और रेस्‍टोरेंट में खाने के दौरान उन्हें बहुत परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। समय पर इलाज न होने पर वजन बढ़ने का यह डर जानलेवा बन सकता है। आइए हम आपको बताते हैं इस फोबिया से जुड़े कारण लक्षण और उपायों के बारे में। 

क्‍यों होता है ओबेसोफोबिया ?

डॉ. बिनीता प्रियंबदा, सीनियर कंसल्टेंट कहती हैं, कि ओबेसोफोबिया भी अन्य फोबिया की तरह दर्दनाक घटनाओं और आंतरिक पूर्वानुमानों के संयोजन से उत्पन्न होता है। एक व्यक्ति जिसे हमेशा अतीत में मोटापे से ग्रस्त होने के लिए उकसाया गया हो, वह इस भय से पीड़ित हो सकता है। हालांकि, जीवन के अनुभवों के साथ संयुक्त होने पर मस्तिष्क की आनुवंशिकता, आनुवांशिकी और रसायन विज्ञान, ओबेसोफोबिया के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

इसे भी पढें: जिम और डाइटिंग का चक्कर छोड़ें, खाली समय में डांस करके भी तेजी से घटा सकते हैं वजन

ये 7 सं‍केत हैं ओबेसोफोबिया की ओर इशारा 

जो भी एक स्वस्थ आहार नियम का पालन कर रहा है, वह ओबेसोफोबिया से पीड़ित नहीं है। इसके लक्षण कई बार सामान्‍य से लग सकते हैं। आमतौर पर ओबेसोफोबिया से पीडि़त व्‍यक्ति में निम्‍न लक्षण देखने को मिलते हैं- 

  • किसी सख्‍त आहार योजना का पालन करने के साथ ओबेसोफोबिक लोग जरूरत से ज्‍यादा कसरत करते हैं।
  • सिर्फ फिट और स्लिम रहने के लिए खुद को भूखा रख सकते हैं। 
  • वे तर्कहीन रूप से वजन के बारे में चिंतित हो सकते हैं, जबकि वास्तविकता में वे कुछ पाउंड बहा सकते हैं और उन्‍हें वजन घटाने की ज्‍यादा कोई जरूरत नहीं होती।
  • ओबेसोफोबिक लोगों में अक्सर कम आत्मविश्वास और बहुत कम आत्मसम्मान होता है। 
  • वजन बढ़ने का उनका डर उन्हें सामाजिक रूप से अजीब बना सकता है और उन्हें दूसरों के साथ स्वस्थ संबंध बनाने से रोक सकता है। 
  • इसके अलावा, गलत अवयवों और कैलोरी की संख्या की आशंका के कारण ओबेसोफोबिक लोग दूसरों द्वारा पकाया गया कुछ भी खाने में सक्षम नहीं हो सकते हैं। ये लोग जहां भी जाते हैं, अपना खुद का भोजन ले जाते हैं। 
  • कई मामले में, जब एक ओबेसोफोबिक व्यक्ति को बाहर कुछ भी खाना पड़ता है, तो ऐसे में वह असहज और चिंतित महसूस कर सकता है। जबकि कुछ मामलों में, ओबेसोफोबिक लोग बहुत कम खा सकते हैं, जिसकी वजह से वह विभिन्न पोषक तत्वों की कमी से पीड़ित हो सकते हैं।(दांतों की समस्या के बावजूद डॉक्टर के पास जाने से लगता है डर? जानें कुछ लोगों को क्यों होता है डेंटोफोबिया)

ओबेसोफोबिया का इलाज-डॉक्‍टर की राय 

डॉक्‍टर कहते हैं, ओबेसोफोबिया का कोई सटीक इलाज नहीं है। हालांकि, डॉक्‍टर रोगी को इस कारण की पहचान करने में मदद करने में सक्षम हो सकते हैं कि वे वजन बढ़ाने के बारे में इतने भयभीत क्यों हैं। इसके लिए एक मनोवैज्ञानिक / मनोचिकित्सक रोगियों को उनके डर के पीछे के कारण को पहचानने में मदद के लिए कई सेशन ले सकता है। ओबेसोफोबिक व्यक्ति को एक्सपोजर थेरेपी के लिए भी भेजा जा सकता है, जहां उन्हें अपने डर पर जीत पाने के लिए कैलोरी से भरपूर खानपान मरीज को देते हैं। 

कार्डियो भी है मददगार

इसके अलावा, ओबेसोफोबिक व्यक्ति को हल्के कार्डियो एक्‍सरसाइज करने को कहा जा सकता है, जो ज़ोरदार भार प्रशिक्षण को पीछे छोड़ देता है।

इसे भी पढें: खाली समय में रस्‍सी कूद करके घटाएं वजन, बढ़ेगा स्‍टैमिना और रहेंगे फिट

कैफीन का सेवन कम

रोगी को कैफीन की खपत को सीमित करने के लिए भी कहा जा सकता है क्योंकि इससे चिंता बढ़ जाती है। 

डायलेक्टिकल बिहेवियर थेरेपी

डीबीटी (डायलेक्टिकल बिहेवियर थेरेपी) ओबेसोफोबिया से जूझ रहे लोगों के लिए प्रभावी उपचार का दूसरा रूप है। गंभीर मामलों में, एंटी-साइकिक दवाएं और एंटीडिपेंटेंट्स को ओबेसोफोबिक रोगियों के लिए भी निर्धारित किया जा सकता है।

युवा लोग अक्सर अपने लुक और बॉडी की तरफ बहुत ध्यान देते हैं। सुंदर दिखने की ओर यह झुकाव एनोरेक्सिया और बुलिमिया जैसे विकारों की शुरुआत को जन्म दे सकता है। ऐसे में बच्चों के प्रति सतर्क दृष्टि रखें और शरीर के वजन के बारे में उनके दृष्टिकोण को ठीक करने में उनकी मदद करें।  अगर आप इस परिस्थिति से निपटने में असमर्थ हों, तो मनोवैज्ञानिक से मदद लेना समझदारी होगी।

Read More Article on Other Diseases In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK