डेंगू ही नहीं मच्छर के काटने से फैलती हैं 6 घातक बीमारियां, जानें किस मच्छर के काटने से फैलती है कौन सी बीमारी

Updated at: Jun 30, 2020
डेंगू ही नहीं मच्छर के काटने से फैलती हैं 6 घातक बीमारियां, जानें किस मच्छर के काटने से फैलती है कौन सी बीमारी

मानसून नजदीक है और उसमें फैलनी वाली बीमारियां भी। इसलिए ध्यान रखें कि आप मच्छरों से दूर रहें क्योंकि ये घातक बीमारियां फैलाते हैं।

Jitendra Gupta
अन्य़ बीमारियांWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Jun 30, 2020

चिलचिलाती गर्मी के दो महीने झेलने के बाद हम सभी मानसून के आने का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन यह प्यारा मौसम अपने साथ कई बीमारियों को भी लाता है जो मच्छरों के काटने के माध्यम से फैल सकती हैं। अगर समय पर इलाज न किया जाए तो इनमें से कुछ बीमारियां आपके लिए गंभीर और घातक भी हो सकती हैं। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह बीमारियां 2014 और 2016 के बीच कीड़ों द्वारा तीन गुनी रफ्तार से फैली थीं। इस लेख में हम आपको मच्छरों के काटने से होने वाली कुछ बीमारियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें जानना आपके लिए बहुत ज्यादा जरूरी है।  

dengue

क्यूलेक्स मच्छर के काटने से फैलता है जापानी इंसेफेलाइटिस    

जापानी इंसेफेलाइटिस एक ऐसी बीमारी है जो क्यूलेक्स मच्छरों द्वारा फैल सकती है। एशिया में इस बीमारी के अधिकतम मामले सामने आते हैं। रोग के लक्षणों में बुखार और सिरदर्द शामिल हैं। एक शोध के मुताबिक,  250 में से एक व्यक्ति में ऐंठन, भटकाव और पक्षाघात जैसे गंभीर लक्षण विकसित होते हैं। टीका लगवाना जापानी इंसेफेलाइटिस के खिलाफ एकमात्र प्रभावी सुरक्षा है।

एशियन टाइगर मच्छर के काटने से फैलता है जीका वायरस

एडीज एल्बोपिक्टस मच्छर जीका वायरस को फैला सकता है। इसके लक्षणों में लाल आंखें, थकान और मांसपेशियों में दर्द शामिल हैं। ज्यादातर लोग जो इस वायरस से संक्रमित होते हैं, बिना किसी गंभीर जटिलता के ठीक हो जाते हैं। गर्भवती महिलाओं में ये वायरस मां से भ्रूण में फैल सकता है। इस बीमारी को रोकने के लिए, पूरी आस्तीन के कपड़े पहनना और मच्छरदानी के नीचे सोना या मच्छर रिपलेंट का उपयोग करना सबसे अच्छा है।      

इसे भी पढ़ेंः    मच्‍छर के काटने पर राहत पाने में मददगार है इन 3 तरीकों से केले के छिलके का इस्‍तेमाल

malaria

एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से हो सकता है डेंगू बुखार 

एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से डेंगू बुखार हो सकता है। वायरस से संक्रमित होने वाले लोग ज्यादातर तीन से 14 दिनों में लक्षण दिखाते हैं। डेंगू बुखार के लक्षण फ्लू जैसे होते हैं और कुछ दिनों के बाद गायब हो जाते हैं। अपने आप को डेंगू होने से बचाने का एकमात्र तरीका है कि आप पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें और मच्छर भगाने वाली क्रीम का इस्तेमाल करें।

एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से होता है पीला बुखार भी 

डेंगू बुखार के अलावा एडीज एजिप्टी मच्छर भी पीले बुखार का कारण बन सकता है। पीले बुखार के लक्षण बुखार, सिरदर्द, पीलिया और मांसपेशियों में दर्द हैं। संक्रमित होने के चार से छह दिनों के बाद लक्षण बेहतर होते हैं। कुछ लोगों को नाक, मुंह या पेट से रक्तस्राव जैसे गंभीर लक्षण हो सकते हैं। उन क्षेत्रों में यात्रा करने की योजना बनाने से पहले टीका लगवाना सबसे अच्छा है, जहां पीले बुखार की सूचना दी गई है। ये बबीमारी अफ्रीका और अमेरिका के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में अधिक पाई जाती है।                  

इसे भी पढ़ेंः  मच्छरों से फैलने वाली 6 बड़ी बीमारियों से कैसे बचें? जानें इन बीमारियों से होने वाले खतरे

एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से हो सकता है चिकनगुनिया 

एडीज एजिप्टी मच्छर चिकनगुनिया नामक एक अन्य बीमारी को फैलाने के लिए भी जाना जाता है। चिकनगुनिया के लक्षण मच्छर द्वारा काटे जाने के दो से 14 दिनों के बीच दिखाई देते हैं। सामान्य लक्षणों में बुखार, शरीर में दर्द, सिरदर्द, त्वचा पर चकत्ते और मतली शामिल हैं। जोड़ों का दर्द कई हफ्तों से लेकर महीनों और सालों तक भी रह सकता है। पूरी आस्तीन के कपड़े पहनना और मच्छर भगाने का उपयोग मच्छरों को दूर रखने में मदद कर सकता है।

एनोफिलीज मच्छर के काटने से होता है मलेरिया        

मादा एनोफेलीज मच्छरों को मलेरिया फैलाने के लिए जाना जाता है। वे संक्रमित रक्त पीने से इस खतरनाक बीमारी पैदा करने वाले परजीवी को पकड़ लेते हैं। मलेरिया के लक्षणों में बुखार, ठंड लगना और सिरदर्द शामिल हैं। अगर समय पर इलाज न किया जाए तो यह बीमारी जानलेवा हो सकती है।

   

 Read More Article On Other Diseases In Hindi  

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK