दिमाग को खत्‍म कर सकता है धूम्रपान

Updated at: Dec 26, 2012
दिमाग को खत्‍म कर सकता है धूम्रपान

एक नए शोध में सामने आया है कि धूम्रपान आपके दिमाग को कमजोर बनाता है जिससे सोचने व समझने की शक्ति कम हो जाती है।

 ओन्लीमाईहैल्थ लेखक
लेटेस्टWritten by: ओन्लीमाईहैल्थ लेखकPublished at: Nov 26, 2012

dimag ko khatam kar sakta hai dhumrapan

सिगरेट के धुएं का छल्‍ला किसी स्‍टाइल को नहीं दर्शाता, बल्कि इससे सेहत को बड़ा नुकसान जरूर पहुंचता है।

 

धूम्रपान कई बीमारियों की जड़ है, इस बात को हम सभी जानते हैं। कैंसर से लेकर दिल की कई बीमारियों की वजह सिगरेट का धुआं होता है। अगर सिगरेट छोड़ने के लिए यही वजह काफी नहीं, तो अब आपके पास एक और कारण है इस चीज को मुंह न लगाने का। ताजा अध्‍ययन में सामने आया है कि धूम्रपान का नकारात्‍मक असर इंसान के सोचने समझने की क्षमता पर भी पड़ता है। इस अध्ययन के मुताबिक धम्रमान से दिमाग के सोचने-समझने की क्षमता पूरी तरह खत्म हो सकती है।




 

किंग्स कॉलेज, लंदन के शोधकर्ताओं ने 50 साल से अधिक उम्र के सैकड़ों लोगों की जीवनशैली का अध्ययन करने के साथ ही उनके दिमाग की जांच की। इसमें पाया गया कि धूम्रपान से रक्तचाप और मोटापा बढ़ने के साथ ही इससे दिमाग पर काफी नकारात्मक असर होता है।


खबरों के मुताबिक शोध में शामिल लोगों ने नए शब्द सीखने और कुछ अन्य बातों का प्रशिक्षण लिया। इसके चार और 10 साल बाद इनके दिमाग की जांच की गई जिसमें पता चला कि सीखने-समझने की क्षमता और धूम्रपान का सीधा ताल्लुक है।


वैज्ञानिकों का कहना है कि लोगों को इसको लेकर जागरूक रहने की जरूरत है कि खराब जीवनशैली से दिमाग और शरीर दोनों को नुकसान पहुंच सकता है।


Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK