• shareIcon

दिल के रोगियों के लिए फायदेमंद है पैरों की मसाज

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 16, 2012
दिल के रोगियों के लिए फायदेमंद है पैरों की मसाज

दिल के मरीजों के लिए पैरों की मसाज काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। इससे रोगी के शरीर में रक्त की आपूर्ति ठीक से होती है।

dil ke rogiyon ke liye faydemand hai pairo ki massageदिल के मरीजों के लिए पैरों की मसाज काफी फायदेमंद हो सकती है। डॉक्टरों ने ऐसे पैर मसाज की पद्धति खोज निकाली है जिसमें ब्लड प्रेशर मशीन की सहायता से अतिरिक्त रक्त की आपूर्ति होती है और रोगी को आराम मिलता है। लुधियाना के अस्पताल में चिकित्सकों ने पैर की मसाज से हृदय रोग में राहत का दावा किया है। इस पद्धति में पैरों को बांध दिया जाता है और ब्लड प्रेशर मशीन की सहायता से अतिरिक्त रक्त की आपूर्ति की जाती है।

 

इसे भी पढ़े : दिल की सेहत के लिए घटाएं वजन

 

इनहांस एक्सटर्नल काउंटर पल्सेशन (ईईसीपी) थिरेपी का आम तौर पर चीन जैसे देशों में प्रयोग किया जाता है। इस पद्धति में पैर के बांधने से हृदय बेहतर पोषण के लिए वाहिकाओं से अतिरिक्त दबाव के साथ रक्त का संचारण करता है। सिबिया मेडिकल सेंटर के सुखबिंदर सिंह सिबिया ने कहा, `इस पद्धति के दौरान मरीज को लगता है कि वह मसाज करा रहा है। ईईसीपी उन मरीजों के लिए विकल्प उपलब्ध कराता है जो धार्मिक, आर्थिक एवं अन्य कारणों से बाइपास सर्जरी नहीं कराना चाहते।`

 

इसे भी पढ़े: हृदय रोग के लिए योग

 

इस पद्धति को यूएस फूड एंड ड्रग एडनिस्ट्रेशन ने 1995 में मान्यता दी थी। अमेरिका में पांच से सात हफ्ते के ईईसीपी सत्र का खर्च सात हजार से नौ हजार डॉलर के बीच आता है जो बाइपास सर्जरी में खर्च का दसवां हिस्सा है। भारत में यह थेरेपी 30 केंद्रों पर उपलब्ध है और इस पर औसतन खर्च 80 हजार रुपये के आसपास आता है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK