World Asthma Day 2020 : बच्‍चों से लेकर बड़ों में होने वाले अस्‍थमा के 10 प्रकार, जानें क्‍या हैं?

Updated at: May 05, 2020
World Asthma Day 2020 : बच्‍चों से लेकर बड़ों में होने वाले अस्‍थमा के 10 प्रकार, जानें क्‍या हैं?

World Asthma Day 2020: विश्‍व अस्‍थमा दिवस पर जाने अस्‍थमा के 10 प्रकार क्‍या-क्‍या हैं।   

Sheetal Bisht
अस्‍थमा Written by: Sheetal BishtPublished at: Jun 29, 2017

हर प्राणी को जीवित रहने के लिए हवा पानी के साथ ऑक्‍सीजन यानि सांस की जरूरत होती है। व्‍यक्ति के जीवन का आधार ही सांस है और जब इंसान को सांस लेने में दिक्‍कत होने लगती है, तो इस स्थिति को दमा या अस्‍थमा रोग कहते हैं। अस्‍थमा रोगियों को सांस लेने में दिक्‍कत होती है और कभी-कभी अचानक सांस रूक जाने से दम घुटने लगता है। अस्‍थमा फेफड़ों को खासा रूप से प्रभावित करता है। इसके कारण व्‍यक्ति को श्‍वसन संबंधी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। दमा आजकल केवल बुर्जुगों और व्‍यस्‍कों में ही नहीं बल्कि युवाओं और बच्‍चों में भी देखने को मिल रहा है।  बच्‍चों और बड़ों में होने वाला अस्‍थमा एक ही प्रकार का होता है। लेकिन इसके अलावा दमा या अस्‍थमा कई प्रकार के होते हैं। आइए हम आपको बताते हैं दमा के विभिन्‍न प्रकारों के बारे में। 
 
 

एलर्जिक अस्थमा

एलर्जिक अस्थमा के दौरान आपको किसी चीज से एलर्जी है जैसे धूल-मिट्टी के संपर्क में आते ही आपको दमा हो जाता है या फिर मौसम परिवर्तन के साथ ही आप दमा के शिकार हो जाते हैं।

नॉनएलर्जिक अस्थमा

इस तरह के अस्थमा का कारण किसी एक चीज का एक्सिक्ट्रीम पर जाने से ऐसा होता है। जब आप बहुत अधिक तनाव में हो  या बहुत तेज-तेज हंस रहे हो, आपको बहुत अधिक सर्दी लग गई हो या बहुत अधिक खांसी-जुकाम हो। 

मिक्सड अस्थमा

इस प्रकार का अस्थमा किन्हीं भी कारणों से हो सकता है। कई बार ये अस्थमा एलर्जिक कारणों से तो है तो कई बार नॉन एलर्जिक कारणों से। इतना ही नहीं इस प्रकार के अस्थमा के होने के कारणों को पता लगाना भी थोड़ा मुश्किल होता है।

एक्सरसाइज इनड्यूस अस्थमा

कई लोगों को एक्सरसाइज या फिर अधिक शारीरिक सक्रियता के कारण अस्थमा हो जाता है तो कई लोग जब अपनी क्षमता से अधिक काम करने लगते हैं तो वे अस्थमा के शिकार हो जाते हैं।

कफ वेरिएंट अस्थमा

कई बार अस्थमा का कारण कफ होता है। जब आपको लगातार कफ की शिकायत होती है या खांसी के दौरान अधिक कफ आता है तो आपको अस्थमा अटैक पड़ जाता है।

इसे भी पढें: अस्थमा के कारण हर दिन होती हैं हजारों मौतें, एक्सपर्ट से जानें बचाव के टिप्स

ऑक्यूपेशनल अस्थमा

ये अस्थमा अटैक अचानक काम के दौरान पड़ता है। नियमित रूप से लगातार आप एक ही तरह का काम करते हैं तो अकसर आपको इस दौरान अस्थमा अटैक पड़ने लगते हैं या फिर आपको अपने कार्यस्थल का वातावरण सूट नहीं करता जिससे आप अस्थमा के शिकार हो जाते हैं।

नॉक्टेर्नल यानी नाइटटाइम अस्थमा

ये अस्थमा का ऐसा प्रकार है जो रात के समय ही होता है यानी जब आपको अकसर रात के समय अस्थमा का अटैक पड़ने लगे तो आपको समझना चाहिए कि आप नॉक्टेर्नल अस्थमा के शिकार हैं।

मिमिक अस्थमा

जब आपको कोई स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी कोई बीमारी जैसे निमोनिया, कार्डियक जैसी बीमारियां होती हैं तो आपको मिमिक अस्थमा हो सकता है। आमतौर पर मिमिक अस्थमा तबियत अधिक खराब होने पर होता है।

इसे भी पढें: गर्मी में सांस के मरीजों की लापरवाही बन सकती है अस्थमा अटैक का कारण, जानें कैसे

चाइल्ड ऑनसेट अस्थमा

ये अस्थमा का वो प्रकार है जो सिर्फ बच्चों को ही होता है। अस्‍थमैटिक बच्चा जैसे-जैसे बड़ा होता जाता है तो बच्चा इस प्रकार के अस्थमा से अपने आप ही बाहर आने लगता है। ये बहुत रिस्की नहीं होता लेकिन इसका सही समय पर उपचार जरूरी है।

एडल्ट ऑनसेट अस्थमा

ये अस्थमा युवाओं को होता है। यानी अकसर 20 वर्ष की उम्र के बाद ही ये अस्थमा होता है। इस प्रकार के अस्थमा के पीछे कई एलर्जिक कारण छुपे होते हैं। हालांकि इसका मुख्य कारण प्रदूषण, प्लास्टिक, अधिक धूल मिट्टी और जानवरों के साथ रहने पर होता है।

Read More Articles On Asthma In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK