• shareIcon

खानपान जो करे हृदय सम्बन्धी समस्याओं को कम

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य By Bharat Malhotra , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 03, 2013
खानपान जो करे हृदय सम्बन्धी समस्याओं को कम

दिल सम्‍बन्‍धी समस्‍याओं से बचने के लिए जरूरी है कि आप स्‍वस्थ आहार का सेवन करें। दिल के लिए फायदेमंद आहार के बारे में जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

हम सब जानते हैं कि कुछ आहार हमारे दिल की सेहत के लिए अच्‍छे नहीं होते। लेकिन, इसे जानते हुए भी हम उन खाद्य पदार्थों का मोह नहीं छोड़ पाते। आखिर अपनी जीभ के स्‍वाद को बदल पाना इतना आसान कहां होता है। लेकिन, आप अगर अपने दिल को सेहतमंद रखना चाहते हैं, तो अपने खानपान की आदत को दुरुस्‍त रखना ही होगा।

 

diets reduces the risk of heart diseasesसेहतमंद रहने के लिए यह जानना जरूरी है कि आखिर कौन से खाद्य पदार्थ आपके लिए फायदेमंद हैं और किन्‍हें खाने से आपको जरा परहेज करना चाहिए। चलिए जानते हैं कि कौन से ऐसे आहार हैं जो आपको एक स्‍वस्‍थ और तंदुरुस्‍त दिल की सौगात दे सकते हैं।

 

ताजे फल यानी सेहत का खजाना

फल विटामिन और मिनरल के उच्‍च स्रोत होते हैं। इनमें कैलोरी की मात्रा तो बेहद कम होती है, लेकिन फाइबर काफी मात्रा में पाया जाता है। फल कार्डियोवस्‍कुलर डिजीज को दूर रखने में महती भूमिका निभाते हैं। अगर आप फलों का सेवन अधिक करेंगे तो आपका दिल तंदुरुस्‍त रहेगा। इसके साथ ही आप उच्‍च वसा से भरपूर खाद्य पदार्थों से भी दूर रहेंगे। सेब, अनार, आम आदि फलों में उच्‍च मात्रा में फाइबर और विटामिन होते हैं।

 

सब्‍जियों का सलाद, सेहत का स्‍वाद

कुछ सब्जियों, जैसे गाजर, शलजम, टमाटर आदि को आप कच्‍चा भी खा सकते हैं और भूख लगने पर इन्‍हें स्‍नैक्‍स की तरह इस्‍तेमाल किया जा सकता है। सब्जियों में फोलेट की मात्रा अधिक पाई जाती है जो होमोंसिस्‍टरीन ​​के स्तर को कम करती है। सब्जियां जैसे पालक, सलाद, असपरैगस, ब्रोकोली को अपने डाइट में शामिल करना चाहिए। टमाटर में लाइकोपीन पाया जाता है जो दिल का दौरा पड़ने के खतरे को कम कर देता है।

 

फाइबर युक्‍त साबुत अनाज

साबुत अनाज में खनिज, प्रोटीन, विटामिन जैसे पदार्थ पाए जाते हैं जो दिल को स्वस्थ रखते हैं। अलसी जैसे साबुत अनाज में फाइबर और ओमेगा-थ्री फैटी एसिड होता है। इससे कोलेस्‍ट्रोल नियंत्रित रहता है। अलसी के बीजों को पीसकर इसे दही या अन्‍य खाद्य पदार्थों के साथ इस्‍तेमाल कर सकते हैं। घुलनशील फाइबर भोजन करने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर में कमी आती है। जई, जौ, ब्राउन राइस, रोटी और दाल जैसे सेम, मसूर और मटर को भी शामिल करें।

 

लाजवाब बादाम

बादाम में पॉलीनुयूट्रेंस, मोनो, पॉलीअनसेचुरेटेड फैट आदि होता है। यह दिल के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यह खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और विटामिन और फाइबर प्रदान कर दिल को स्वस्थ रखता है। बादाम में ओमेगा थ्री फैटी एसिड भी होता है जो कोलेस्‍ट्रोल को कम कर हृदय की कार्य प्रणाली को सुचारू रूप से काम करने में मदद करता है। इसके साथ ही बादाम आपके मस्तिष्‍क के लिए भी फायदेमंद होता है।

 

रेड वाइन

रेड वाइन आपको दिल की बीमारियों से दूर रखती है। यह ब्‍लड प्‍यूरीफायर का काम करती है। रेड वाइन को अंगूर से बनाया जाता है। जिसमें एचडीएल जैसे प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट (अच्छा कोलेस्ट्रॉल) और पॉलीफिनॉल, होता है जो रक्त वाहिकाओं को साफ करता है जिससे ब्‍लॉकेज का खतरा टलता है। यदि आप रेड वाइन पसंद नहीं करते तो आपके लिए अंगूर का रस एक स्वस्थ विकल्प है। रेड वाइन दिल के साथ-साथ आपकी त्‍वचा के लिए भी बहुत लाभकारी होती है।

 

कोलेस्‍ट्रोल और अस्‍वास्‍थ्‍यकर फैट से रखें दूरी

कोलेस्‍ट्रोल की अधिक मात्रा रक्‍तवाहिन‍ियों में रुकावट पैदा कर सकती है। इससे हृदयाघात और स्‍ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के मुताबिक आप जितनी कैलोरी रोजाना लेते हैं उसमें संतृप्‍त वसा की मात्रा सात फीसदी से अधिक नहीं होनी चाहिए। वहीं ट्रांस फैट में यह मात्रा महज एक फीसदी तक होनी चाहिए। एक स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति को रोजाना 300 मिलीग्राम से अधिक कोलेस्‍ट्रोल नहीं लेना चाहिए।

 

खाने पर रखें काबू

सेहतमंद रहने के लिए सिर्फ यह जानने की जरूरत नहीं है कि क्‍या खाया जाए, बल्कि कितना खाया जाए यह जानना भी बेहद जरूरी है। अपनी प्‍लेट में सीमित भोजन ही लें। सब कुछ भर लेना अच्‍छी आदत नहीं। आवश्‍यकता से अधिक खाने से आप गैरजरूरीअधिक कैलोरी, वसा और कोलेस्‍ट्रोल जमा कर लते हैं। खाते समय इस बात का ध्‍यान रखें कि अपनी प्‍लेट में उतना ही भोजन लें, जो आपको नुकसान न पहुंचाए। तैलीय और जंक फूड आदि आपकी कमर और दिल दोनों के लिए नुकसानदेह है।

 

 

 

Read More Articles On Heart Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK