• shareIcon

डायबिटीज के कारण होती है हर छह सेकेंड में एक मौत

लेटेस्ट By एजेंसी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Nov 15, 2013
डायबिटीज के कारण होती है हर छह सेकेंड में एक मौत

डायबिटीज एक गंभीर समस्या बन चुकी है। चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार डायबिटीज के कारण हर छह सेकेंड में एक मौत होती है।

डायबिटीज के रोगियों की संख्या दिन प्रति दिन बढ़ती ही जा रही है। और इस लिहाज से डायबिटीज को एक महामारी कहना गलत न होगा। हाल ही में इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन ने भी 'डायबिटीज एटलस' का अपना छठा संस्करण प्रस्तुत किया।

Diabetes Takes a Lifeइसमें चिकित्सा विशेषज्ञों ने बताया कि विश्व में डायबिटीज के कारण हर छह सेकेंड में एक मृत्यु होती है। यही नहीं इस साल दुनिया में डायबिटीज पीड़ितों की संख्या 38.2 करोड़ हो चुकी है। इन रोगियों में टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों कि संख्या सबसे ज्यादा है। विशेषज्ञों के अनुसार 2030 तक भारत में डायबिटीज पीड़ितों की संख्या दुनिया में सबसे ज्या हो चुकी होगी।

 

 

इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन ने अपने आंकड़े प्रस्तुत करते हुए जानकारी दी कि जहां भारत में डायबिटीज पीड़ितों की संख्या 2012 में 37 करोड़ थी, वहीं 2035 तक इसमें 55 फीसदी की बढ़ोतरी होने की आशंका है। वहीं पूरे विश्व में यह संख्या 59.2 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान है।

 

 

विशेषज्ञों का मानना है कि विकाशशील देशों में लोगों के शहरी जीवनशैली के प्रति आकर्शण और रुझान के चलते यह बीमारी ज्यादा पकड़ बना रही है। साथ ही उन्होंने बताया कि जागरुकता की कमी और इस बीमारी से लड़ाई के लचर प्रयासों से कारण इसके घातक प्रभावों से लड़ने में हम काफी पीछे छूटते जा रहे हैं।

 

 

डायबिटीज के हर साल 51 लाख लोगों को अपने जीवन से हाथ धोना पड़ रहा है। डायबिटीज के रोगियों में रक्त शर्करा का स्तर अपर्याप्त होता है, जिसके कारण आंखों, किड़नी और दिल जैसे महत्वपूर्ण अंगों को गंभीर जोखिम पैदा हो सकता है।


 

Read More Health News in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।