Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

Diabetes Management: जानें क्या है गुड़मार और ये कैसे सही करता है डायबिटीज, पढ़ें पूरी जानकारी

डायबिटीज़
By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 14, 2019
Diabetes Management: जानें क्या है गुड़मार और ये कैसे सही करता है डायबिटीज, पढ़ें पूरी जानकारी

Diabetes Management: गुड़मार के पत्तों में फ्लेवोनोइड्स, सिनामिक एसिड, फोलिक एसिड और एस्कॉर्बिक एसिड की उपस्थिति के कारण यह एंटीऑक्सिडेंट गुणों में उच्च होते हैं। ये चीजें डायबिटीज का इलाज करने में मदद करती हैं।

गुड़मार (Gurmar or Gymnema Sylvestre) एक उष्णकटिबंधीय (Tropical plant) पौधा है जो भारत के लिए एक स्वदेशी औषधीय पेड़ के रूप में काम करता है। अपने आयुर्वेदिक गुणों के लिए जाना जाने वाला, गुड़मार मधुमेह, मलेरिया और यहां तक कि सांप के काटने और पाचन संबंधी समस्याओं जैसी विभिन्न बीमारियों के प्रबंधन में भी फायदेमंद साबित हुआ है। गुड़मार के पत्तों में फ्लेवोनोइड्स,  सिनामिक एसिड, फोलिक एसिड और एस्कॉर्बिक एसिड की उपस्थिति के कारण यह एंटीऑक्सिडेंट गुणों में उच्च होते हैं। 

जर्नल ऑफ हर्ब्स, स्पाइसेज एंड मेडिसिनल प्लांट्स में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि गुड़मार डायबिटीज रोगियों में शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह जिम्नेमिक एसिड, जिम्नेमासाइड्स, एन्थ्राक्विनोन, फ्लेवोन, हेंट्रिएकॉन्टेन, पेंटाट्रिएकॉन्टेन, फाइटिन, रेजिन, टार्टिन, रेजिन, फॉर्मिक एसिड, ब्यूटिरिक एसिड, ल्यूपॉल और अल्कालॉइड जैसे जिमनाइन, जो इसे एंटीडायबिटिक गुणों से समृद्ध बनाते हैं। 

WebMD के अनुसार, “गुड़मार में ऐसे पदार्थ होते हैं जो आंत से शुगर के अवशोषण को कम करते हैं। गुड़मार शरीर में इंसुलिन की मात्रा को भी बढ़ा सकता है और अग्न्याशय में कोशिकाओं के विकास को बढ़ा सकता है, जो शरीर में इंसुलिन बनता है।“

gudmaar

ऐसा कहा जाता है कि दोपहर और रात के खाने के आधे घंटे बाद पानी के साथ एक चम्मच पीसा हुआ गुड़मार के पत्ते शरीर में कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, जड़ी बूटी में जिम्नेमिक एसिड आपकी जीभ पर शुगर रिसेप्टर्स को अवरुद्ध करता है, जिससे आपको मिठास का स्वाद लेने की क्षमता कम हो जाती है। इससे शुगर कम हो सकती है।

रिसर्च के मुताबिक, यह जड़ी बूटी वजन घटाने में सहायता के लिए जाना जाता है यह दर्शाता है कि 12 सप्ताह तक पत्तियों का सेवन करने से अधिक वजन वाले लोगों में शरीर के वजन और बॉडी मास इंडेक्स को कम करने में मदद मिल सकती है। 

ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने के कुछ आसान उपाय- How To Control Blood Sugar  

ग्लाइसेमिक-इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ

ग्लाइसेमिक इंडेक्स को उन खाद्य पदार्थों के लिए शरीर की रक्त शर्करा प्रतिक्रिया का आकलन करने के लिए विकसित किया गया था जिनमें कार्ब्स होते हैं। कम ग्लाइसेमिक-इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों को खाने से टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज में दीर्घकालिक रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों में सी फूड, मांस, अंडे, जई, जौ, सेम, दाल, फलियां, शकरकंद, मक्का और अधिकांश फल और गैर-स्टार्च वाली सब्जियां शामिल हैं।

खानपान सही रखें

उच्च कार्ब वाली चीजों का सेवन न करें। फाइबर युक्त आहार का सेवन ज्यादा करें। पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं। फल और सब्जियों का सेवन ज्यादा करें। इससे आपका ब्लड शुगर प्राकृतिक रूप से नियंत्रित रहेगा।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज रोगियों में अधिक होता है हृदय रोगों का खतरा, जीवनशैली में ये 5 बदलाव बचा सकते हैं जान 

नियमित व्यायाम करें 

नियमित व्यायाम आपको वजन कम करने और इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ाने में मदद कर सकता है। इंसुलिन संवेदनशीलता में वृद्धि का मतलब है कि आपकी कोशिकाएं आपके रक्तप्रवाह में उपलब्ध शुगर को सही रखने में मदद करती है। व्यायाम आपकी मांसपेशियों को ऊर्जा और मांसपेशियों के संकुचन के लिए रक्त शर्करा का उपयोग करने में भी मदद करता है।

इसे भी पढ़ें: रोजाना की 2 नाशपाती आपका ब्‍लड शुगर रखेगी कंट्रोल, जानें डायबिटीज से बचने के अन्‍य उपाय

तनाव कम करें 

तनाव आपके ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकता है। तनाव के दौरान ग्लूकागन और कोर्टिसोल जैसे हार्मोन स्रावित होते हैं। इन हार्मोनों के कारण ब्लड शुगर लेवल बढ़ता है। एक अध्ययन से पता चला है कि एक्सरसाइज और मेडिटेशन तनाव में कमी लाता है और मधुमेह में इंसुलिन स्राव की समस्याओं को ठीक करता है। इसके लिए भरपूर नींद भी जरूरी है।

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Written by
Rashmi Upadhyay
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागAug 14, 2019

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK