• shareIcon

Diabetes Management: रोजाना की 2 नाशपाती आपका ब्‍लड शुगर रखेगी कंट्रोल, जानें डायबिटीज से बचने के अन्‍य उपाय

डायबिटीज़ By अतुल मोदी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 08, 2019
Diabetes Management: रोजाना की 2 नाशपाती आपका ब्‍लड शुगर रखेगी कंट्रोल, जानें डायबिटीज से बचने के अन्‍य उपाय

Diabetes Management: क्‍या आप अपना ब्‍लड शुगर नियंत्रित नहीं कर पा रहे हैं? तो आपको रोजाना 2 नाशपाती (Pears) खाने की जरूरत है। इसके अलावा कुछ अन्‍य उपाय हैं जिसकी मदद से आप अपनी समस्‍या का समाधान क

हमारे रक्‍त प्रवाह (Bloodstream) में स्‍वाभाविक रूप से शुगर (Sugar) मौजूद होता है जो शरीर की प्रत्‍येक कोशिकाओं को उर्जा प्रदान करता है। इस शुगर (ग्‍लूकोज) को इंसुलिन प्रबंधित करता है। इंसुलिन एक हॉर्मोन है, जब हमारे शरीर में रक्‍त शर्करा यानी ब्‍लड शुगर (Blood sugar) बढ़ जाता है तो इंसुलिन (Insulin) इसे प्रबंधित करने के लिए श्रावित होता है। टाइप-2 डायबिटीज (Type-2 Diabetes) तब होता है जब आपका शरीर पर्याप्‍त इंसुलिन नहीं बनाता है, या आपके शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के लिए सामान्य रूप से प्रतिक्रिया नहीं करती हैं, जिसे इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है। यह हाई ब्‍लड शुगर का कारण बनता है और एनर्जी सेल को खाने लग जाती हैं। समय के साथ, हाई ब्‍लड शुगर संवेदनशील ऊतकों को नुकसान पहुंचाता है, जैसे कि आंख और किडनी। 

डायबिटीज आपके शरीर में हृदय रोगों सहित कई घातक बीमारियों का जोखिम बढ़ा सकती है। यदि आपका ब्‍लड शुगर नियंत्रण में नहीं है तो स्थिति बिगड़ सकती है। आप जो कुछ भी खाते हैं वह आपके रक्त शर्करा में योगदान देता है, इसलिए अपने खाद्य पदार्थों को सावधानी से चुनें। फल, विशेष रूप से उच्च फाइबर युक्‍त नाशपाती, मधुमेह रोगियों के खाने के लिए एक अच्छा भोजन है।

how-to-stay-safe-from-diabetes-in-hindi 

ब्‍लड शुगर को नियंत्रित रखने के लिए नाशपाती का सेवन फायदेमंद हो सकता है। नाशपाती की एक और वरायटी है जिसे बब्‍बूगोशा कहते हैं। यह दोनों आपके ब्‍लड शुगर लेवल का अच्‍छी तरह से प्रबंधन करते हैं। नाशपाती स्‍वादिष्‍ट और मीठा होता है। इसका आकार गोलाकार होता है। लोग प्राचीन काल से इसका सेवन कर रहे हैं। यह खाने में क्रिस्‍प और सॉफ्ट होता है। यह न सिर्फ खाने में स्‍वादिष्‍ट होता है बल्कि इसके कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी हैं। डायबिटीज में भी लें फलों का मजा

नाशपाती क्यों? Why Pears?

हर किसी के पाचन तंत्र को कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता होती है, और हर भोजन में फाइबर, प्रोटीन या वसा के साथ कार्बोहाइड्रेट को संतुलित करना अच्छा होता है। कार्बोहाइड्रेट को संतुलित करने से ग्लूकोज के अवशोषण की दर कम हो जाती है, इसलिए आपके ब्‍लड शुगर लेवल में अचानक वृद्धि नहीं होती है। अच्छे कार्बोहाइड्रेट विकल्प वे हैं जिनमें पहले से ही यह पोषक तत्व होते हैं, जैसे कि फाइबर युक्त फल और सब्जियां।

नाशपाती पोषक तत्‍वों से युक्‍त होता है। प्रत्येक मध्यम आकार की नाशपाती में 6g फाइबर, जो आपकी दैनिक जरूरत का 24% है। यह विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत होते हैं। हर दिन दो नाशपाती खाने से आपके फलों की ज़रूरतें पूरी होती हैं। 

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज रोगियों में अधिक होता है हृदय रोगों का खतरा, जीवनशैली में ये 5 बदलाव बचा सकते हैं जान

क्या फलों में चीनी नहीं होती है? Doesn’t Fruit Contain Sugar?

कभी-कभी लोग सोचते हैं कि फल में स्वाभाविक रूप से चीनी होती है, इसलिए फल खाना मधुमेह के प्रबंधन के लिए उचित नहीं है। जबकि यह सच नहीं है! फल विटामिन, खनिज, जल और फाइबर से भरे होते हैं। इनमें सभी महत्वपूर्ण पोषक तत्व और अधिकांश फलों को कम ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स खाद्य पदार्थ (Low glycemic index food) माना जाता है। दरअसल, फाइबर में उच्च खाद्य पदार्थ, जैसे कि नाशपाती खाने से आपको मीठे का स्‍वाद भी मिलेगा और आपका ब्‍लड शुगर लेवल भी नहीं बढ़ेगा। 

इसे भी पढ़ें: ब्‍लड शुगर लेवल को तुरंत कंट्रोल करती है लाल प्‍याज, जानें सेवन का तरीका

ब्‍लड शुगर नियंत्रित रखने के लिए क्‍या करें? How to manage blood sugar?  

नियमित रूप से आहार योजना को फॉलो करें, एक्‍सरसाइज करें और एक जगह ज्‍यादा देर तक बैठे या लेट न रहें। सही समय पर दवाएं लेना और अपने रक्त शर्करा के स्तर को ट्रैक करना आपको अपने मधुमेह का प्रबंधन करने में मदद करेगा। दरअसल, हो सकता है कि आप स्वस्थ होकर और नियमित रूप से व्यायाम करके अपने मधुमेह को नियंत्रित कर सकें। ज्यादातर लोगों को हर दिन 3 बार भोजन और 2 से 3 स्‍नैक्‍स लेने से लाभ होता है।

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK