• shareIcon

महिलाओं में डायबिटीज के कारण हार्ट फेल्योर का खतरा ज्यादा, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की रिसर्च में हुआ खुलासा

लेटेस्ट By Anurag Gupta , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 22, 2019
महिलाओं में डायबिटीज के कारण हार्ट फेल्योर का खतरा ज्यादा, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की रिसर्च में हुआ खुलासा

डायिबटीज पुरुषों से ज्यादा महिलाओं के लिए खतरनाक हो सकता है। रिसर्च बताती है कि टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज होने पर महिलाओं में हार्ट फेल (Heart Failure) होने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। जानें इसका कारण।

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिसका कोई इलाज नहीं है। डायबिटीज के कारण कई तरह के रोगों का खतरा बढ़ जाता है, जिनमें दिल की बीमारियां भी प्रमुख हैं। मगर हाल में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की रिसर्च बताती है कि डायबिटीज के कारण पुरुषों से ज्यादा खतरा महिलाओं को होता है। महिलाओं में डायबिटीज, हार्ट फेल्योर के खतरे को कई गुना बढ़ा देता है। ये रिसर्च 1 करोड़ 20 लाख लोगों पर की गई है। इस रिसर्च में पाया गया है कि डायबिट की शिकार महिलाओं के हार्ट फेल होने का खतरा, पुरुषों से ज्यादा होता है।

टाइप-1 डायबिटीज वालों को ज्यादा खतरा

रिसर्च में यह भी पाया गया कि दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा टाइप-1 डायबिटीज के मरीजों को ज्यादा होता है। आंकड़ों के अनुसार टाइप 1 डायबिटीज के मरीजों में हार्ट फेल्योर का खतरा 47% ज्यादा होता है, जबकि टाइप 2 डायबिटीज में ये खतरा 9% के लगभग होता है। ये रिसर्च ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के जॉर्ज इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ के शोधकर्ताओं ने की, और इसे European Association for the Study of Diabetes के ‘Diabetologia’ नाम के जर्नल में छापा गया है।

इसे भी पढ़ें:- क्या प्यार में दिल टूटने से भी बढ़ता है कैंसर का खतरा? जानें कैंसर और 'ब्रोकेन हार्ट सिंड्रोम' में संबंध

दुनिया में 4 अरब 15 करोड़ डायबिटीज के मरीज

आपको जानकर हैरानी होगी कि डायबिटीज दुनिया की सबसे बड़ी बीमारियों में गिना जाता है, क्योंकि पूरी दुनिया में इसके मरीज बहुत अधिक संख्या में पाए जाते हैं। International Diabetes Federation के अनुसार इस समय पूरी दुनिया में 4 अरब 15 करोड़ लोग (4,150,000,000) डायबिटीज का शिकार हैं। जिनमें से लगभग 2 अरब महिलाएं हैं, यानी लगभग आधी संख्या महिला डायबिटीज मरीजों की है।

डायबिटीज के कारण दिल की बीमारी का खतरा

यह पहले भी तमाम रिसर्च में बताया जा चुका है कि डायबिटीज होने पर दिल की बीमारियों का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है, लेकिन इस नए रिसर्च के अनुसार इसका खतरा महिलाओं को ज्यादा होता है। इस शोध से डॉक्टरों को महिला डायबिटीज मरीजों के इलाज में एक नई दिशा मिलेगी, जिससे वो सही समय पर हार्ट से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम करने का प्रयास कर पाएंगे।

इसे भी पढ़ें:- छोटे बच्चों के लिए खतरनाक हो सकता है 'चांदीपुरा वायरस', गुजरात में 5 साल की बच्ची की मौत

महिलाओं में डायबिटीज की अवधि 2 साल ज्यादा

इस शोध को सहलेखक Sanne Peters के अनुसार महिलाओं में डायबिटीज के कारण दिल के रोगों का खतरा ज्यादा होने के कई कारण है। "महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा प्रीडायबिटीज की अवधि 2 साल ज्यादा होती है। शायद यही कारण हो कि महिलाओं में हार्ट फेल होने का खतरा ज्यादा होता हो। इसके अलावा एक अन्य कारण यह भी है कि ज्यादातर देशों में महिलाओं के स्वास्थ्य पर पुरुषों की अपेक्षा कम ध्यान दिया जाता है, जिससे रोग इलाज से पहले काफी हद तक बढ़ चुका होता है।"

Read more articles on Health News in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK